व्यवस्था के खिलाफ मुखर हुए स्वर

Pilibhit Updated Tue, 11 Dec 2012 05:30 AM IST
पीलीभीत। शहर में सोमवार का दिन धरना प्रदर्शनों के नाम रहा। व्यवस्था से असंतुष्ट लोगों ने कलेक्ट्रेट और तहसील परिसर में धरना प्रदर्शन किया। भाकपा ने सरकारी योजनाओं का लाभ पात्रों तक न पहुंचने के विरोध में तहसील परिसर में धरना दिया। मदरसा अनुदेशकों ने डेढ़ वर्ष से मानदेय का भुगतान न होने के विरोध में सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य व्यापी आह्वान पर सोमवार को कार्यकर्ताओं ने तहसील परिसर में धरना दिया। सरकारी योजनाओं का लाभ पात्रों तक पहुंचाने समेत अनेक मांगों को लेकर राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन तहसीलदार को सौंपा गया।
भाकपा जिला सचिव चिरौंजीलाल यादव के नेतृत्व में कार्यकर्ता तहसील परिसर में एकत्रित हुए। वहां कार्यकर्ताओं ने धरना शुरू कर दिया। जोरदार नारेबाजी के बीच सभा की गई। कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए श्री यादव ने कहा कि देश की सरकारें चुनाव से पूर्व किए वायदों को भूल पूंजीपतियों के आगे नत्मस्तक हो जाती हैं। जिसकी वजह से गरीबों और दलितों के लिए घोषित योजनाओं का लाभ पात्रों तक नहीं पहुंचता। किसानों की सब्सिडी बंद की जा रही है। पेट्रोलियम पदार्थो के दाम आसमान छूृ रहे हैं। मेहनतकश को दो वक्त की रोटी जुटाने के लाले हैं। ऐसा व्यवस्था के खिलाफ देशवासी एकजुट होकर जन आंदोलन करें। पीतांबर दास, रोधश्यामत प्रेमी, मंगली प्रसाद, भीमसेन शर्मा ने भी विचार व्यक्त किए। सभा के बाद राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन तहसीलदार सदर को सौंपा गया। इस मौके पर रामचन्द्र वर्मा, टेक चन्द्र वर्मा, किशनलाल, मानश्री देवी व दिगंबर देव समेत काफी लोग थे।
मदरसा अनुदेशकों को बीते डेढ़ वर्ष से मानदेय का भुगतान नहीं किया जा रहा है, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति दयनीय हो गई है। सोमवार को मदरसा अनुदेशक एसोसिएशन के सदस्यों ने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा।
सर्व शिक्षा अभियान के तहत शिक्षा नवाचार योजना में जिले के मान्यता प्राप्त मदरसों में अनुदेशक बच्चों को शिक्षा प्रदान कर रहे हैं। जिले में कार्यरत करीब 200 अनुदेशकों को अप्रैल 2011 से मानदेय का भुगतान नहीं किया जा रहा है। जिससे इनके परिवार आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं। सोमवार को मदरसा अनुदेशक एसोसिएशन के बैनर तले कलेक्ट्रेट पहुंचे अनुदेशकों ने शिक्षा परियोजना निदेशक को संबोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा। ज्ञापन में डेढ़ वर्ष का रुका हुआ मानदेय का भुगतान कराने, मानदेय नियमित रूप से देने, मानदेय में वृद्धि कर 10 हजार रुपये करने, शिक्षा विभाग में होने वाली नियुक्तियों में शिक्षा मित्रों की भांति अनुदेशकों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने की मांग की गई है। ज्ञापन सौंपने वालों में मोहम्मद असिफ , तंजीम, तौहीद खां, निशा सक्सेना, इश्तियाक अहमद, जलील अहमद, खुर्शीद खां, राहत अली, असलम, नईम, मोहसिन व जावेद बेग थे।

Spotlight

Most Read

Champawat

एसएसबी, पुलिस, वन कर्मियों ने सीमा पर कांबिंग की

ठुलीगाड़ (पूर्णागिरि) में तैनात एसएसबी की पंचम वाहिनी की सी कंपनी के दल ने पुलिस एवं वन विभाग के साथ भारत-नेपाल सीमा पर सघन कांबिंग कर सुरक्षा का जायजा लिया।

21 जनवरी 2018

Related Videos

पीलीभीत पुलिस को हाथ लगी बड़ी सफलता, धर दबोचा ये शातिर गैंग

यूपी के पीलीभीत में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पीलीभीत पुलिस ने कई राज्यों में वाहन चोरी को अंजाम दे रहे एक बड़े गैंग का धर दबोचा है। देखिए ये रिपोर्ट।

11 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper