लकड़ी माफिया लगा रहे लाखों का चूना

Pilibhit Updated Fri, 08 Jun 2012 12:00 PM IST
माधोटांडा। अभिवाहन पास और ट्राजिट शुल्क बगैर जमा किए लकड़ी माफिया सरकार को लाखों रुपये का चूना लगाकर लकड़ी आसपास के जिलों में भेज रहे है।
कस्बे में बगैर लाइसेंस के लकड़ी सप्लाई की आढ़त खोली गई है। क्षेत्र से ट्रैक्टर-ट्रालियों से लायी गई लकड़ी एकत्र की जाती है। आढ़त पर प्रतिबंधित प्रजाति की लकड़ी का स्टाक किया जा रहा है। लकड़ी बरेली, रामपुर आदि शहरों में सप्लाई की जा रही है। वन विभाग के ट्राजिट शुल्क और मंडी शुल्क की चोरी की जा रही है। वन विभाग का ट्राजिट शुल्क प्रति कुंतल तीन रुपये अस्सी पैसे निर्धारित है। कई प्रतिबंधित प्रजातियों की लकड़ी की सप्लाई कर रहे है। जिसका परमिट और निकासी रवन्ना प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी द्वारा जारी किया जाता है। बिना परमिट के यूकेलिप्टस की लकड़ी ट्रकों में रखकर भेजी जा रही है। रात के अंधेरे में ट्रक से आगे एक मारुति कार चलती है और उसके एक किलोमीटर पीछे लकड़ी से भरा ट्रक जाता है। इस मारुति में सवार लोग रामपुर तक लकड़ी पहुंचाते है।
इसके अलावा यहां से यूकेलिप्टस की पतली लकड़ी उत्तराखंड के लालकुंआ सप्लाई होती है। उसको पूरनपुर रेंज से कहीं का भी ट्राजिट शुल्क और रवन्ना लेकर भेजा जाता है। लालकुंआ पेपर मिल बिना ट्राजिट शुल्क की रसीद के बगैर माल नहीं लेता है। लकड़ी माफिया, पुलिस और वन विभाग के अधिकारियों के संरक्षण में धंधा जारी है। क्षेत्रीय वन रक्षक शिवदयाल ने बताया कि मामला उनकी जानकारी मेें है। शीघ्र ही अभियान चलाकर लकड़ी माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

पीलीभीत पुलिस को हाथ लगी बड़ी सफलता, धर दबोचा ये शातिर गैंग

यूपी के पीलीभीत में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पीलीभीत पुलिस ने कई राज्यों में वाहन चोरी को अंजाम दे रहे एक बड़े गैंग का धर दबोचा है। देखिए ये रिपोर्ट।

11 दिसंबर 2017