अतिरिक्त पैसे मांगने पर भड़के खरीदार

Noida Updated Thu, 06 Dec 2012 05:30 AM IST
नोएडा। 25 हजार रुपये देने के बाद सिर्फ दस हजार रुपये की सरकारी पर्ची देख बुधवार को रजिस्ट्री विभाग पहुंचे खरीदार भड़क गए और बिल्डर कंपनी के प्रतिनिधि को घेरकर बाकी पैसों का हिसाब मांगने लगे। बिल्डर कंपनी के लीगल सेल पर रिश्वत मांगने का आरोप भी लगाया।
खरीदारों में शामिल सत्या झा व शिल्पी झा ने बताया कि करीब तीन साल पहले बिल्डर के सेक्टर 100 स्थित प्रोजेक्ट लोटस विला में फ्लैट बुक कराया। पजेशन पिछले साल ही मिलना था, मगर एक साल और बिताकर बिल्डर अब उसका पजेशन दे रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि मंगलवार शाम को बिल्डर कंपनी के लीगल की ओर से करीब 20 से अधिक खरीदारों को फोन करके कहा गया कि बुधवार को रजिस्ट्री विभाग में प्रति खरीदार 25 हजार रुपये लेकर आना है। बुधवार को फ्लैटों की रजिस्ट्री कर कागजात दे दिए जाएंगे।
सूचना के आधार पर खरीदार बुधवार करीब 11 बजे पैसे लेकर पहुंच गए। कुछ खरीदारों ने पैसे कंपनी प्रतिनिधि को दे भी दिया। उनको सिर्फ दस हजार रुपये की पर्ची दे दी गई। खरीदारों का कहना है कि जब उन्होंने 25 हजार रुपये का हिसाब पूछा, तब मौकेपर मौजूद कंपनी प्रतिनिधि ने कहा कि बाकी पैसे रजिस्ट्री विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों को खिलाने-पिलाने में खर्च होगा। इस पर लोग भड़क गए और कंपनी प्रतिनिधि से बहस शुरू हो गई।
खरीदारों ने ही फोन करके मीडिया को भी बुला लिया। कुछ देर में रजिस्ट्री विभाग के अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। लोगों को समझाकर शांत किया गया। 3-4 खरीदारों से दस हजार रुपये रजिस्ट्रेशन फीस लेकर रजिस्ट्री भी कर दी गई। जो खरीदार पहले ही 25 हजार रुपये देने का दावा कर रहे हैं, वे कंपनी प्रतिनिधि से बाकी पैसे वापस मांगने लगे। विरोध करने वाले खरीदारों में अंशुमान सिंह रावत, ब्रज किशोर शर्मा, निहारिका सिंह आदि शामिल रहे। इस बारे में एआईजी स्टांप एसके सिंह का कहना है कि अगर विभाग के किसी अधिकारी कर्मचारी पर इस तरह का आरोप लगाया गया होता तो जांच की जाती, मगर यह आरोप कंपनी के प्रतिनिधि पर लगा है, ऐसे में विभाग का कोई रोल नहीं है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

देखिए, कैसे 'राम भरोसे' आपकी रखवाली करते हैं यूपी के ये पहरेदार

जिनके भरोसे आप अपना घर छोड़ते हैं। जिनके भरोसे बड़ी-बड़ी कंपनियां होती हैं। जो दिन-रात एटीएम के बाहर लाखों रुपए की सुरक्षा करते हैं। वो खुद कितने सुरक्षित हैं। आइए इस पड़ताल में हमारे साथ और देखिए सेक्युरिटी गार्ड्स की सुरक्षा की इनसाइड स्टोरी।

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls