स्नातक में प्रवेश के लिए होगी मारामारी

Pilibhit Updated Tue, 12 Jun 2012 12:00 PM IST
पीलीभीत। शिक्षा के क्षेत्र में तरक्की के दावे चाहें जितने किए जाएं। मगर सच्चाई के सामने यह दावे कहीं नहीं टिकते। नए सत्र में यह हकीकत एक बार फिर सामने होगी। स्नातक में प्रवेश पाने के लिए छात्र-छात्राओं को बहुत पापड़ बेलने पड़ेंगे। फिर भी 14500 छात्र - छात्राएं प्रवेश पाने से वंचित रह जाएंगे। वजह साफ है, इंटरमीडिएट के बेहतर परिणाम में पास होने वालों की संख्या अधिक और डिग्री कॉलेजों में सीटों की संख्या कम है।
सीबीएसई से संबद्ध जिले के दस कॉलेजों में इस वर्ष 614 परीक्षार्थियों ने सफलता अर्जित की है। जबकि यूपी बोर्ड के 64 कॉलेजों से 20261 परीक्षार्थी इंटरमीडिएट की परीक्षा में सफल हुए हैं। जिले के कुल 20875 छात्र छात्राओं ने सफलता पाई है। इन सभी को स्नातक, तकनीकी शिक्षा में अगले शिक्षण सत्र में प्रवेश चाहिए होंगे। अपने जिले में तकनीकी शिक्षा के नाम पर सिर्फ एक आईटीआई और एक जीटीआई विद्यालय है। आईटीआई में विभिन्न ट्रेडोें की 275 और जीटीआई में 240 सीटें हैं। बता दें कि इन सीटों पर राज्य स्तर पर आयोजित प्रवेश परीक्षा के बाद तैयार मेरिट के आधार पर प्रवेश होंगे। जाहिर है इन दोनों संस्थानों में सिर्फ अपने ही जिले के इंटरमीडिएट पास आउट को प्रवेश नहीं मिलेगा। कुछ ही लोग प्रवेश पा सकेंगे। स्नातक के लिए अपने जिले में कुल आठ कॉलेज हैं। पीलीभीत में उपाधि महाविद्यालय, राम लुभाई साहनी राजकीय महिला महाविद्यालय, पुष्प इंस्टीट्यूट, जेएमबी डिग्री कॉलेज, बीसलपुर में राजकीय डिग्री कॉलेज और शफी डिग्री कॉलेज और पूरनपुर में गन्ना कृषक महाविद्यालय और स्वामी एजुकेशनल इंस्टीट्यूट। इन सभी कॉलेजों में कला, विज्ञान, कामर्स और अन्य विषयों के कुल 3590 सीटें हैं। 90 प्रतिशत से अधिक अंक पाने वाले छात्र-छात्राओं खासकर सीबीएसई के पास आउट बच्चों को उच्च और तकनीकी शिक्षा के लिए शहर से बाहर जाना होगा। आईआईटी, एआईईईई, यूपीटीयू और बिट्स जैसे संस्थानों में प्रवेश के लिए छात्रों ने परीक्षा दे चुके हैं। ऐसे बच्चों की संख्या कुल पास आउट बच्चों की महज 10 प्रतिशत के आसपास ही है। इस वर्ष करीब 18 हजार बच्चों को प्रवेश के लिए मारामारी का शिकार होना पड़ेगा। जिले के डिग्री कॉलेजों में प्रवेश तो सिर्फ 3590 को ही मिलना है। बाकी लगभग साढ़े चौदह हजार बच्चों को प्राइवेट परीक्षा के लिए तैयारी करनी होगी या फिर पढ़ाई का इरादा छोड़ना पड़ सकता हैै।
----------------------------------
0000
यूपी बोर्ड से उत्तीर्ण छात्रों की संख्या 20261
सीबीएसई से उत्तीर्ण छात्रों की संख्या 614
--------------------------------
कुल सफल छात्रों की संख्या 20875
----------------------------------
कुल सीट
----------------------------------
कॉलेज बीए बीएससी बीकाम अन्य
----------------------------------
उपाधि महाविद्यालय 640 240 160 000
आरएलएस कॉलेज 000 160 080 000
जेएमबी कॉलेज 420 000 000 120
पुष्प इंस्टीट्यूट 000 000 000 180
राजकीय बीसलपुर 560 160 000 000
शफी डिग्री कॉलेज 000 000 070 000
गन्ना कृषक कॉलेज 640 000 000 000
स्वामी एजू. 000 000 160 000
----------------------------------
2260 560 470 300
----------------------------------
स्नातक में सीट 3590
आईटीआई 0275
जीटीआई 0240
----------------------
कुल स्थान 4105
----------------------
* अन्य के कॉलम में पुष्प इंस्टीट्यूट में बीएससी होम साइंस और जेएमबी डिग्री कॉलेज में बीए होम साइंस कोर्सेस संचालित हैं।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Lucknow

शिया वक्फ बोर्ड अध्यक्ष रिजवी बोले-अयोध्या में राम मंदिर के अलावा और कोई प्रस्ताव मंजूर नहीं

शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने अयोध्या मामले में आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर व अन्य अनधिकृत व्यक्तियों के समझौता प्रस्ताव को नकार दिया है।

17 फरवरी 2018

Related Videos

जनता दरबार में मेनका गांधी ने खोया आपा, अफसर को दी गाली

यूपी के बरेली में केंद्रीय महिला बाल विकास मंत्री मेनका गांधी इस कदर अपना आपा खो बैठीं कि अफसर को सरेआम गाली दे डाली। दरअसल पूरा मामला कोटा सिस्टम में भष्टाचार का है। मेनका गांधी अपने संसदीय क्षेत्र पीलीभीत के बहेड़ी में जनता दरबार लगा रही थीं।

17 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen