अमरिया में डॉक्टर के घर 20 लाख का डाका

Pilibhit Updated Wed, 10 Oct 2012 12:00 PM IST
पत्नी से हाथापाई, परिजनों को बंधक बनाया
चार लाख की नगदी, गहने, रिवाल्वर भी ले गए
सोते रहे एसओ, सूचना के बाद भी नहीं किया पीछा
भुक्तभोगी ने डीआईजी को भी बताई हकीकत

पीलीभीत/ अमरिया। पेट्रो कारोबारी के घर पड़ी डकैती के सातवें दिन थाना और कस्बा अमरिया में डॉक्टर आवास पर तड़के आधा दर्जन बदमाशों ने धावा बोल परिजनों को बंधक बनाकर चार लाख की नगदी, गहने और रिवाल्वर समेत करीब 20 लाख की संपत्ति लूट ली। बदमाश डॉक्टर की ही लग्जरी कार से भाग निकले। बाद में उन्होंने कार उत्तराखंड में जाकर छोड़ दी। घटना से दहशत व्याप्त हो गई है। डीआईजी ने मौका मुआयना किया है।
घटना मंगलवार तड़के सुबह पांच बजे की है। कसबा निवासी डॉक्टर साबिर हुसैन के दो मंजिला मकान नेशनल हाइवे पर है। निचले तल पर क्लीनिक और ऊपरी तल पर वह परिवार समेत रहते हैं। डॉक्टर साबिर हुसैन के मुताबिक सुबह करीब पांच बजे पत्नी शहजादी बेगम चैनल का ताला खोलकर बाथरूम गईं थी। ताला खुलते ही पहले से मौजूद तीन नकाबपोश बदमाशों ने दबोच लिया। पत्नी के चीखने पर वह जब कमरे से बाहर निकले तो छिपे तीन बदमाशों ने उन्हें दबोच लिया। छीनाझपटी करने पर शहजादी बेगम के साथ बदमाशों ने हाथापाई की। आठ वर्षीय पुत्र उवैश 14 वर्षीय पुत्री इरम साबिर जब तक बाहर आतीं कि तब तक बदमाश दंपति को बंधक बनाकर कमरे में पहुंच गए और सभी को बाथरूम में ले जाकर बंद कर दिया।
एक घंटे लूटपाट करने के बाद चार लाख की नगदी, एक रिवाल्वर, 22 तोला सोना लूट लिया। बाद में बाहर खड़ी उनकी आई-टेन लग्जरी कार से भाग निकले। जाते वक्त बदमाशों का नकाब, पुरानी एक चादर, एक जोड़ी मोजे और एक छूुरा मौके पर छूट गया। बदमाशों की उम्र 18 से 25 के बीच बताई जा रही है। डॉक्टर की माने तो बदमाश पीछे की दीवार के सहारे घर में घुसे थे। बदमाश जिस वक्त घटना को अंजाम दे रहे थे उस वक्त कसबे के लोग मार्निंग वॉक के लिए निकले थे। लोगों को तनिक भी आभास नहीं हुआ। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक जाते वक्त बदमाश पड़ोस स्थित खजुरिया मजार पुलिया के निकट कार रोकी और वहां सेलफोन पर बात कर रहे एक साथी युवक को बैठाकर तेज रफ्तार में सितारगंज की ओर दौड़ गई। बदमाशों के जाने के चंद मिनट बाद पुलिस को सूचना दी गई।
बकौल डॉ साबिर एसओ अमरिया ताहिर हुसैन सो रहे थे। उन्होंने घटना को मानने से ही इनकार कर दिया। बाद में वह खुद एसओ के पास गए, लेकिन फिरभी वह नहीं आए। पुलिस तब आई, जब बदमाश काफी दूर निकल गए होंगे। डॉक्टर साबिर ने मौके पर पहुंचे डीआईजी से भी एसओ की शिकायत की। हफ्ते भर में दूसरी वारदात से पुलिस में हड़कंप मच गया। एसपी अमित वर्मा, एएसपी डॉ अरविंद भूषण पांडे समेत कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंच गई। फील्ड यूनिट प्रभारी राधारमण के नेतृत्व में पहुंची फोरेंसिक टीम ने फिं गरों के निशान लिए।

20 मिनट में निकल गई 30 किलोमीटर कार
डकैती की घटना को अंजाम देकर डॉक्टर की आई-टेन कार से भागे बदमाशों ने 20 मिनट में 30 किलोमीटर का सफर तय कर लिया। सवेरे 6.10 मिनट पर कार लेकर घर से निकले बदमाश 6.30 बजे उत्तराखंड के बरीगांव के निकट देखे गए। बताते हैं सितारगंज में डॉक्टर के परिचितों ने कार का पीछा किया, लेकिन रफ्तार अधिक तेज होने के कारण वह कामयाब नहीं हुए। पकड़े जाने के भय से बदमाश उत्तमनगर (उत्तराखंड) की एक बाग में कार छोड़कर भाग निकले। पुलिस ने कार को कब्जे में लिया है।

