देवहा-शारदा से तबाही का खतरा बढ़ा

Pilibhit Updated Fri, 13 Jul 2012 12:00 PM IST
पीलीभीत। नेपाल की तलहटी में बसे तराई के लोग मानसून का नाम सुनते ही कांप उठते है। यहां हर साल बारिश तबाही लाती है। नेपाली नदियों के साथ मिलकर यहां की शारदा, देवहा, खकरा हर बार कहर बरपाती हैं। इस बार भी इनसे तबाही का खतरा मंडरा रहा है। किसानों के लिए बारिश की एक-एक बूंद सोना साबित होती है पर विडंबना हैं कि यहां बारिश से आने वाली बाढ़ इन खुशियों को काफूर कर देती हैं। हर साल शारदा, देवहा और खकरा नदी जिले में कहर बरपाती है। सबसे अधिक तबाही ट्रांस शारदा क्षेत्र में होती है।
शारदा अब तक ट्रांस क्षेत्र की क ई एकड़ भूमि निगल चुकी है। दर्जनों घर नदी में समा चुके हैं। तमाम लोग नदी के तेजी से कटान करने के कारण खानाबदोश जिंदगी जीने को विवश हैं। पहली ही बारिश में शारदा नदी ने तबाही मचाने का सिलसिला शुरू कर दिया है। अब तक इस क्षेत्र की ग्राम पंचायत नहरोसा, राणा प्रताप नगर, कबीरगंज, श्रीनगर, गांधीनगर ग्राम पंचायतों के कई गांव में किसानों की कई एकड़ फसल शारदा निगल चुकी है। प्रशासन ने बाढ़ के बचाव के लिए अभी तक कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किए हैं।
बाक्स
भारी पैमाने पर होता है नुकसान
जिले की तीनों तहसील क्षेत्र के गांव शारदा, देवहा और खकरा नदी से प्रभावित होते हैं। इसमें सबसे ज्यादा कहर शारदा ट्रांस क्षेत्र में कहर बरपाती है। तीनों तहसील क्षेत्रों में हर साल भारी पैमाने पर नुकसान होता है। पिछले साल आई बाढ़ में शहर से सटे गांव सिरसा, बक्शपुर, सेमीखेड़ा, रम्पुरिया, गौटिया समेत जिले भर के सैकड़ों
गांवों में भारी पैमाने पर नुकसान हुआ था।
बाक्स
बाढ़ से निपटने का खोखला साबित हो रहा है दावा
ट्रांस क्षेत्र में बाढ़ से निपटने के लिए तहसील प्रशासन का दावा खोखला साबित हो रहा है। बाढ़ चौकियों पर कोई नही पहुंचा। ग्राम पंचायतों की नावें भी ठीक नहीं कराई जा सकी। बाढ़ से निपटने के लिए मोटर वोट, लाइफ जैकेट, फोल्डिंग स्ट्रेचर, टेंट और लाइट का कोई भी सामान एकत्र नही किया गया। पिछले साल खरीदी गई नावें जर्जर हाल में है।
बाक्स
शारदा के पानी से जलमग्न हुए कई मार्ग
उफनाई शारदा का पानी ट्रांस क्षेत्र के ट्रांस क्षेत्र के रामनगर-चंदनगर, नेहरूनगर- लक्ष्मण नगर समेत कई मार्गों पर बहने लगा है। पूर्णिमासी से शुरू हुई बारिश रोजाना हो रही है। । उधर मुरनियां तिराहे से अशोकनगर जंगल बस्ती जाने वाले रपटा पुल पर तेज बहाव चल रहा है। यहां नाव की व्यवस्था न होन के कारण दिक्कतें हो रही हैं।
बाक्स
शारदा लील चुकी है 25 एकड़ कृषि भूमि
शारदा भू-कटान करते हुए गांधीनगर के किसान राजाराम, लालबिहारी, मंतू, झागूर श्रीनगर के काशीनाथ, अलीजान, सुरेश कुमार, जमील, इकबाल, शहीद, रहीस, रामजतन आदि की करीब 15 एकड़ फसल सहित कृषि भूमि निगल चुकी है। इसके अलावा लेखपाल रामचंदर तथा नहरोसा में ग्राम प्रधान समीउददीन सहित कई लोगों की दस एकड़ भूमि नदी में समा गई। बढ़ते भू-कटान के भय से लोगो को चिंता सताने लगी है।
बाक्स
बाढ़ से चौकियों पर नहीं है कोई इंतजाम
ट्रांस क्षेत्र में प्रशासन ने शांतीनगर, बैलहा, सिद्धनगर, रामनगर तथा एलबीएस इंटर कालेज नेहरूनगर रामनगर, चंदनगर, नेहरूनगर, लक्ष्मणनगर, भुरजुनियां, शास्त्रीनगर में बाढ़ बाढ़ शरणालय बनाए हैं, लेकिन बाढ़ चौकियों पर स्वास्थ्य एंव पशु व्यवस्था पंगु है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

ब्राइटलैंड स्कूल दो दिन के लिए बंद, छात्रा हुई जुवेनाइल कोर्ट में पेश

राजधानी के ब्राइटलैंड स्कूल में छात्र को चाकू मारने की घटना के बाद बच्चों में बसे खौफ को दूर करने के लिए स्कूल को दो दिनों के लिए बंद कर दिया है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

पीलीभीत पुलिस को हाथ लगी बड़ी सफलता, धर दबोचा ये शातिर गैंग

यूपी के पीलीभीत में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पीलीभीत पुलिस ने कई राज्यों में वाहन चोरी को अंजाम दे रहे एक बड़े गैंग का धर दबोचा है। देखिए ये रिपोर्ट।

11 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper