मेट्रो फीडर बस योजना फाइलों में दफन

Noida Updated Mon, 17 Dec 2012 05:30 AM IST
नोएडा। दिल्ली और नोएडा को नजदीक लाने वाली मेट्रो रेल सेवा अब भी शहरवासियों की पहुंच से काफी दूर है। शहर के अलग-अलग हिस्सों को मेट्रो स्टेशनों से जोड़ने के लिए बनी फीडर बस चलाने की योजना नोएडा प्राधिकरण की फाइलों में दफन हो गई है। दिल्ली मेट्रो रेल निगम ने फीडर बसें चलाने का संशोधित प्लान तैयार किया है, लेकिन इससे भी नोएडा को बाहर रखा गया है।
मेट्रो में दिल्ली से शहर आना-जाना तो आसान है, लेकिन यहां अपने घर या आफिस तक पहुंचना बेहद मुश्किल। इसका सबसे बड़ा कारण मेट्रो स्टेशनों से शहर की कनेक्टिविटी न होना है। छह मेट्रो स्टेशनों वाले इस शहर में न तो आज तक फीडर बसें चल सकीं और न ही सार्वजनिक परिवहन के लिए कोई अन्य सेवा उपलब्ध है। लोग निजी वाहनों से मेट्रो स्टेशन पहुंचते जरूर हैं, पर यहां पार्किंग के लिए मारामारी परेशानी को और बढ़ा देती है।
इस साल मई में प्राधिकरण ने फीडर बसें चलाने की लंबी-चौड़ी तैयारियां की थीं। बाकायदा रूट भी निर्धारित कर दिए गए थे, लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकला। फीडर बस की योजना कागजी पुलिंदा बनकर रह गई। मार्च में डीएमआरसी ने बडे़ पैमाने पर फीडर बसें चलाने के लिए प्लान तैयार किया था, लेकिन तकनीकी कारणों से इसमें संशोधन करना पड़ा। एक बार फिर फीडर बसों के संचालन के लिए संशोधित प्लान तैयार हुआ है, लेकिन इसमें नोएडा सहित एनसीआर के अन्य शहरों को शामिल नहीं किया गया है।

क्यों उलझी योजना
नोएडा प्राधिकरण और दिल्ली मेट्रो रेल निगम के बीच सहमति न बन पाने के कारण फीडर बसें चलाने की योजना सिरे नहीं चढ़ पा रही है। प्राधिकरण ने बस संचालन में डीएमआरसी का सहयोग मांगा था, लेकिन एनसीआर में कहीं भी दिल्ली मेट्रो की फीडर बस सेवा उपलब्ध न होने का हवाला देते हुए डीएमआरसी ने हाथ खींच लिए थे। इसके बाद से ही फीडर बस चलाने की योजना ठंडे बस्ते में है।

विकल्पों पर ध्यान नहीं
फरीदाबाद व गुड़गांव जैसे शहरों में हरियाणा रोडवेज की बसें मेट्रो फीडर बस सेवा के रूप में चल रही हैं। दिल्ली में भी डीटीसी की बसें यह काम कर रही हैं। मेट्रो को नोएडा के सेक्टरों की पहुंच में लाने के लिए प्राधिकरण चाहे तो यूपी रोडवेज और डीटीसी का सहयोग ले सकता है। इसके अलावा निजी बस ऑपरेटर भी बेहतर विकल्प साबित हो सकते हैं।

नियमानुसार डीएमआरसी एनसीआर में फीडर बसें नहीं चला सकता। इसलिए संशोधित प्लान में एनसीआर के शहर शामिल नहीं हैं। कुछ समय पहले नोएडा प्राधिकरण-डीएमआरसी के बीच वार्ता जरूर शुरू हुई थी, लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला है।
- संध्या शर्मा, प्रवक्ता-डीएमआरसी

इन रूटों पर चलनी थीं फीडर बसें
सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन
रूट एक : सेक्टर-62, 61, 71, 51, 50, 49 व 46
रूट दो : सेक्टर-35, 34, 33, 52, 60, 58, 57, 23 व अन्य
सेक्टर-16 मेट्रो स्टेशन
रूट एक : सेक्टर-19, 20, 10, 12, 22, 55 और सेक्टर-56
रूट दो : सेक्टर-19, 20, 26, 27, 25, 21, 24 और सेक्टर-23

नोएडा को यूं छूकर निकलेंगी फीडर बसें
रूट नंबर रूट वाया
एमएल-21 न्यू अशोक नगर, नोएडा लिंक रोड,
मयूर विहार एक्सटेंशन, मयूर विहार-1,
इंद्रप्रस्थ, रिंग रोड़, निजामुद्दीन, सरस्वती कुंज
एमएल-43 इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशन, आईटीओ, विकास मार्ग,
लक्ष्मी नगर, अक्षरधाम मंदिर, नोएडा लिंक रोड,
मयूर विहार-1, मयूर विहार-एक्सटेंशन, चिल्ला,
धर्मशिला अस्पताल, वसुंधरा एन्क्लेव
एमएल-80 ओखला बैराज, जामिया, ईश्वर नगर, कालकाजी
मंदिर, गोविंदपुरी
एमएल-81 ओखला एक्सटेंशन, कालिंदी कुंज, जसौला मोड़,
सरिता विहार, अपोलो, जसौला
(डीएमआरसी के संशोधित प्लान के आधार पर रूट)

Spotlight

Most Read

Meerut

राहुल काठा की सुरक्षा में पेशी

राहुल काठा की सुरक्षा में पेशी

23 जनवरी 2018

Related Videos

‘पद्मावत’ को लेकर राजपूतों ने की DND पर तोड़फोड़

नोएडा में फिल्म ‘पद्मावत’ को लेकर राजपूतों का उग्र प्रदर्शन लगातार जारी है। रविवार को राजपूतों ने डीएनडी टोल पर जमकर तोड़फोड़ की। प्रदर्शनकारियों ने आगजनी की कोशिश भी की लेकिन इसी बीच मौके पर पुलिस पहुंची और प्रदर्शनकारियों को भगा दिया।

21 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper