विज्ञापन
विज्ञापन
UP Board Result 2019 UP Board Result 2019

24 घंटे, दो टाइगर की मौत : सवालों में आई मानीटरिंग

Pilibhit Updated Sat, 26 May 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
इलाकाई करतूत या बाबरिया गिरोह कर रहा बाघों का सफाया
विज्ञापन
विज्ञापन
पीलीभीत। क्या वन कर्मी गश्त भी करते हैं? सेव द टाइगर स्लोगन मात्र है? ये ऐसे सवाल हैं जो वन्य जन्तु प्रेमियों के मन में भी हैं और जुबां पर भी। 24 घंटे के भीतर 300 मीटर दूरी में बाघ के दो शव मिलते हैं। शव भी कई घंटे पुराने बताए जा रहे हैं लेकिन चौकसी का दम भरने वाले जंगलात के कर्मियों को इनकी खबर नहीं मिलती। जिले के इतिहास में शायद यह पहला वाकया है जब इतने कम अंतराल में दो बाघों की मौत हुई हो।
बृहस्पतिवार को जब पहले बाघ का शव मिला तो वन अधिकारियों ने दावा किया कि उसकी स्वाभाविक मौत हुई है। उन्होंने बाघ को 15 वर्ष का भी बताया हालांकि पोस्टमार्टम करने वाले डाक्टर उसकी उम्र 10-12 वर्ष बता रहे हैं। वनाधिकारियों का तर्क यह भी था कि बाघ के नाखून, दांत, बाल सुरक्षित हैं तथा शरीर पर चोट के निशान नहीं हैं तो यह स्वाभाविक मौत है। शायद वे इसी थ्योरी पर कायम रहते यदि शुक्रवार को लगभग उसी स्थान पर दूसरे बाघ का शव नहीं मिल जाता।
अब चाहकर भी महकमा मामले को हल्के में नहीं ले सकता। बाघ संरक्षण में लगी एजेंसियां सक्रिय हो गई हैं। सूत्रों के अनुसार दिल्ली से वाइल्ड लाइफ क्राइम कंट्रोल ब्यूरो और टाइगर कंजर्वेशन के बड़े अफसर मामले की जांच के लिए दिल्ली से रवाना हो चुके हैं। मामले की गंभीरता को देख यहां मुख्य वन संरक्षक सुनील चौधरी और विकास वर्मा ने खुद मौके पर बारीकी से निरीक्षण किया।
बाघों की मौत को मानव-वन्य जीव संघर्ष या फिर शिकारियों की करतूत का परिणाम भी माना जा रहा है। गौरतलब है कि बीती 13 मई की सुबह हरीपुर रेंज के गांव जहूरगंज निवासी 50 वर्षीय किसान जगरनाथ को बाघ ने उस समय निवाला बना लिया था, जब वह बाइक से डीजल लेने पूरनपुर जा रहे थे। बाघ उन्हें झाड़ियों में खींच ले गया था। बाद में उनकी लाश बरामद हुई थी। इससे दहशतजदा लोगों ने जंगल में लकड़ियां बीनना तक बंद कर दिया था। आशंका ये भी है कि कहीं किसी ग्रामीण या फिर शिकारियों ने बाघ के भोजन में जहर रख दिया हो। वन विभाग ने कुछ लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में भी लिया है।
दूसरी गौर करने वाली बात यह है कि करीब डेढ़ साल पूर्व वन विभाग के क्राइम कंट्रोल ब्यूरो के उपनिदेशक रमेश पांडेय ने जंगल किनारे बाबरिया गिरोह की आशंका जताई थी। उन्होंने कहा था कि जंगल के रास्ते तस्करी करने के कारण इस गिरोह से वन्य जंतुओं के सामने खतरा उत्पन्न हो गया है। फिलहाल यह जांच का बिंदु हो सकता है, हालांकि वन अधिकारियों ने यहां बावरिया गिरोह की सक्रियता को सिरे से खारिज किया है।

एक नजर में : अब तक हुई बाघों की मौत
1. 1997 : खीरी के दुधवा टाइगर रिजर्व में टाइगर की सड़क दुर्घटना से मौत।
2. 05 मार्च 2000 : बहराइच के कतरनियाघाट वन क्षेत्र में ट्रेन से कटकर बाघिन की मौत।
3. 2005 : कतरनियाघाट में ट्रेन दुर्घटना में बाघिन की मौत।
4. 29 मई 2005 : खीरी के संरक्षित वन क्षेत्र दुधवा इलाके में सोनारीपुर रेंज में ट्रेन की टक्कर से बाघ शावक की मौत।
5. जुलाई 2005 : दुधवा पार्क में ट्रेन से कटकर बाघिन की मौत।
5. 15 अप्रैल 2006 : दुधवा स्टेशन से पहले ट्रेन की टक्कर से बाघिन की मौत।
6. 2007 : कतरनिया घाट में सड़क दुर्घटना में बाघ की मौत।
6. वर्ष 2008 में महुरैना डिपो क्षेत्र में सड़क दुर्घटना में बाघ की मौत।
7. 2005 से 11 तक सड़क हादसों तीन बाघों की मौत।
8. जनवरी 2010 : खीरी के परसपुर जंगल में मृत मिला टाइगर।
9-24 मई, 2012 हरीपुर रेंज में मिला नर बाघ का शव

Recommended

UP Board Results देखने के लिए आज ही 8929470909 नंबर पर मिस्ड कॉल करें और फोन पर पाएं परिणाम
UP Board 2019

UP Board Results देखने के लिए आज ही 8929470909 नंबर पर मिस्ड कॉल करें और फोन पर पाएं परिणाम

कब और कैसे मिलेगी सरकारी नौकरी ?
ज्योतिष समाधान

कब और कैसे मिलेगी सरकारी नौकरी ?

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Pilibhit

तमंचा दिखाकर दुष्कर्म करने का आरोप, दी तहरीर

तमंचा दिखाकर दुष्कर्म करने का आरोप, दी तहरीर

25 अप्रैल 2019

विज्ञापन

सीएम योगी के मंत्री का ‘महागठबंधन’ पर तंज, दे दिया ये नाम

यूपी सरकार में मंत्री सुरेश खन्ना ने महागठबंधन पर हमला करते हुए कहा कि ये सब फ्यूज्ड ट्रांसफॉर्मर हैं. इनकी क्या चर्चा करना. सुनिए क्या बोले बीजेपी नेता सुरेश खन्ना।

25 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election