कभी भी यहां आ सकती है सीबीआई टीम

Pilibhit Updated Wed, 03 Oct 2012 12:00 PM IST
पीलीभीत। राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन घोटाले की जांच कर रही सीबीआई टीम कभी भी जिले में दस्तक दे सकती है। अधिकारियों के चेहरे पर इसका खौफ साफ दिख रहा है। सीएमओ कार्यालय के बाबू दस्तावेजों को दुरुस्त करने में जुट गए हैं।
एनआरएचएम योजना में प्रदेश में करीब पांच हजार के घोटाले के बाद सीबीआई टीम ने दबिशें देना शुरू की थी। प्रदेश स्तर पर अफसरों, ठेकेदारों के घर पड़े ताबड़तोड़ छापों ने हर किसी की नींद उड़ाकर रख दी। वर्ष 2011 के प्रारंभ में ही एनआरएचएम की बंदरबांट को लेकर मुखर विरोध शुरू होने लगा था। हुक्मरानों की अनदेखी की तो हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया। जिले में तैनात रहे पूर्व में एक सीएमओ और एक वरिष्ठ लिपिक का निलंबन भी काफी चर्चित रहा। तब से एनआरएचएम की फाइलों को सहेज कर रखे हैं। हर माह सीबीआई द्वारा विभाग से दवा खरीद से लेकर धरातल पर चल रही योजनाओं के क्रियान्वयन की रिपोर्ट मांगी जाती थी। इसी हफ्ते मंडल के जिले बदायूं से सीबीआई ने दवाओं के खरीद का विवरण मांगा है। इसी तर्ज पर सीबीआई की आने की धमक से स्वास्थ्य विभाग के कार्यालय में बाबू योजनाओं से संबंधित फाइलों को अपडेट करने में जुट गए है। विभागीय अधिकारियों के चेहरे पर भी रिकार्ड पूरा करने का दबाव भी साफ झलकता रहा। सीएमओ डा. राकेश तिवारी ने बताया कि जब सीबीआई रिकार्ड मांगती है। तो उसे उपलब्ध कराया जाता है। यहां पर भी आने की संभावना है।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

पीलीभीत पुलिस को हाथ लगी बड़ी सफलता, धर दबोचा ये शातिर गैंग

यूपी के पीलीभीत में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पीलीभीत पुलिस ने कई राज्यों में वाहन चोरी को अंजाम दे रहे एक बड़े गैंग का धर दबोचा है। देखिए ये रिपोर्ट।

11 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls