विज्ञापन

डिवाइडर के बाद भी जाम से जूझेंगे लोग

Pilibhit Updated Fri, 04 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
पूरनपुर। नगर पालिका की निर्माणाधीन डिवाइडरयुक्त सड़क से लोगों को जाम से निजात नहीं मिल सकेगी। क्योंकि कोतवाली और तहसील की दीवारें रोड़ा बन गई हैं। इसको लेकर कोतवाली से नगर पालिका कार्यालय तक सड़क पर डिवाइडर नहीं बनाया जाएगा। पूरी सड़क डिवाइडर युक्त न बनने की जानकारी पर लोगों मेें रोष है।
विज्ञापन

मालूम हो कि आसाम रोड से नगर को प्रवेश वाला कोतवाली रोड जर्जर हो गया था। नगर पालिका परिषद ने नगर की सीमा से पालिका कार्यालय तक डिवाइडरयुक्त सड़क निर्माण का निर्णय लिया। इसके निर्माण से कोतवाली और तहसील कार्यालय के बाहर लगने वाले जाम से भी छुटकारा मिल जाएगा। करीब 49 लाख रुपये की लागत से डिवाइडर-युक्त सड़क निर्माण की जानकारी पर नगर के लोगों में हर्ष था। अब कोतवाली और तहसील कार्यालय के सामने सड़क संकरी होने के कारण कोतवाली से नगर पालिका कार्यालय तक डिवाइडर न बनाने का निर्णय लिया गया है। इससे लोगों में रोष है। लोग सड़क को डिवाइडर-युक्त बनाने की मांग कर रहे हैं, ताकि कोतवाली, तहसील दफ्तर के सामने की जाम समस्या से छुटकारा मिल जाए।
डिवाइडरयुक्त ही बने सड़क
उद्योग व्यापार मंडल के प्रांतीय उपाध्यक्ष हंसराज गुलाटी कहते हैं कि कोतवाली रोड नगर का मुख्य रोड है। कोतवाली और तहसील की दीवारें पीछे हटा लेनी चाहिए। इससे आम लोगों को अक्सर होने वाले जाम की स्थिति नहीं गुजरना पड़ेगा। सड़क हरहाल में डिवाइडर युक्त ही बनना चाहिए।
जन हित में सोचे प्रशासन
सहकारी गन्ना विकास समिति के चेयरमैन श्रीकांत सिंह कहते हैं कि कोतवाली रोड नगर का प्रवेश द्वार है, जिसे चौड़ा होकर डिवाइडर-युक्त बनना चाहिए। इसमेें अगर कोतवाली और तहसील की दीवार आड़े आ रही हैं, तो प्रशासन को जनता की सुविधा का ध्यान रखते हुए इसे पीछे हटा लेना चाहिए।
जनहित में हटे दीवारें
निवर्तमान नगर पालिका चेयरमैन के पति प्रदीप जायसवाल कहते हैं कि जनहित में कोतवाली और तहसील की दीवार पीछे हटा लेनी चाहिए। ताकि नगर के विकास लिए डिवाइडरयुक्त सड़क बनाई जाएं। इससे आम लोगों के अलावा पुलिस और प्रशासन को भी राहत मिल सकेगी।
अतिक्रमण हटना चाहिए
समाजसेवी कुलवीर सिंह कहते हैं कि अतिक्रमण एक आम समस्या है। अतिक्रमण करने वाले यह नहीं समझते कि इससे समाज का हर वर्ग ही नहीं खुद उनके अपने परिवार के लोग भी प्रभावित होंगे। जब इसे हटाने की बात होती है तो गाज छोटों पर गिरती है। तब पुलिस- प्रशासन भी चुप्पी साध लेता हैं।
पालिका ने निकलवाया रिकार्ड
कोतवाली रोड पीडब्ल्यूडी की थी। उसने निर्माण कराया था। पालिका के पास धन न होने पर उसने अपनी सीमा पर सड़क निर्माण कराया। पालिका कर्मी कहते हैं कि पीडब्ल्यूडी की सड़क के दोनों ओर शहर में नब्बे फिट जगह रहती है। दोनों ओर कितनी भूमि सड़क की है। उसका रिकार्ड निकबाएंगे।
निर्माण की गति धीमी
डिवाइडरयुक्त कोतवाली रोड पर धीमी गति से कार्य होने से लोगों को आवागमन में भारी असुविधा हो रही है। कुछ लोगों का आरोप है कि निर्माण में मात्र खानापूरी की जा रही है। इसको लेकर पूर्व में बनी सड़क को खोदा तक नहीं गया। उसी के ऊपर से डिवाइडर बनाना शुरू कर दिया गया।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us