बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

दलालों के हाथ में व्यवस्था, किसान भड़के

Pilibhit Updated Sun, 14 Oct 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
पीलीभीत। सरकार ने धान का समर्थन मूल्य 1280 रुपये घोषित किया है। सरकारी धान क्रय केन्द्र अभी सकारात्मक रूप नहीं ले पाए हैं और मंडियों में धान की आवक हो रही है। शनिवार को विभिन्न गांवों के किसान धान लेकर मंडी पहुंचे। आढ़तियों ने दलालों के माध्यम से 750 से 950 रुपये क्ंिवटल तक में धान खरीदा। नराज किसान डीएम से मिलने पहुंचे। भेंट न होने पर विधायक हेमराज वर्मा को समस्या से अवगत कराया। सोमवार तक समाधान न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी गई है।
विज्ञापन

शनिवार को गांव बलकरनपुर के अमरजीत सिंह, पाल सिंह, रक्षविंदर सिंह छिंदा, परमजीत सिंह, मथना जप्ती के परमजीत सिंह, चंदन सिंह, निर्मल सिंह, सपहा के परमजीत सिंह, पाल सिंह, गुलड़िया के हरजिंदर सिंह, दलजिंदर सिंह, रंजीत सिंह, चकपुर के निंदर सिंह, हरी सिंह त्रिलोक सिंह, इमलिया के रंजीत सिंह, सत्यपाल सिंह और भैरों खुर्द के हरपाल सिंह व सुखदेव सिंह सहित अनेक किसान मंडी में धान लेकर पहुंचे। मंडी में एक भी क्रय केन्द्र पर खरीद न होने के कारण किसानों को दलालों के जरिए 750-950 रुपये में धान बेचने को मजबूर होना पड़ा। गुस्साए लोगों ने पहले मंडी समिति सचिव से मामले की शिकायत की। संतोषजनक जवाब न मिलने पर वह डीएम से मिलने पहुंचे, लेकिन भेंट नहीं हो पाई। बाद में विधायक हेमराज वर्मा से मुलाकात कर शोषण की दास्तां सुनाते हुए खरीद व्यवस्था दुरुस्त करने की मांग की। किसानों का कहना है कि व्यवस्था में सुधार न हुआ तो बुधवार को मंडी में आंदोलन करेंगे।

पूरनपुर। मंडी में धान की आवक भारी मात्रा में होने के बावजूद धान खरीद केंद्रों पर अब तक खरीद शुरू नहीं की गई है। खाद्यान्न उत्पादन में तहसील क्षेत्र की भूमिका अग्रणी है। जिले की खाद्यान्न खरीद का करीब आधा लक्ष्य क्षेत्र से ही पूरा होता है। पिछले साल क्षेत्र में 33 केंद्र स्वीकृत थे। इस बार 25 केंद्र लगाए जाएंगे। धान खरीद एक अक्तूबर से शुरू करने की घोषणा हवा हवाई साबित हो रही है। अनेक केन्द्रों पर अब तक धान खरीद शुरू नहीं की गई। हालांकि कुछ स्थानों पर धान खरीद केंद्रों के बैनर लगा दिए गए हैं। मंडी में धान की आवक होने और खरीद की माकूल व्यवस्था न होने से किसानों को औने-पौने दामों में अपनी फसल की बिक्री करनी पड़ रही है। इसको लेकर किसानों में भारी रोष है। कई राइस मिलर्स सीधी धान खरीद तेजी से करने में जुटे हैं। जबकि कुछ धान माफिया औने-पौने दामों में धान खरीद कर स्टाक कर रहे हैं। धान खरीद शुरू न होने को लेकर अफसर धान में नमी होने का तर्क दे रहे हैं।
विरोध में पंद्रह को होगा प्रदर्शन
भाकियू के जिला उपाध्यक्ष मंजीत सिंह ने बताया कि धान की सीधी खरीद रुकवाने को एसडीएम को चार दिन पहले ज्ञापन दिया था। कोई ध्यान नहीं दिया गया। 15 अक्तूबर को ब्लाक कार्यालय परिसर में विशाल पंचायत होगी। धान खरीद शुरू न होने पर प्रदर्शन किया जाएगा। इधर पूर्व सपा जिलाध्यक्ष उमाशंकर यादव ने जिले में धान खरीद शुरू न होने पर मुख्यमंत्री से मिलकर इसकी शिकायत करने का निर्णय लिया है।
......विधायक हेमराज का वर्जन.......
केन्द्रों पर होगी खरीद व्यवस्था
कई गांवों के किसान मंडी में धान खरीद न होने की समस्या लेकर आए थे। उनकी शिकायत थी कि केन्द्रों पर धान खरीद नहीं हो रही है। किसानों का शोषण न हो, इसके लिए डीएम से वार्ता कर व्यवस्था कराई जाएगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us