परीक्षक चयन में गड़बड़ी का आरोप

Pilibhit Updated Fri, 04 May 2012 12:00 PM IST
पीलीभीत। यूपी बोर्ड की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में लगाए गए परीक्षकों के अनुभव, पद और उनकी योग्यता को दरकिनार कर चयन करने का आरोप प्रधानाचार्य परिषद ने लगाया। परिषद के पदाधिकारियों ने परीक्षकों का भत्ता बढ़ाने की मांग की।
बुधवार को इकरा पब्लिक गर्ल्स इंटर कॉलेज में प्रधानाचार्य परिषद की बैठक जिलाध्यक्ष धनपाल शर्मा की अध्यक्षता में हुई। बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि इस साल मूल्यांकन प्रक्रिया को बोर्ड कार्यालय ने पूरी तरह से मजाक बनाकर रख है। परीक्षकों का चयन करते समय उनके अनुभव, योग्यता और पद का ख्याल नहीं रखा गया। संरक्षक हबीब अहमद ने कहा यूपी बोर्ड के परीक्षकों को हाईस्कूल की उत्तर पुस्तिका के मूल्यांकन के चार और इंटरमीडिएट की उत्तर पुस्तिका के मूल्यांकन के साढ़े पांच रुपये का भुगतान किया जा रहा है। जबकि सीबीएसई बोर्ड आठ और 11 रुपये का भुगतान करता है। उन्होंने कहा कि यूपी बोर्ड कार्यालय को सीबीएसई के समान परीक्षकों को भुगतान करना चाहिए। बैठक में राजेंद्र प्रसाद द्विवेदी, करुणा शंकर शुक्ल, सियाराम सागर, नूर मोहम्मद, सर्वेश गंगवार, डॉ. रामश्री, संतोष सचदेवा, गीता गुप्ता समेत कई स्कूलों के प्रधानाचार्य और शिक्षक मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

पीलीभीत पुलिस को हाथ लगी बड़ी सफलता, धर दबोचा ये शातिर गैंग

यूपी के पीलीभीत में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पीलीभीत पुलिस ने कई राज्यों में वाहन चोरी को अंजाम दे रहे एक बड़े गैंग का धर दबोचा है। देखिए ये रिपोर्ट।

11 दिसंबर 2017