'My Result Plus
'My Result Plus

टीम चयन में नहीं बरती जा रही हैं पारदर्शिता

Muzaffar nagar Updated Fri, 28 Dec 2012 05:30 AM IST
ख़बर सुनें
मुजफ्फरनगर। यश भारती अवार्ड से नवाजे जा चुके भारतीय वालीबॉल टीम के पूर्व कप्तान रणवीर सिंह ने कहा कि खेल संघों ने खेलों का बेड़ा गर्क किया है। टीम चयन में भेदभाव के कारण प्रतिभाएं दम तोड़ रही है। यूपी में खिलाड़ियों को प्रोत्साहन नहीं मिलता।
शामली जिले के गंाव सिंभालका निवासी उत्तर प्रदेश वालीबॉल संघ के सचिव रणवीर सिंह ने अमर उजाला के साथ बातचीत में कहा कि खेल संघों की राजनीति ने खिलाड़ियों का नुकसान किया है। वालीबॉल में जूनियर और सीनियर स्तर पर खिलाड़ियों का सही चयन नहीं किया गया। पिछले लगभग एक दशक में प्रदेश के किसी खिलाड़ी का चयन नेशनल टीम में नहीं हुआ। चयन में धांधली के कारण प्रतिभाएं दम तोड़ रही है। फर्जी खेल संघों का भी बोलबाला है। युवा खिलाड़ियों को गुमराह किया जा रहा है। सही प्रशिक्षण और सही चयन के दम पर ही खिलाड़ी निखर सकते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए आगे आना चाहिए। वेस्ट यूपी प्रतिभाओं का खजाना है।


उपलब्धियां
वर्ष उपलब्धि
1974 लक्ष्मण अवार्ड
1975 अर्जुन अवार्ड
1993 पुलिस पदक
1999 यश भारती
2005 राष्ट्रपति पुलिस पदक
2007 चयन समिति सदस्य (वालीबॉल)

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

बलात्कार की घटनाओं पर बोले पीएम मोदी- राक्षसों को फांसी पर लटकाएंगे

मध्यप्रदेश के मंडला जिले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बलात्कार की बढ़ती घटनाओं पर चिंता जताते हुए कहा कि जो भी राक्षसी काम करेगा उसे फांसी पर लटकाया जायेगा।

24 अप्रैल 2018

Related Videos

यूपी में 13 साल की बच्ची के साथ डॉक्टर ने किया दुष्कर्म, खिलाई नशीली दवाएं

मुजफ्फरनगर में एक डॉक्टर और पत्रकार पर तेरह साल की बच्ची से रेप करने का आरोप है। पीड़ित बच्ची ने बताया कि डॉक्टर ने सिर दर्द की दवा देने के बजाय नशीली दवा दी और फिर तीन दिन तक दुष्कर्म किया।

22 अप्रैल 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen