पांच नहीं 21 लाख की नगदी ले गए बदमाश

Pilibhit Updated Fri, 05 Oct 2012 12:00 PM IST
पीलीभीत। पेट्रो व्यवसायी आलोक गोयल उर्फ मिक्की गोयल के घर मंगलवार की रात पड़ी डकैती में पांच नहीं 21 लाख की नगदी बदमाश ले गए थे। लड्डू गोपाल की मूर्ति के बाद मिक्की बाबू को किसी बात का अफसोस है तो यह कि उनकी बिटिया को शादी में मिले नेग के करीब छह लाख रुपये भी बदमाश लूट ले गए।
मोहल्ला साहूकारा निवासी कारोबारी आलोक के यहां से बदमाश एक रिवाल्वर, एक पिस्टल और ज्वैलरी लूट ले गए थे। बृहस्पतिवार को उन्होंने अमर उजाला को बताया, बदमाशों की रॉड से घायल होने के बाद वह काफी कमजोरी महसूस कर रहे हैं। घर में पति-पत्नी ही रहते हैं। घटना के बाद से अब उनके तमाम रिश्तेदार आ गए हैं, लेकिन फिर भी दूसरे दिन वह ज्वैलरी का आंकलन नहीं कर पाए। वह बताते हैं कि एक बक्से में बिटिया देविका की 26 जून 2012 को हुई शादी में मिले नेग के करीब छह लाख रुपये थे, जो उनकी पत्नी को पता थी। वह भी बदमाश ले गए। पंप की चार दिन की बिक्री करीब 15 लाख भी थे जिन्हें बदमाश ले गए। इसके अलावा पत्नी की चूड़ियों के सेट, उनकी अंगूठी आदि तमाम जेवरात ले गए, जिसे अभी नहीं देख पाए हैं।
इनसेट..............
दूसरे दिन भी पुलिस के हाथ खाली
24 घंटे के बाद भी पुलिस के खाली हैं। सर्विंलांस और नई उम्र के अपराधियों का आपराधिक डाटा कलेक्ट कर पुलिस उनकी जानकारी जुटाने में जुट गई है। कुछ संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। उनसे पूछतांछ हो रही है। खुलासे में जुटी एसओजी समेत सभी टीमे अंधेरे में हाथपांव मार रही हैं।
उत्तराखंड समेत कई जगहों पर छापे
डीआईजी के आदेश पर घटना के खुलासे के लिए एक टीम सीओ सिटी दिनेश कुमार शर्मा, दूसरी कार्यवाहक कोतवाल फूल सिंह के नेतृत्व में गठित की गई थी। शहर कोतवाली की टीम ने न्यूरिया, मझोला और उत्तरांखड में छापेमारी कर बदमाशों की सुरागरशी की। सीओ सिटी की टीम ने शहर में संदिग्धों की टोह ली और उन पर नजर रखी। तीसरी एसओजी टीम सविलांस की मदद से मिल रही जानकारियों के मुताबिक बदमाशों की धरपकड़ कर रही है।
करीबियों पर है विवेचक की नजर
विवेचक श्यामलाल कश्यप का कहना है कि बदमाशों की उम्र 20 से 22 वर्ष के बीच बताई जा रही है। जिस अंदाज में घटना को अंजाम दिया है उससे यह साफ है कि बदमाश पेट्रो व्यवसायी से भली भांति परिचित थे और उन्हें घर की लोकेशन पूरी तरह से मालूम थी। इससे वारदात में कोई करीबी भी शामिल है। फिलहाल पुलिस इसे आधार मानकर अपनी विवेचना कर रही है।
मुहल्ले में सन्नाटा, कारोबारी के घर उमड़ रहे लोग
साहूकारा मुहल्ले में घटना के बाद से दहशत है। लोगबाग बिना जाने अपने घरों का दरवाजा भी नहीं खोलते। उधर कारोबारी आलोक गोयल के घर दिन भर लोगों के आने-जाने का क्रम जारी है।
फोरेंसिक टेक्नीशियन भी पहुंचे
डकैती के मौके पर बदमाशों के फिंगर प्रिंट आदि लेने के लिए बृहस्पतिवार को लखनऊ से फोरेंसिक एक्सपर्ट पहुंचे और दीवाल, चप्पलों, सामान, सीढ़ियों और छत से पैरों और उंगलियों के निशानों के प्रिंट लिए।

चार माह पहले साहूकारा में बनी थी लूट की योजना
तब पुलिस ने दिखाई थी तेजी, नहीं पकड़े गए थे बदमाश
पीलीभीत। शहर के घनी आबादी वाले विशाल भवनों से घिरे साहूकारा मोहल्ले में आलोक गोयल के घर डकैती की घटना अप्रत्याशित नहीं कही जा सकती। क्योंकि चार महीने पहले इस मकान से महज 10 कदम पर रहने वाले पंडित हरिओम मिश्रा के घर भी लूट की योजना बनाई गई थी। यह भनक तब पुलिस को लग गई थी और यहां 15 दिन तक सुरक्षा में जवान मुस्तैद किए गए थे, जिससे लूट की योजना तो विफल हो गई, लेकिन बदमाशों को नहीं पकड़ा जा सका था। अब मुहल्ले में हर कोई दहशतजदा है। लोगबाग दबी जुबान उसी योजना पर अब अमल होने की बात कह रहे हैं।
यह बात भुक्तभोगी आलोक गोयल ने भयभीत लफ्जों में खुद अमर उजाला को बताई। बोले, तब उनके मकान के आसपास शाम से लेकर देर रात तक और दिन में भी पुलिस नजर आने लगी थी। ऐसा लगता था जैसे किसी बड़े बदमाश के इंतजार में पुलिस डटी है, लेकिन कुछ दिनों बाद सब सामान्य हो गया। न कोई घटना हुई और न ही बदमाश पकड़ा गया। काश, तब बदमाश पकड़े जाते तो शायद उनके घर घटना नहीं होती। उधर, अपने घर लूट की योजना से पंडित हरिओम मिश्रा का परिवार आज भी भयभीत है। उस घटना की तारीख तो उन्हें याद नहीं, पर बताते हैं जब पहले दिन 10-12 सिपाही घर के बाहर लगे तो किसी की समझ में नहीं आया। पुलिस वाले सबको शाम होते ही दरवाजा बंद रखने की हिदायत दे रहे थे। बाद में जब उन्हें पता लगा कि उनके घर लूट होने वाली थी तो उनका परिवार कई दिन तक नहीं सोया। करीब 15 दिनों तक पुलिस ड्यूटी लगी। फिर सब सामान्य हो गया।
योजना की जानकारी पर एसपी की ‘चुप्पी’
साहूकारा मोहल्ले में चार माह पहले पंडित हरिओम मिश्रा के घर लूट की योजना बनी थी। अमर उजाला से यह बात सुनकर एसपी अमित वर्मा एकबारगी चुप्पी साध गए। फिर बोले, कहां से पता चला? पिकेट लगने की बात कहने पर बोले, इसकी जानकारी कराते हैं। बाद में सेलफोन पर बताया, मोहल्ले में कई दिनों तक पिकेट ड्यूटी लगाई गई थी, लेकिन मामला क्या था? इसकी जानकारी नहीं हो सकी है। कोई योजना बनी या नहीं। इसकी जांच कराएंगे। फिलहाल उन्हें खुद मामले की याद नहीं है।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

पीलीभीत पुलिस को हाथ लगी बड़ी सफलता, धर दबोचा ये शातिर गैंग

यूपी के पीलीभीत में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पीलीभीत पुलिस ने कई राज्यों में वाहन चोरी को अंजाम दे रहे एक बड़े गैंग का धर दबोचा है। देखिए ये रिपोर्ट।

11 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper