धुंध और ठंड से सेहत पर आफत

Noida Updated Tue, 06 Nov 2012 12:00 PM IST
नोएडा। धुंध और ठंड शहरवासियों की सेहत के लिए आफत साबित हो रही है। अस्पतालों में खांसी-जुकाम, सोर थ्रोट, टांसेलाइटिस, निमोनिया, साइनोसाइटिस, ब्लड प्रेशर बढ़ने, अस्थमैटिक अटैक के अलावा युवाओं में रूमैटवाइड अर्थराइटिस की समस्या हो रही है। अर्थराइटिस व अन्य हड्डी रोगों से पीड़ित बुजुर्गों की तकलीफ बढ़ी है।
सोमवार को जिला अस्पताल में फिजीशियन की ओपीडी में 220 मरीज पहुंचे। फिजीशियन डॉ. रेनू अग्रवाल बताती हैं कि बुखार के मरीजों की संख्या कम हुई है, लेकिन गले में संक्रमण (सोर थ्रोट), खांसी-जुकाम और अस्थमा के रोगियों की संख्या 80 से अधिक रही। बीते हफ्ते ऐसे रोगी 40 से 45 थे। अपोलो अस्पताल के हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. दीपक सिंघल कहते हैं कि रूमैटवाइड अर्थराइटिस (जोड़ों में सूजन और टेढ़ापन) से पीड़ित तीन से चार युवा दर्द बढ़ने की समस्या को लेकर रोज आ रहे हैं। अर्थराइटिस से पीड़ित 65 से 85 उम्र के मरीजों की स्थिति और ज्यादा गंभीर है। पिछले तीन दिन से रोज 18 से 20 मरीजों की ओपीडी हो रही है।
मेट्रो रेस्पाइरेट्री सेंटर के चेयरमैन डॉ. दीपक तलवार ने बताया कि अक्तूबर में अस्थमा के रोज 35-40 मरीज अस्पताल पहुंच रहे थे, जबकि नवंबर से यह संख्या 80 तक पहुंच गई है। इनमें 12 वर्ष तक के बच्चे और 60 वर्ष से अधिक आयु के रोगी शामिल हैं। वहीं, रोज छह से आठ रोगियों में निमोनिया की पुष्टि हो रही है। इंटरनल मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ. जीसी वैष्णव बताते हैं कि बॉर्डर लाइन हाइपरटेंशन के रोगियों की संख्या बढ़ी है। ब्लड प्रेशर बढ़ने के इन दिनों 20-25 नए मामले रोज प्रकाश में आ रहे हैं।
ईएनटी रोग विशेषज्ञ डॉ. पवन खेड़वाल बताते हैं कि संक्रमण के चलते गले में टांसिल बढ़ने और कान से मवाद बहने से भी लोग पीड़ित हैं। इसे ओटाइटिस मीडिया कहते हैं। बीते तीन दिन से रोज ऐसे चार से पांच रोगी अस्पताल पहुंच रहे हैं।

धुंध में विंटर डिप्रेशन
आईएमए नोएडा के अध्यक्ष डॉ. एसी बिसारिया कहते हैं कि ठंड और धुंध में विंटर डिप्रेशन के मामले भी सामने आते हैं। दरअसल अंधेरा और उजाला व्यक्ति के मूड को प्रभावित करता है। ठंड में दिन अंधियारे होते हैं। ऐसे में देखा गया है कि कई लोग डिप्रेशन में चले जाते हैं, जबकि उजाले में ऐसी स्थिति नहीं होती।

खानपान में सावधानी जरूरी
- सुबह खाली पेट एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू मिलाकर पिएं।
- ठंड और कोहरे में बाहर टहलने के स्थान पर घर में ही व्यायाम करें।
- नहाने से पहले सरसों के तेल से शरीर की मालिश जरूर करें।
- गुनगुने पानी से नहाएं तो बेहतर है।
- नाश्ते में दूध और मेवों का सेवन करें।
- दोपहर के भोजन में हरी सब्जियां और दालें शामिल करें। गेहूं के बजाय बाजरे के आटे की रोटी ले सकते हैं। बाजरा शरीर में गर्मी पैदा करता है।
- शाम को अपनी सुविधा अनुसार टमाटर, पालक या बथुए का जूस पिएं। संतरे का सेवन भी फायदेमंद है। चाय के स्थान पर लौंग, इलायची, अदरक, तुलसी, काली मिर्च का काढ़ा पिएं। चीनी के स्थान पर गुड़ लें। (मधुमेह के रोगी फीका काढ़ा पिएं। इसे दिन में कई बार भी ले सकते हैं)
- रात में हल्का भोजन लें। भोजन में दाल को शामिल न करें। सब्जी, रोटी और सलाद ले सकते हैं।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

दिल्ली-एनसीआर में दोपहर में हुआ अंधेरा, हल्की बार‌िश से गिरा पारा

पहले धुंध, उसके बाद उमस भरे मौसम और फिर हुई हल्की बारिश ने दिल्ली में हो रहे गणतंत्र दिवस के फुल ड्रेस रिहर्सल में विलेन की भूमिका निभाई।

23 जनवरी 2018

Related Videos

‘पद्मावत’ को लेकर राजपूतों ने की DND पर तोड़फोड़

नोएडा में फिल्म ‘पद्मावत’ को लेकर राजपूतों का उग्र प्रदर्शन लगातार जारी है। रविवार को राजपूतों ने डीएनडी टोल पर जमकर तोड़फोड़ की। प्रदर्शनकारियों ने आगजनी की कोशिश भी की लेकिन इसी बीच मौके पर पुलिस पहुंची और प्रदर्शनकारियों को भगा दिया।

21 जनवरी 2018

Recommended

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper