सीएमओ पर लगे आरोपों की जांच शुरू

Pilibhit Updated Sun, 03 Jun 2012 12:00 PM IST
पीलीभीत। डीएम के आदेश पर कलक्ट्रेट के सेवानिवृत्त प्रशासनिक अधिकारी के लगाए गए चिकित्सा व्यय प्रतिपूर्ति भुगतान में सीएमओ द्वारा 10 प्रतिशत कमीशन के मामले की जांच गठित जांच कमेटी ने शुरू कर दी है।
कलेक्ट्रेट के सेवानिवृत्त प्रशासनिक अधिकारी के सी सक्सेना ने 17 मई को डीएम से शिकायत करते हुए कहा था कि उनकी आयु 73 वर्ष हैं। अपने व अपनी पत्नी के इलाज पर खर्च हुए 29446 रुपये में चिकित्सा व्यय प्रतिपूर्ति भुगतान के लिए 10 फरवरी 2012 को तत्कालीन डीएम को बिल पेश किए थे। डीएम ने 17 फरवरी को बिल का परीक्षण कराने के लिए सीएमओ कार्यालय भेज दिया था। जिस पर वह सीएमओ डॉ राकेश तिवारी से मिले और बिल स्वीकृत किए जाने का आग्रह किया। आरोप है कि इस पर सीएमओ श्री तिवारी ने उनसे दस प्रतिशत कमीशन की मांग की।
कमीशन देने से इंकार करने पर उन्हें ढाई महीने दौड़ाया गया। सीएमओ ने चार मई को 10 प्रतिशत का भुगतान कर पत्रावली स्टेनो से प्राप्त करने के लिए कहा। उन्होंने जब आपत्ति की तो बाहर बैठा दिया गया। दो घंटे बाद बुलाकर पत्रावली दी तो उसमें 28373 के स्थान पर 19023 रुपये अंकित थी। इस पर जब आपत्ति जताई तो उन्हें चलता कर दिया गया।
डीएम ने शिकायत को गंभीर माना और मामले की जांच सीडीओ को सौंप दी। डीएम ने सीडीओ के नेतृत्व में जांच टीम गठित की है, जिसमें पिछड़ा विकलांग कल्याण अधिकारी और कोषाध्यक्ष को शामिल किया गया है। जांच टीम ने प्रकरण की जांच शुरू कर दी है।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

पीलीभीत पुलिस को हाथ लगी बड़ी सफलता, धर दबोचा ये शातिर गैंग

यूपी के पीलीभीत में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पीलीभीत पुलिस ने कई राज्यों में वाहन चोरी को अंजाम दे रहे एक बड़े गैंग का धर दबोचा है। देखिए ये रिपोर्ट।

11 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls