ट्रांस शारदा क्षेत्र को खीरी में जोड़ने की मांग उठी

Pilibhit Updated Mon, 14 May 2012 12:00 PM IST
हजारा। ट्रांस शारदा क्षेत्र की चारों सीमाएं लखीमपुर खीरी से जुड़ हैं, जिससे यहां के वासिंदों की हर जरूरत तकरीबन खीरी से पूरी होती है। जबकि लोगों को तहसील मुख्यालय पंहुचने के लिए लोहे के चने चबाने पड़ते हैं। इन कई बिंदुओं और तकनीकी को लेकर ग्रामीण युवा संघ ने इलाके को खीरी में शामिल कर पलिया को जिला बनाने के लिए मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा है। पीलीभीत जिले की पूरनपुर तहसील के शारदा नदी पार हजारा थाना क्षेत्र की 70 हजार आबादी बाले ट्रांस क्षेत्र के लोग जिले की सुविधाओं से महरूम है। यहां हरित क्रांति प्रयोग स्थली के किसानों को गन्ना फ सल सहकारी चीनी मिल संपूर्णानगर को सप्लाई करते हैं और वहां से खाद बीज भी मिलता है। इतना ही नही बिजली,टेलीफोन और आवागमन की प्राईवेट बस सेवा भी खीरी के हवाले है गौरतलब यह भी है नहरोसा,राणाप्रतापनगर,कबीरगंज,गौतमनगर,श्रीनगर,विजयनगर,कोठियागुदिया,गांधीनगर,अशोकनगर,नेहरूनगर,शास्त्री नगर,राघवपुरी,बाजारघाट,कंबोजनगर,टाटरगंज के लोग रोजमर्रा की वस्तुएं खीरी के संपूर्णानगर,खजुरिया,मंहगापुर,बमनगर से पूर्ति करते हैं। किसानों को भी अपना डीजल पेट्रोल खीरी से लाना पड़ता है।
इनसेट
जिला मुख्यालय आवागमन के लिए नही है कोई साधन
हजारा। ट्रांस शारदा क्षेत्र के लिए जिला और तहसील मुख्यालय कोढ़ में खाज है। क्योंकि साधारण तौर पर लोगो की हर जरूरत खीरी जिले से पूर्ति होती है। जब कोई झगड़ फ साद और परेशानी होती है तो विपत्तियों में कोर्ट कचहरी या फि र अफ सरों की चौखट पर दस्तक के लिए 150 किमी का सफ र खीरी होकर तय करना पड़ता है और यहां के गरीब और मजदूरों को पेशी पर जाने के लिए एक दिन पहले चलना पड़ता है।
इनसेट
इंडो- नेपाल सीमा की सुरक्षा है खीरी के हवाले
हजारा। थाना क्षेत्र के सिघाड़ उर्फ टाटरगंज,बमनपुर-भगीरथ,टिल्ला नंबर चार,बैलहा,बाजारघाट,भगवानपुरी राघवपुरी आदि गांवो की खुली नेपाल सीमा पर माओवादी गतिविधियां,आईएसआई एजेंटो,तस्करी रोकने के लिए सीमा सुरक्षा बल की एजेंसियां और जंगलात की चौकियां भी खीरी के हवाले हैं।
इनसेट
पलिया को जिला बनाने की मांग
हजारा। ग्रामीण युवा संघ के प्रांतीय अध्यक्ष रमेश कुमार ने ट्रांस क्षेत्र की असुविधाओं को मद्देनजर बिदुंवार खाका तैयार करके अपनी रिर्पोट प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को भेजकर खीरी की तहसील पलिया को जिला बनाने की मांग की है।
इनसेट
डीएम भी पूर्व में भेज चुके है रिर्पोट
हजारा। पीलीभीत के पूर्व डीएम कौशलराज शर्मा ने भी ट्रांस क्षेत्र को खीरी में शामिल करने के लिए क्षेत्र के उपनिवेशन योजना के तहत बसाई गई कालोनियों,कृषि भूमि के पट्टे एवं राजस्व गांव की रिर्पोट शासन को भेज चुके हैं।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

गरीबी की वजह से इस शख्स ने शुरू किया था मिट्टी खाना, अब लग गई लत

गरीबी की वजह से झारखंड के कारु पासवान ने मिट्टी खानी शुरू की थी।

19 जनवरी 2018

Related Videos

पीलीभीत पुलिस को हाथ लगी बड़ी सफलता, धर दबोचा ये शातिर गैंग

यूपी के पीलीभीत में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पीलीभीत पुलिस ने कई राज्यों में वाहन चोरी को अंजाम दे रहे एक बड़े गैंग का धर दबोचा है। देखिए ये रिपोर्ट।

11 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper