बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

आईजी के इम्तिहान में कोतवाली पुलिस फेल

Pilibhit Updated Sat, 09 Feb 2013 05:31 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
पीलीभीत। वार्षिक मुआयने के दूसरे दिन शुक्रवार को पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) ने परेड के साथ पुलिस लाइंस का निरीक्षण कर नवनिर्मित महिला थाना और पुलिस अस्पताल का उद्घाटन किया। आईजी के मुआयने में शहर कोतवाली फेल रही। निरीक्षण के दौरान खामियां मिलने पर आईजी ने नाराजगी जताई।
विज्ञापन

शुक्रवार को आईजी मुकुल गोयल सुबह आठ बजे पुलिस लाइंस पहुंचे, जहां उन्होंने परेड की सलामी ली। बाद में परेड में शामिल दो महिला टोली समेत आठ टोलियों का निरीक्षण किया। एक टोली को ठीक ढंग से कमांड न करने पर सीओ जहानाबाद को फटकार लगाई। उन्होंने होने वाली परेड में सभी सीओ को भी शामिल होने के निर्देश दिए। परेड निरीक्षण के बाद आईजी ने आरटीसी भोजनालय देखा और वहां बने भोजन का स्वाद चखा। बैरक, एसएमटी कार्यालय, आवासी कॉलोनी, आरमरी, मैगजीन कक्ष का निरीक्षण कर अभिलेख देखे और आवश्यक जानकारी ली। नवनिर्मित महिला थाना और पुलिस अस्पताल का फीता काटकर उद्घाटन किया। करीब साढ़े 11 बजे आईजी शहर कोतवाली पहुंचे।

उन्होंने सबसे पहले बने आवासों और वहां रखे बिसरों की बाबत जानकारी ली। बिसरे की टंगी एक पोटली पर केस नंबर आदि अंकित न मिलने पर उन्होंने जब जानकारी मांगी तो कोतवाल जवाब नहीं दे सके। नाराज आईजी ने नाराजगी जताई। उन्होंने वर्ष 2011 से लावारिस खड़े वाहनों की नीलामी कराने के निर्देश दिए।
इस मौके पर एसपी अमित वर्मा, एएसपी डॉ. अरविंद भूषण पांडे, सीओ सिटी दिनेश कुमार शर्मा, सीओ जहॉनाबाद बसंत लाल मौजूद रहे।
00
जब निरुत्तर हुए कोतवाल
आईजी जब कोतवाली पहुंचे तो उन्होंने कोतवाल से कोतवाली बनने का सवाल दागा तो वह जवाब न दे सके। कोतवाली परिसर में बने आवासों की संख्या भी वह सही न बता सके। इस पर आईजी बिफर गए और उन्होंने उनसे नाराजगी जताई।
00
आईजी ने पकड़ा चौकी इंचार्ज का झूठ
शिकायत रजिस्टर पर निस्तारित लिखी एक शिकायत पर आईजी ने ठेका पुलिस चौकी इंचार्ज राकेश सिंह को तलब किया और पहले पूरी विस्तृत जांच न लिखने पर फटकार लगाई। बोले: क्या मौके पर शिकायत की जांच करने गए थे। जवाब हां में मिलने पर उन्होंने सीओ सिटी से सेलफोन पर वादी से हैंड फ्री कर बात कराई। वादी ने चौकी इंचार्ज के मौके पर आने की बात नकार दी और चौकी पर बुलाकर राजीनामा कराने की बात कही। झूठ पकड़े जाने पर चौकी इंचार्ज के चेहरे की रंगत बदल गई।
आईजी की शतरंजी चाल में मात खा गए अफसर
पीलीभीत। दो दिवसीय वार्षिक मुआयने पर आए आईजी की शतरंजी चाल में जिले के अफसर मात खा गए। तू डाल-डाल मैं पात-पात की तर्ज पर आईजी ने निरीक्षण कार्यक्रम ऐन मौके पर बदलकर पुलिसिंग की जमीनी हकीकत परखी, जिससे अधिकारियों के चेहरे की हवाइयां उड़ गईं। आईजी के निरीक्षण से यह बात साफ हो गई कि आठ दस वर्षों से अफसरों ने कोतवाली का वार्षिक निरीक्षण कर महज खानापूरी की।
शहर में सुनगढ़ी थाना और शहर कोतवाली है। करीब आठ वर्षों से जब भी कोई मुआयना हुआ तो जिले के आला अफसरों ने सुनगढ़ी थाने का ही निरीक्षण कराया। शहर कोतवाली का मुआयना कराने या फिर करने की अधिकारियों ने जहमत नहीं उठाई। अगर शहर कोतवाली के रिकार्ड पर गौर करें तो करीब आठ सालों से आईजी और डीआईजी ने शहर कोतवाली का निरीक्षण नहीं किया। लंबे अंतराल के बाद आईजी मुकुल गोयल का यह कोतवाली का पहला निरीक्षण था। जिले में दो दिवसीय वार्षिक मुआयने पर आए आईजी मुकुल गोयल ने पहले तो शहरी क्षेत्र में न्यूरिया और देहात क्षेत्र के माधोटांडा थाने का निरीक्षण प्रस्तावित किया था। निरीक्षण के एक दिन पूर्व उन्होंने दोनों थानों के स्थान पर शहर का सुनगढ़ी और देहात क्षेत्र का बिलसंडा थाना प्रस्तावित कर दिया। सात फरवरी को थाना बिलसंडा का मुआयना कर आईजी जब जिला मुख्यालय पहुंचे तो उन्हें फिर शतरंजी चाल खेली और देर शाम थाना सुनगढ़ी के स्थान पर शहर कोतवाली का निरीक्षण का फरमान सुना दिया। इससे अधिकारियों की धड़कने तेज हो गईं। अधिकारियों ने आननफानन में मुआयने की तैयारियां तेज करा दी। शहर कोतवाल समेत सभी दरोगा, मुंशी और पुलिसकर्मी अधूरे रिकार्ड और व्यवस्था दुरुस्त करने में पूरी रात डटे रहे। इसके बाद भी सच्चाई मुआयने के दौरान आईजी के सामने आ गई। आईजी ने माना कि यह जिले के पुलिस अधिकारियों की लापरवाही है, जिन्होंने कोतवाली का निरीक्षण तो कई बार किया, लेकिन महज खानापूर्ति की है।

00

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us