ट्रक की टक्कर से बाइक सवार शिक्षकों की मौत

Pilibhit Updated Wed, 07 Nov 2012 12:00 PM IST
तीसरा साथी गंभीर घायल, बरेली रेफर

तीन घंटे तक पुलिस चौकी घेरी, जाम लगाया
पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के लगे नारे

सिटी रिपोर्टर
पीलीभीत। टनकपुर हाइवे पर मंगलवार की सुबह करीब साढ़े आठ बजे न्यूरिया की ओर से आ रहे बेकाबू ट्रक ने बाइक को टक्कर मार दी। नतीजतन बाइक पर सवार तीन अध्यापकों में से दो की मौत हो गई, जबकि तीसरा गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे गंभीर दशा में जिला अस्पताल से बरेली रेफर कर दिया गया है। दोनों मृतकों के पिता तहसील में संग्रह अमीन हैं। सिपाहियों के पीछा करने के बाद भी ट्रक भाग निकला, जिससे संग्रह अमीनों में गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए पुलिस चौकी घेर कर हाइवे पर जाम लगा दिया। तीन घंटे के बाद कार्रवाई के आश्वासन पर वह शांत हुए।
यह दर्दनाक हादसा मंगलवार की सुबह आठ बजे न्यूरिया-पीलीभीत हाइवे पर हुआ। शहर के निरजनकुंज कॉलोनी म के संग्रह अमीन शांति स्वरूप के 24 वर्षीय पुत्र नीरज सागर और अमीन सुभाष यादव के 25 वर्षीय पुत्र कमलेश और मुहल्ला डालचंद्र निवासी सत्यवीर के 30 वर्षीय पुत्र शरद न्यूरिया के बिस्मिल्ला कॉलेज में प्राइवेट अध्यापक थे। रोजाना की भांति तीनों लोग डिस्कवर बाइक से कॉलेज जा रहे थे। सुबह कचहरी से आगे पुरानी पीलीभीत के पास पहुंचते हुए सामने से बजरी से लदे आ रहे बेकाबू ट्रक ने टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि बाइक के अगला हिस्सा पूरी तरह ध्वस्त हो गया। नीरज और कमलेश ने मौके पर ही दम तोड़ दिया, जबकि शरद को सिर पर गुम चोटें आईं। बेकाबू ट्रक की रफ्तार इतनी तेज थी कि उसका डाला एक पेड़ पर ही लटका रह गया।
चालक मौके से ट्रक भगा ले गया, जबकि सूचना पर दो सिपाहियों ने ट्रक का कुछ दूरी तक पीछा भी किया था। मामले में अनियमितता बरतने का आरोप लगाते हुए अमीन और तहसील कर्मियों ने चौकी का घेराव करते हुए पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाए और हाइवे पर जाम लगा दिया। जाम की सूचना पर पहुंचे अधिकारियों ने कार्रवाई का आश्वासन दिया, तब लोग शांत हुए और तीन घंटे बाद जाम खुला।