एक सेलफोन भी ले गए
लूटपाट के दौरान बदमाशों ने सबसे पहले डॉक्टर दंपति के दो सेलफोन अपने कब्जे में लिए, जिसमें से एक सेलफोन की तो बैटरी निकालकर अपनी जेब रख लिया, जिसे चलते वक्त घर में ही छोड़ गए, जबकि दूसरा सेलफोन बदमाश साथ ले गए।

कार के काले शीशे भागने में बने मददगार
डॉक्टर की कार के काले शीशे बदमाशों के भाग जाने में काफी मददगार साबित हुए। दरअसल इस कार को मोहल्ले के ही नहीं आसपास के इलाकों के लोग भी पहचानते थे। बदमाश जब कार घर के अंदर से कार निकाली तो वह बैक करते समय ईटों के लगे चट्टे से टकरा गई। इसी बीच पड़ोस का नासिर भी मार्निंगवॉक को अपने बच्चे के साथ कार के निकट आ गया। उसी के आंखों के सामने बदमाश कार को आगे-पीछे कर चले गए। उसे जरा सा भी आभास नहीं हो सका। बकौल नासिर: शीशे काले थे, इसलिए उसमें कौन था यह जान नहीं पाया। मैं तो समझा डॉक्टर साहब मरीज को देखने कहीं जा रहे हैं।

कौन था पुलिया पर खड़ा व्यक्ति
डॉक्टर के घर से सौ मीटर की दूरी पर खजुरिया पुलिया पर खड़ा सातवां आदमी आखिर कौन था? यह सवाल लोगों के जहन में गूंज रहा है। कसबे के लोगों के सामने पर सांवले रंग के इकहरे बदन का खड़ा यह युवक सेलफोन पर किसी से बात कर रहा था। लोगबाग उसे किसी के यहां आया मेहमान समझ रहे थे।

टीशर्ट और जींस पहने थे बदमाश
डॉक्टर दंपति ने बताया कि सभी बदमाश टीशर्ट और जींश की पैंट पहने हुए थे। सभी तमंचे, छुरे हाथों में पकड़े थे। पिछले मंगलवार को शहर के साहूकारा मोहल्ले में पेट्रो कारोबारी के घर हुई डकैती में शामिल बदमाश भी 20 से 25 वर्ष की उम्र के थे। इससे जाहिर होता है कि दोनों स्थानों पर एक ही गिरोह ने घटना को अंजाम दिया है।

कब-क्या हुआ
05.00 बजे : बाथरूम में जाने के लिए उठीं डॉक्टर की पत्नी को बदमाशों ने दबोचा।
05.05 बजे : हाथापाई के बाद पत्नी को बंधक बनाया।
05.07 बजे : डॉक्टर निकले तो दूसरे बदमाशों ने इन्हें दबोचा।
06.10 बजे : बदमाश सब कुछ समेटकर बाहर खड़ी आई-टेन कार से उत्तराखंड की ओर भागे।
06.12 बजे : डॉ साबिर ने अपने परिजन उमर भट्ठे वालों को सूचना दी।
06.17 बजे : उमर एसओ ताहिर हुसैन के आवास पर पहुंचकर सूचना दी, लेकिन वह सोते से जागे और बोले सुबह डकैती नहीं होती।
06.25 बजे: डॉक्टर खुद एसओ को पहुंचकर सूचना दी, लेकिन फिर भी उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की और घटना को झुठलाते रहे।
06.50 बजे : एसपी को सूचना देने के बाद एसओ मौके पर पहुंचे।

Spotlight

Most Read

Lucknow

भयंकर हादसे के शिकार युवक ने योगी से लगाई मदद की गुहार, सीएम ने ट्विटर पर ये दिया जवाब

दुर्घटना में रीढ़ की हड्डी टूटने से लकवा के शिकार युवक आशीष तिवारी की गुहार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सुनी ली। योगी ने खुद ट्वीट कर उसे मदद का भरोसा दिलाया और जिला प्रशासन को निर्देश दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

पीलीभीत पुलिस को हाथ लगी बड़ी सफलता, धर दबोचा ये शातिर गैंग

यूपी के पीलीभीत में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पीलीभीत पुलिस ने कई राज्यों में वाहन चोरी को अंजाम दे रहे एक बड़े गैंग का धर दबोचा है। देखिए ये रिपोर्ट।

11 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper