आपका शहर Close

विधानसभा चुनाव 2017: फाइनल नतीजे

....तो सिर्फ किताबों में नजर आएंगे परिंदे

Muzaffar nagar

Updated Thu, 11 Oct 2012 12:00 PM IST
शामली 10 अक्तूबर। वर्तमान दौर में मौसम में तेजी से हो रहे बदलाव के कारण हिमालयी परिंदों की संख्या में तेजी से गिरावट आई है। हाईफीड नेचुरल हिस्ट्री रिसर्च एंड कंजर्वेशन सेंटर की टीम द्वारा किए गए शोध में यह चौंकाने वाली हकीकत सामने आई है। संस्था ने चिंता जताई है कि यदि यह सिलसिला जारी रहा तो एक दिन यह परिंदा हमेशा के लिए लुप्त हो जाएंगे। संस्था शोध रिपोर्ट को केंद्र सरकार के वन्य जीव विभाग को भेजकर वस्तु स्थिति से अवगत कराएगी।
हाईफीड नेचुरल हिस्ट्री रिसर्च एंड कंजर्वेशन सेंटर के परियोजना निदेशक डॉक्टर उमर सैफ ने बताया कि संस्थान की ओर से किए गए शोध में यह बात सामने आई है कि जलवायु परिवर्तन के कारण शिवालिक के वन और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में करोड़ों साल से रहती आ रहीं हिमालयी बया परिंदों की मादाओं ने इस साल प्रजनन करना छोड़ दिया है। इंटरनेशनल यूनियन फार कंजर्वेशन नेचर एंड नेचुरल रिर्सोसेज की रेड लिस्ट अथारिटी की रिपोर्ट में कहा गया है कि यह परिंदा तराई क्षेत्र में पाए जाते हैं और विश्व स्तर पर इसे संकटग्रस्त घोषित किया जा चुका है। पिछले 60 सालों में इनकी संख्या घटकर तीन हजार से भी कम रह गई है।
संस्था की टीम ने इस संबंध में मार्च 2012 में इसके सर्वे और शोध की शुरुआत की। इसमें शामली, मुजफ्फरनगर बागपत, मेरठ, सहारनपुर में जिलों में इन परिंदों की संख्या 452 से ज्यादा मिली। इनमें सबसे अधिक 319 से ज्यादा परिंदे शामली जिले के यमुना नहर के किनारे पेड़ों पर वास करते हैं। यह संख्या इनकी विश्व की कुल तीन हजार का 12 फीसदी है।
शोध के दौरान हाईटेक उपकरणों के जरिये टीम विशेषज्ञों ने इन परिंदों की इकोलॉजी और भाषा जानने की कोशिश की, तो पता चला कि ये परिंदे मानसून के बाद प्रजनन के लिए घोंसले बनाने शुरू करते हैं। इस साल परिंदों ने यह काम जुलाई के आखिरी सप्ताह में किया। शोध के दौरान टीम ने कैमरों से इन परिदों की रोजाना के क्रियाकलापों की वीडियो और सोनोग्राफी की, जिसमें पता चला कि जुलाई से अक्तूबर तक करीब 452 नरों ने घोंसले बनाए। साथ ही अपने साथियों को लुभाने की पूरी कोशिश की, लेकिन किसी भी मादा ने एक भी नर के साथ मिलन नहीं किया। इस वजह से घोंसले अधूरे ही रह गए, जो कि काफी चिंताजनक है। शोध में यह बात भी सामने आई है कि यदि यही स्थिति रही तो एक दिन यह प्रजाति लुप्त हो जाएगी। संस्था के परियोजना निदेशक ने बताया कि वह अपने शोध में मिली जानकारी को केंद्र सरकार के वन्य जीव विभाग को भेजेंगे, ताकि इनके संरक्षण के लिए बेहतर प्रयास हो सके। शोध टीम में सौरभ खाटियान, प्रदीप कुमार, प्रशांत मेहरबान, नवाजबेग और इंतजार आदि शामिल थे।
Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

SEX स्कैंडल में पकड़ीं एक्ट्रेस ने खोला बॉलीवुड का काला सच, 50 हजार में जिस्म परोसने को मजबूर हीरोइनें

  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

सर्दियों में ऑफिस में लगना है स्टाइलिश, तो करीना कपूर से ऐसे लें स्टाइल टिप्स

  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

सेक्स रैकेट में पकड़ी गई एक्ट्रेस का नाम आ गया सामने, एक कस्टमर से लिए जाते थे 50 हजार रुपए

  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

Bigg Boss 11: शादीशुदा होते हुए भी गौरी को दिल दे बैठे थे, सुलझे हितेन की उलझी हुई है लव स्टोरी

  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

Bigg Boss 11: बाहर आकर हितेन ने खोली शिल्पा, हिना की पोल, अर्शी की 'मोहब्बत' पर दिया खूबसूरत जवाब

  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

Most Read

योगी सरकार ने पेश किया 11,388 करोड़ का अनुपूरक बजट, इन्फ्रास्ट्रक्चर पर खास फोकस

cm yogi presented budget in winter session
  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

जीत की बधाई संग राहुल पर तंज, योगी बोले-कांग्रेस का नेतृत्व बदलना बीजेपी के लिए शुभ

cm yogi congrats bjp on Gujrat and Himachal election
  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

हिमाचल चुनाव त्वरित विश्लेषण: मोदी के जादू व जनता के तय रोटेशन से हिमाचल में भगवा

himachal election 2017 live result analysis of bjp victory
  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

उत्तराखंड के CM बोले 'कांग्रेस में सारे कौआ खाने वाले इकट्ठा हुए, फिर भी नहीं जीत पाए हिमाचल-गुजरात

 cm trivendra comment on congress after gujarat himachal election result
  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

लखनऊ-दिल्ली के बीच तीसरी नॉन स्टाप बस सेवा शुरू, समय के सा‌थ किराये में भी होगी बचत

news volvo service started from lucknow to delhi
  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +

देखिए, लाइक्स न कमेंट, मौत की सेल्फी से मचा परिवार में कोहराम

No likes no comments, selfie of death, kohram in family
  • सोमवार, 18 दिसंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!