00
बाइक के परखचे उड़े
ट्रक की टक्कर के बाद बाइक के परखचे उड़ गए। गाड़ी की शॉकर रॉड पूरी तरह से टूट गई थी। वहीं ट्रक का ऊपरी हिस्सा का डाला पेड़ पर लटक गया।
00
दो सिपाही लाइन हाजिर
सीओ सिटी दिनेश कुमार शर्मा ने बताया कि चौकी पर तैनात सिपाही अनुज कुमार शर्मा, हरिओम अग्निहोत्री को काम में लापरवाही पर लाइन हाजिर किया गया।
000
साइड स्टोरी :
शांति स्वरूप के घर का दूसरा चिराग भी बुझा
पिछली साल कैंसर से हुई थी बड़े बेटे की मौत
कमलेश की मौत पर सुभाष के परिवार में मचा कोहराम
दो परिवार की चीत्कारों से गूंज उठा मोरचरी परिसर
6 पीबीटीपी 7,8
सिटी रिपोर्टर
पीलीभीत। सड़क हादसे में दो युवकों की मौत से दोनों परिवारों में कोहराम मचा है। अपने लाडलों की मौत से परिवार के लोग टूट गए हैं। मंगलवार को दोनों मृतकों के परिजनों की चीत्कार से मोरचरी परिसर गूंज उठा। इस हृदय विदारक घटनाने हर किसी को झकझोर दिया है।
शहर के कालोनी निरंजन कुंज के शांतिस्वरूप तहसील में अमीन हैं। एक साल पहले उनके बड़े पुत्र राहुल की कैंसर से मौत हो गई। अब मझले बेटे नीरज की ड़क दुर्घटना में मौत हो गई। लगातार दो साल में परिवार के दो चिराग गुल होने से बदहवास कुसुमा देवी, बहन खुशबू और छोटा भाई रिंकू का रो-रोकर बुरा हाल था। नीरज की मौत पर मोरचरी में एकाएक परिवार के सभी लोग बेहोशी की हालत में हैं। दूसरी ओर तहसील कालोनी के अमीन सुभाष यादव के बड़ा पुत्र कमलेश अपनी मां सुनीता का लाड़ला था। बेटे की मौत से मां-बाप जमीनों पर सिर पीट-पीटकर रो रहे थे। आखिर इस घड़ी को भी उन्हें देखना होगा। यह उन्होंने सोचा नहीं था। छोटा बेटा मौसम मां-बाप को दिलासा देकर उन्हें समझाने में लगा था। मोरचरी परिसर में मौजूद दर्जनों की तादात में आसपास के लोग घंटों तक मौजूद रहे।
00
पुलिस गिरफ्त से दूर अज्ञात वाहनों के ड्राइवर
सिटी रिपोर्टर
पीलीभीत। अज्ञात वाहन की टक्कर से होने वाले हादसों में काल का ग्रास बनने वाले दर्जनों लोगों का कर्ज पुलिस पर बकाया है। अधिकांश घटनाओं में पुलिस अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ लापरवाही से वाहन चलाने की धाराओं में मुकदमा तो दर्ज कर लेती हैं, लेकिन गिरफ्तार नहीं कर पाती। जिले में इस समय यातायात माह चलाया जा रहा है। जिले की पुलिसिंग व्यवस्था कितनी जागरूक है इसका अंदाजा इसी घटना से लगाया जा सकता है।
0
बाइक सवार बनते हैं निशाना
अज्ञात वाहन की टक्कर से अधिकतर बाइक सवारों की मौत होती है। चूंकि चौपहिया वाहनों के ड्राइवर यातायात के नियमों डिपर, ब्रेक लाइट आदि का पालन करते हैं, लेकिन बाइक सवार नियमों को ताक पर रखे हुये जहां जगह मिली वहीं बाइक दौड़ा देते हैं। टीन एंजर्स का हाल तो सबसे ही ज्यादा खराब है।

0
नंबर ट्रेस कर होती जांच पड़ताल
टीएसआई योगेंद्र सिंह ने बताया कि दुर्घटना के बाद जिन वाहनों के नंबर ट्रेस हो जाते है। उनके ड्राइवरों को देरी से ही सहीं लेकिन पकड़ लिया जाता है, लेकिन जो दुर्घटनाएं रात में होती हैं, ऐसे वाहनों को पकड़ने में दिक्कत आती है। फिर भी आसपास के इलाके में लोगों से पूछताछ कर वाहन की स्थिति की जानकारी करते हैं।
0
शहर के एक्सीडेंट के डेथ प्वाइंटस
- कोतवाली क्षेत्र के जिला अस्पताल से सिटी हॉस्पिटल रोड का एक्सीडेंट
- गजरौला क्षेत्र का बिठौराकलां रोड
- पूरनपुर क्षेत्र के आसाम रोड से गढ़वाखेड़ा मार्ग
- बरखेडा क्षेत्र के ज्योरा कल्यानपुर मार्ग
- बीसलपुर का ईदगाह चौराहा
- सुनगढ़ी थाने का आसाम चौराहा
00
अब तक हादसों की एक नजर
वर्ष एक्सीडेंट घायल मृतक
2007 125 61 64
2008 219 150 92
2009 247 163 106
2010 270 175 102
2011 320 244 85
2012 210 185 105

Spotlight

Most Read

Lucknow

भयंकर हादसे के शिकार युवक ने योगी से लगाई मदद की गुहार, सीएम ने ट्विटर पर ये दिया जवाब

दुर्घटना में रीढ़ की हड्डी टूटने से लकवा के शिकार युवक आशीष तिवारी की गुहार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सुनी ली। योगी ने खुद ट्वीट कर उसे मदद का भरोसा दिलाया और जिला प्रशासन को निर्देश दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

पीलीभीत पुलिस को हाथ लगी बड़ी सफलता, धर दबोचा ये शातिर गैंग

यूपी के पीलीभीत में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पीलीभीत पुलिस ने कई राज्यों में वाहन चोरी को अंजाम दे रहे एक बड़े गैंग का धर दबोचा है। देखिए ये रिपोर्ट।

11 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper