'My Result Plus

कथित बसपा नेता के ‘मददगारों’ पर कानून का फंदा

Pilibhit Updated Fri, 18 May 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
पीलीभीत। शहर में फायरिंग कर दहशत फैलाने और युवती के अपहरण का प्रयास करने वाले बसपा के कथित पूर्व कोआर्डीनेटर चंद्रभान मौर्य को जेल भेजने के बाद पुलिस उसकी कुंडली खंगालने में जुट गई है। जांच के घेरे में कई पुलिस अधिकारी और सफेदपोश भी हैं। इनमें कोर्ट मैरिज के बाद दबाव बनाने के लिए युवती के भाई को गिरफ्तार करने वाला एक चर्चित एसओ भी शामिल है। खीरी के कद्दावर बसपा नेता ने भी उसका साथ दिया, इसलिए उनके भी बयान लिए जाएंगे।
मालूम हो कि मंगलवार की रात करीब 11 बजे छतरी चौराहा स्थित एक घर पर टाटा सफारी से आए कथित बसपा नेता और उनके गुर्गों ने युवती का अपहरण करने के प्रयास में ताबड़तोड़ फायरिंग की थी। सेलफोन पर सूचना और फायरिंग के धमाके सुनकर एसओ सुनगढ़ी आजाद सिंह केसरी मौके पर पहुंच गए थे। रास्ते से ही पुलिस कंट्रोल को सूचना देने के कारण एसपी जितेंद्र प्रताप सिंह भी सेट पर आ गए थे। नतीजतन हमलावर कथित नेता पकड़ा गया था, जबकि टाटा सफारी लेकर मौके से भागे चालक को सीओ सिटी दिनेश चंद्र शर्मा ने शहर सीमा से पकड़ा था। पुलिस ने इतनी तत्परता न दिखाई होती तो शायद हमलावर बच निकलते।
इधर बृहस्पतिवार को एसपी जितेंद्र प्रताप सिंह ने बसपा के कथित नेता की कुंडली खंगालने का निर्देश दिया, जिसके तहत विवेचक आरएस पांडे ने उसकी क्राइम हिस्ट्री, बरामद शस्त्रों और टाटा सफारी के अभिलेखों की पड़ताल के साथ जिम्मेदार लोगों को जांच दायरे में लेने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। पुलिस मुखिया की मानें तो आपराधिक प्रवृत्ति के इस कथित नेता के नाम शस्त्र लाइसेंस जारी करने में आख्या लगाने वाले, समय-समय पर उसका साथ देने वालं तथा उसके करीबियों को जांच दायरे में लिया गया है। इधर पीड़ित युवती ने पुलिस को बयान दिया है कि पिता को बचाने के लिए उसने कोर्ट मैरिज की थी, लेकिन उसके बाद उसके साथ न जाने पर तत्कालीन एसओ ने उस पर दबाव बनाया था। वह फिर भी नहीं मानी तो उसके भाई को अवैध शराब के मामले में जेल पहुंचा दिया गया। अपने परिवार को बचाने के लिए वह मजबूर हो गई थी। युवती ने खीरी के एक कद्दावर बसपा नेता का भी नाम लिया है। पुलिस उससे भी पूछताछ करेगी।
बाक्स
बरेली का पता भी निकला झूठा
कथित नेता ने अपने मूल निवास के अलावा बरेली के थाना बारादरी अंतर्गत धर्मकांटा के पास विष्णु भवन में भी निवास बताया था। विवेचक ने वहां पहुंचकर थाने की एक्शन मोबाइल के साथ उसका पता खंगालने की कोशिश की, लेकिन वह झूठा निकला।
बाक्स
कथित नेता से जुड़े हर पहलू पर है नजर : एसपी
17 पीबीटीपी 30
एसपी जितेंद्र प्रताप सिंह का कहना है कि कथित नेता से जुड़े हर पहलू की जांच की जा रही है। सीओ सिटी के निर्देशन में एसओ सुनगढ़ी और विवेचक को लगाया गया है। इसके अलावा जांच में जरूरत पड़ी तो एसओजी की भी मदद दी जाएगी। आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Lucknow

अचानक शाहजहांपुर पहुंचे सीएम योगी, डीएम, एसपी को भनक तक नहीं

जिलों की वास्तविक स्थिति का जायजा लेने के लिए सीएम योगी ने औचक निरीक्षण का कार्यक्रम शुरू कर दिया है।

22 अप्रैल 2018

Related Videos

पीलीभीत के नरभक्षी को मिली सजा-ए-मौत

पिछले साल पीलीभीत में छह साल के मासूम की हत्या के मामले में हत्यारे को मौत की सजा दी गई है। हत्यारे ने मासूम की न सिर्फ हत्या की थी बल्कि शव के टुकड़े-टुकड़े कर दिए थे। मौके पर पहुंचे लोगों ने बताया था कि हत्यारे के मुंह में खून लगा हुआ था।

11 अप्रैल 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen