बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

जिले में सुनाई देने लगी है भीम आर्मी की सुगबुगाहट

अमर उजाला ब्यूरो/ मुजफ्फरनगर Updated Mon, 05 Jun 2017 11:31 PM IST
विज्ञापन
भीम आर्मी के पकड़े गए सदस्यों से बरामद सामान।
भीम आर्मी के पकड़े गए सदस्यों से बरामद सामान। - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
खुफिया विभाग ने एक सप्ताह पूर्व भीम आर्मी के बारे में शासन को रिपोर्ट भेजी थी कि जनपद में संगठन की कोई सक्रियता नहीं है। भीम आर्मी से संबंधित अचानक कई मामले सामने आने से एलआईयू सकते में है। चरथावल के चार युवक पंचायतों के लिए सोशल मीडिया पर सक्रिय नजर आए तो वहीं भोपा पुलिस ने आर्मी के नाम से चंदा इक्ट्ठा करते तीन पकड़े। 
विज्ञापन


शहर की एक दलित बहुल बस्ती में संगठन के नाम पर चंदे के लिए गेहूं एकत्र करने की बात सामने आई है। भीम आर्मी की सुगबुगाहट से पुलिस में अफरातफरी मची है।  सहारनपुर में गत माह दलितों और ठाकुरों के बीच जातीय संघर्ष हो गया था। दोनों ओर के एक-एक युवक की मौत हो गई थी।


शासन ने पांच वरिष्ठ अफसरों की टीम जांच के लिए भेजी तो भीम आर्मी संगठन का नाम सामने आया। माहौल को देखते हुए जनपद पुलिस ने अपने यहां भी आर्मी के बारे में जानकारी जुटाई और आनन-फानन में रिपोर्ट बनाकर शासन को भेज दी। रिपोर्ट में खुफिया विभाग ने भीम आर्मी की जिले सक्रियता को सिरे से नकार दिया था।

उधर, शुक्रताल के गंगा दशहरा मेले में आर्मी के नाम से चंदा इक्ट्ठा करने के लिए लगाए गए शिविर को देखा गया तो पुलिस में हड़कंप मच गया। मौके पर गए फोर्स ने कैंप को उखाड़ कर फेंक दिया। भोपा पुलिस ने तीन आरोपियों की तलाश में दबिश दी। तीनों ने शहर के बसंत विहार में मीटिंग कर लोगों को उकसाने का प्रयास किया।

सूचना पर भारी फोर्स मौके पर पहुंचा तो सभी मौके से फरार हो गए। इसी बीच पता चला कि शहर की दलित बहुल बस्ती में आर्मी के नाम से सहारनपुर के दलितों की मदद के लिए कई क्विंटल गेहूं इक्ट्ठा किया गया। पता चलने पर पुलिस दौड़ी तो लोगों ने ऐसा कुछ होने से इंकार कर अपना पीछा छुड़ाया। 

सोमवार सुबह चरथावल के लोगों ने एसएसपी अनंत देव से मुलाकात कर चार युवकों के नाम बताए। बताया कि चारों युवक क्षेत्र में भीम आर्मी के नाम पर दलित समाज के युवकों को बरगला रहे हैं और 14 व 18 तारीखों में होने वाली पंचायतों में शामिल होने के लिए कह रहे हैं। एसएसपी को लगातार हो रहे मामलों का पता चला तो उन्होंने अधीनस्थों के साथ बैठक की और हर हाल में संगठन के लिए काम करने वालों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई करने को कहा।

एसएसपी ने संगठन से जुड़े लोगों के बारे में गहनता से पता कर सभी प्रभारी निरीक्षकों को कार्रवाई के लिए कहा है। तीन दिन से जनपद में लगातार कहीं न कहीं भीम आर्मी की सक्रियता नजर आ रही है। ऐसे में सवाल उठता है कि किस आधार पर खुफिया विभाग ने अपनी रिपोर्ट में भीम आर्मी को क्लीन चिट दे दी थी।       
  
रथेड़ी और मंगलौर  में होनी है पंचायत      
भोपा पुलिस द्वारा पकड़े गए तीनों आरोपियों से मिले पर्चे ने पुलिस की नींद उड़ा दी है। परचेे में साफ लिखा है कि चंद्रशेखर के हाथ मजबूत करने के लिए 14 जून को बाईपास पर रथेड़ी पशु पैंठ मैदान पर होने वाले कार्यक्रम में हिस्सा लें। दूसरी ओर, चरथावल निवासी जिन चार युवकों के नाम सामने आए हैं, वो चारों इसी तरह की रैली 18 जून को उत्तराखंड के मंगलौर में कराने की बात कहकर दलितों को बहकाने के प्रयास में जुटे हैं। चारों युवक सोशल मीडिया का सहारा ले रहे हैं।       

गुपचुप पंचायत  करने की तैयारी      
संगठन से जुड़े युवक खुद ही जनपद में गुपचुप तरीके से भीम आर्मी के नाम से पंचायत करने  की तैयारी में जुटे हैं। पुलिस लाइन में प्रेसवार्ता के दौरान एसपी देहात विनीत भटनागर ने बताया कि किसी भी व्यक्ति ने कार्यक्रम केे नाम पर अनुमति लेने का प्रयास नहीं किया है। बताया कि कुछ आयोजकों के नाम पुलिस के सामने आ गए बाकी की जांच चल रही है, जिस कार्यक्रम से माहौल खराब होने की संभावना हो, उसे आयोजित नहीं किया जाएगा। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us