विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अयोध्या प्रकरणः कल्याण सिंह बतौर आरोपी 27 को अदालत में तलब, विशेष न्यायाधीश ने दिया आदेश

अयोध्या प्रकरण के विशेष न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को बतौर आरोपी तलब किया है।

22 सितंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

मुरादाबाद

रविवार, 22 सितंबर 2019

राहत पैकेज के लिए वाणिज्य मंत्री से मिले निर्यातक

मुरादाबाद। मंदी की मार से जूझते मुरादाबाद के हस्तशिल्प उद्योग की समस्याएं लेकर निर्यातकों का प्रतिनिधि मंडल गुरुवार को नई दिल्ली में वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल से मिला। सांसद डा. एसटी हसन के नेतृत्व में वाणिज्य मंत्री से मिले निर्यातकों ने इंडस्ट्री को बचाने के लिए खास रियायतों की मांग की है।
सांसद डा. एसटी हसन ने वाणिज्य मंत्री से मांग की है कि मुरादाबाद को दुनियाभर में पहचान दिलाने वाले यहां के हस्तशिल्प उद्योग को बचाने के लिए सरकार मदद करे। निर्यातकों की ओर से इंडस्ट्री की समस्याएं गिनाते हुए ईपीसीएच के पूर्व चेयरमैन सतपाल ने मंत्री से कहा कि मुरादाबाद से 8500 करोड़ रुपये का निर्यात सालाना होता है जबकि 1500 करोड़ रुपये का घरेलू कारोबार होता है। लेकिन मंदी की वजह से 10000 करोड़ रुपये टर्न ओवर वाली यह इंडस्ट्री 6000 करोड़ रुपये सालाना पर सिमट सकती है। उन्होंने ईरान के साथ ठप्प पड़े एक्सपोर्ट को शुरू कराने, अभी तक ईरान को हुए निर्यात पर जीआर-1 क्लियर कराने, रिस्की सूची में आए निर्यातकों के इंसेंटिव नहीं रोकने की मांग मंत्री से की है। इसके अलावा मंत्री का यह भी बताया गया कि एक नवंबर 2017 से 31 जुलाई 2018 तक एमईआईएस लाइसेंस को पांच फीसदी से बढ़ाकर सात फीसदी किया गया था। लेकिन जानकारी के अभाव में निर्यातक इसका फायदा नहीं उठा सके थे। सरकार निर्यातकों को एक मौका दे ताकि उस अवधि का दो प्रतिशत अतिरिक्त एमईआईएस वह क्लेम कर सकें। प्रतिनिधि मंडल में ईपीसीएच के सीओए मेंबर अब्दुल अजीम, गानिब मियां समेत कई निर्यातक और दस्तकार शामिल थे।
... और पढ़ें

नाबालिग से दुष्कर्म में दोषी को दस साल की कैद

मुरादाबाद। सिविल लाइंस के अगवानपुर कस्बे में नाबालिग से दुष्कर्म मामले में विशेष न्यायाधीश (पोक्सो एक्ट) संजीव कुमार त्यागी की अदालत ने मुलजिम सुलेमान को दोषी करार देते हुए दस साल की कैद की सजा सुनाई। जबकि दस हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है।
घटना दस जून 2018 को अगवानपुर में हुई थी। आरोपी सुलेमान निवासी अगवानपुर नाबालिग को बहलाफुसला कर इमामबाड़े में अपने साथ ले गया था। यहां आरोपी ने उसके साथ दुष्कर्म किया था। इसी दौरान वहां कुछ लोग पहुंच गए थे। उन्होंने शोर मचाया तो अन्य लोग इकट्ठा हो गए थे। इसके बाद लोगों ने आरोपी को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया था। पुलिस ने इस मामले में आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया। इसके बाद आरोपी सुलेमान को जेल भेज दिया था। केस की तफ्तीश पूरी करने के बाद आरोपी के खिलाफ अदालत में चार्जशीट दाखिल की गई थी। इस केस की सुनवाई वशेष न्यायाधीश (पोक्सो एक्ट) संजीव कुमार त्यागी की अदालत में चली। अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद मुलजिम सुलेमान को दोषी करार दिया। अदालत ने दोषी को दस साल की सश्रम कैद और दस हजार रुपये का अर्थदंड लगाया है। अर्थदंड जमा न करने पर छह माह की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी।
... और पढ़ें

युवक की हत्या कर हाथ पैर बांधकर बगिया में फेंका शव

मुरादाबाद। शहर से लेकर देहात तक पुलिस की कड़ी सुरक्षा के बीच एक युवक की हत्या कर दी गई। कातिलों ने युवक का शव मूंढापांडे थानाक्षेत्र में जीरो प्वाइंट के पास यूकेलिप्टस की बगिया में फेंक दी। गुरुवार शाम युवक का शव बगिया में मिला तो सनसनी फैल गई। जिसकी से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। युवक के गले पर चोटों के निशान हैं, जबकि युवक के हाथ पैरों को बांधा गया है। उसकी जेब से भी एक युवती के फोटो भी मिले हैं। देर रात तक मृतक की पहचान नहीं हो पाई है।
मुरादाबाद दिल्ली हाईवे पर जीरो प्वाइंट के पास लक्ष्मीपुर कट्टई गांव के क्षेत्र में राज किरण डिग्री कालेज से कुछ ही दूरी पर यूकेलिप्टस की बगिया है। गुरुवार शाम गांव की कुछ महिलाएं खेत पर पशुओं के लिए चारा लेने गई थीं। इसी दौरान महिलाएं बगिया में पहुंच गईं। उन्होेंने यहां एक युवक की लाश पड़ी देखी तो वह सन्न रह गईं। उन्होंने आस पड़ोस के खेतों में कार्य कर रहे ग्रामीणों को इसकी जानकारी दी। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। खबर मिलने पर पुलिस भी पहुंच गई और शव को कब्जे में ले लिया। आस पड़ोस गांवों में सूचना भिजवा कर मृतक की पहचान कराने का प्रयास किया गया, लेकिन मृतक की शिनाख्त नहीं हो पाई। मृतक की जेब से एक युवती के कई फोटो मिले हैं। जबकि युवक के हाथ पैर बांधे मिले हैं। युवक के गले पर चोटों के निशान हैं। जिससे आशंका जताई जा रही है कि कहीं दूसरी जगह गला घोंटकर की गई है और यहां लाकर शव को फेंका गया है। सीओ हाईवे दीपक ने बताया कि बगिया में एक युवक का शव मिला है। मृतक की पहचान कराने का प्रयास किया जा रहा है।
कुछ ही दूरी पर पड़ा मिला बैग
मुरादाबाद। विधि विज्ञान की टीम ने मौके पर पहुंचकर जांच पड़ताल की। बगिया में जिस जगह शव मिला है। वहां से कुछ ही दूरी पर बैग पड़ा मिला है। बैग में भी फोटो, गेंद, कुछ रुपये व अन्य सामान मिला है। एक आधार कार्ड भी मिला है। जिसकी जांच की जा रही है।
शवों का डंपिंग ग्राउंड बन रहा मुरादाबाद
मुरादाबाद। मुरादाबाद शवों का डंपिंग ग्राउंड बनता जा रहा है। दिल्ली लखनऊ हाईवे किनारे आने वाले मूंढापांडे, पाकबड़ा थाना क्षेत्र में सबसे ज्यादा शव फेंके जा रहे हैं। हत्या कहीं दूसरी जगह की जा रही हैं और शव यहां लाकर फेंके जा रहे हैं। कुछ दिन पहले ही पाकबड़ा थानाक्षेत्र में एक युवक की हत्या कर दी गई थी। दो साल पहले गजरौला के एक युवक ने अपनी पत्नी की हत्या कर दी थी और मूंढापांडे क्षेत्र में एक कुएं में फेंक कर फरार हो गया था। एक युवक अपनी को नैनीताल घूमने जाने के बहाने अपने साथ लेकर आया था। इसके अलावा पांच साल पहले मझोला थानाक्षेत्र के मंगूपुरा स्थित एक बंद फैक्ट्री में महिला और एक साल साल की बच्ची की साल मिली थी। लेकिन आज तक न तो हत्यारे पकड़े गए और न ही महिला और बच्ची की पहचान हो पाई। इसके अलावा काशीपुर तिराहे के पर एक युवक की हत्या करने के बाद उसकी लाश जंगल में फेंक दी थी। पुलिस इस घटना का खुलासा कर चुकी है। इस युवक की हत्या भी कहीं दूसरी जगह की गई थी।
... और पढ़ें

आयुष्मान के नाम पर फर्जीवाड़ा, कैंप लगाकर भरवाए जा रहे फर्जी फॉर्म, वसूले पैसे

आयुष्मान भारत योजना में चयनित लाभार्थियों के गोल्डन कार्ड बनाए जाने के कैंपों की आड़ में फर्जी कैंप लगाकर फॉर्म भरवाने का मामला उजागर होने से स्वास्थ्य विभाग एवं प्रशासन में खलबली मची है। कुछ युवकों ने शनिवार को दसवा घाट में फर्जी कैंप लगाकर आयुष्मान के फॉर्म भरवाने के एवज में सैकड़ों लोगों से दो-दो सौ रुपये वसूल लिए। फर्जी कैंप का खुलासा होने पर लोगों ने जमकर हंगामा किया। स्थानीय पार्षद ने मौके पर पहुंचकर करीब 50 लोगों से वसूले पैसे वापस कराए। इसी बीच युवक कैंप समेटकर फरार हो गए।

आयुष्मान पखवाड़े के अंतर्गत जनसेवा केंद्रों पर आयुष्मान कार्ड बनाए जा रहे हैं। जबकि नए फॉर्म भरने की प्रक्रिया बंद है। जिन लोगों का आयुष्मान योजना में चयन नहीं हुआ है वो पूछताछ के लिए स्वास्थ्य विभाग और जनसेवा केंद्रों के चक्कर काट कर रहे हैं। इसी का फायदा उठाकर शनिवार को दसवा घाट में कुछ युवकों ने फर्जी कैंप लगा दिया। युवक आयुष्मान योजना के बैनर और फ्लैक्स लेेकर पहुंचे थे। दसवा घाट में रमेश टेंट हाउस के पास दोपहर 12 बजे कैंप लगा दिया। कैंप लगते ही आसपास के दर्जनों लोग फॉर्म भरवाने पहुंच गए। युवकों ने एक एक फॉर्म भरने के एवज में दो-दो सौ रुपये वसूले। दर्जनों युवकों से वसूली की खबर से पार्षद विनय मौके पर पहुंचे।

उन्होंने फार्म भरवाने के लिए पूछताछ की तो युवक सकपका गए। पार्षद विनय ने आयुष्मान की शिकायत प्रकोष्ठ की प्रभारी सुगंधा रस्तौगी को फोन कर सूचना दी। सुगंधा ने आयुष्मान फार्म भरवाए जाने से इनकार कर दिया। इसके बाद ही हंगामा हो गया। पार्षद ने करीब 50 लोगों के पैसे वापस कराए। लोगों की बढ़ती भीड़ और आक्रोश देख युवक कैंप समेटकर फरार हो गए। इसकी शिकायत डीएम राकेश कुमार और स्वास्थ्य विभाग के अपर एसीएमओ से की गई। स्वास्थ्य विभाग ने जांच शुरू कर दी है।

- दसवा घाट स्थित रमेश टेंट हाउस में कुछ युवकों ने कैंप लगाया था। कैंप में स्थानीय लोगों से आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए फार्म भरवाए जा रहे थे। इसके एवज में दो-दो सौ रुपये वसूले जा रहे थे। जबकि नए फॉर्म भरने की वेबसाइट साइड बंद है। सूचना पर मौके पर जाकर कैंप बंद करवा दिया। दर्जनों लोगों को उनके दो-दो सौ रुपये वापस करवाए। इसकी सूचना आयुष्मान जिला स्तरीय शिकायत कमेटी की प्रभारी सुगंधा रस्तौगी को दी गई। - विनय, पार्षद वार्ड छह

- मेरी दुकान के दोपहर 12 बजे दो युवक आए। युवकों ने आयुष्मान कार्ड के फॉर्म भरवाने के लिए कैंप लगाने की बात कही। जनहित का मामला होने के कारण अपनी दुकान के आगे कैंप लगाने की अनुमति दे दी। युवक आयुष्मान योजना की फ्लैक्सी और बैनर लेकर आए थे। बैनर और फ्लैक्सी लगने के बाद आसपास के लोग आयुष्मान के फार्म भरवाने पहुंच गए। एक घंटे बाद ही फर्जी कैंप की जानकार मिली और हंगामा हो गया। लोगों के पैसे लौटाने के बाद युवक भाग गए। - मोनू सैनी, दुकान स्वामी

- आयुष्मान योजना के फॉर्म भरने की प्रक्रिया बंद है। जन सेवा केंद्रों पर आयुष्मान के कार्ड बनवाए जा रहे हैं। दसवा घाट में स्वास्थ्य विभाग की ओर से फॉर्म भरवाने का कोई भी कैंप नहीं लगाया गया। फॉर्म भरवाने का कैंप फर्जी था। स्थानीय लोगों की शिकायत पर जिलाधिकारी ने जांच के आदेश दिए। - डॉ. डीके प्रेमी, नोडल अधिकारी

- आयुष्मान के चयनित लाभार्थियों के जनसेवा केंद्रों पर आयुष्मान कार्ड बनवाए जा रहे हैं। कार्ड बनवाने के लिए तीस रुपये शुल्क निर्धारित है। कार्ड बनवाने का इससे अधिक शुल्क नहीं वसूला जा सकता है। - राकेश कुमार, जिलाधिकारी
... और पढ़ें
ayushman ayushman

नौ साल पुराने उवैश हत्याकांड में दोषियों को उम्रकैद, पांच-पांच हजार का अर्थदंड भी

कुंदरकी के नौ साल पुराने उवैश हत्याकांड में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रथम राम अचल यादव की अदालत ने शनिवार को फैसला सुनाया। अदालत ने मुलजिम जर्रार हुसैन और मुसफीक को हत्या में दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है। जबकि हत्यारों पर पांच-पांच हजार रुपये का अर्थदंड लगाया है।

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता क्रिमिनल ब्रजराज सिंह ने बताया कि कुंदरकी के बाकीपुर गांव निवासी तालिब हुसैन ने पांच नवंबर 2010 को कुंदरकी थाने में केस दर्ज कराया था। जिसमें उन्होंने बताया कि गांव में चुनाव को लेकर वादी के बेटे उवैश और शाहिद हुसैन के बीच विवाद हो गया था। इस झगड़े में मकसूद घायल हो गया था। जिसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

मकसूद के भाई याकूब के फोन करने पर उवैश गांव के जर्रार हुसैन और मुसफीक के साथ खाना लेकर मुरादाबाद जा रहा था। रास्ते में गन्ने के खेत में जर्रार हुसैन और मुसफीक ने गोली मारकर उवैश की हत्या कर दी थी। पुलिस ने इस मामले में तफ्तीश पूरी करने के बाद अदालत में चार्जशीट दाखिल की।

इस मामले की सुनवाई एडीजे प्रथम राम अचल यादव की अदालत में चली। सरकार की ओर से एडीजीसी ब्रजराज सिंह ने पक्ष रखा और मुलजिमों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने को दलीलें दीं। अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद मुलजिम जर्रार हुसैन और मुसफीक को हत्या में दोषी ठहराते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई। जबकि पांच पांच हजार रुपये के अर्थदंड दंडित किया है।
... और पढ़ें

आजम खां के लिए सीएम योगी से मिले सपा नेता, अखिलेश बोले-संकट की घड़ी में पूरी पार्टी उनके साथ

रामपुर में एक के बाद एक मुकदमों का सामना कर रहे पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां के लिए सपा का एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिला। उनसे कहा कि विधायक, मंत्री व राज्यसभा सदस्य रह चुके और अब सांसद आजम खां क्या बकरी व भैंस चुराएंगे, जो उनके खिलाफ इन धाराओं में भी मुकदमे दर्ज किए गए हैं। 

प्रतिनिधिमंडल ने कार्रवाई को एकतरफा और फर्जी बताते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ को ज्ञापन भी सौंपा। सीएम ने उन्हें उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया।

सपा ने एक खास रणनीति के तहत पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय की अध्यक्षता में एक प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को सीएम योगी आदित्यनाथ के पास भेजा था। बताते हैं कि सीएम के सामने आजम खां मामले में पूरा पक्ष भी उन्हीं ने सीएम के सामने रखा। प्रतिनिधिमंडल में विधानसभा में नेता विरोधी दल रामगोविंद चौधरी, विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष विधान परिषद अहमद हसन, सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल और पूर्वमंत्री बलराम यादव भी शामिल थे।

मुख्यमंत्री को सौंपे ज्ञापन में कहा गया कि मो. आजम खां के खिलाफ  सत्ताधारी दल बदले की भावना से अपमानित और परेशान करने के लिए रोज नए-नए फर्जी मामले दर्ज करवा रहे हैं। इस बात पर कैसे विश्वास किया जा सकता है कि जो व्यक्ति 9 बार विधायक, 4 बार मंत्री, एक बार राज्यसभा सदस्य और वर्तमान में लोकसभा का निर्वाचित सांसद है, वह बकरी-भैंस चोरी जैसे काम करेगा। 
... और पढ़ें

जनता के साथ अच्छा व्यवहार करें : डीजीपी

मुरादाबाद। डीजीपी ने दूसरे दिन मंडल के पुलिस अधिकारियों के साथ पुलिस अकादमी में बैठक कर कानून व्यवस्था के बारे में जानकारी ली और अपराध पर अंकुश बनाए रखने के लिए कहा। अपराधियों की नियमित निगरानी कराने के निर्देश दिए। इसके साथ ही बैठक में मौजूद एसपी, सीओ, एसएचओ, एसओ को जनता के साथ अच्छा व्यवहार करने के लिए कहा गया है।
इसके बाद पुलिस अकादमी में स्थित मॉडल पुलिस थाना के सामने उन्होंने पुलिस अधिकारियों के साथ रुद्राक्ष का पौधरोपण किया। इसके बाद ग्रीन मिडोस स्कूल के जूनियर सेक्शन में प्ले ग्रुप, पार्क का उद्घाटन किया। सीनियर सेक्शन में स्मार्ट क्लास का उद्घाटन किया। यहां स्कूली बच्चों को डीजीपी ने चॉकलेट भी बांटी। इसके बाद पुलिस अकादमी में प्रशिक्षु पुलिस उपाधीक्षकों को ट्रेनिंग के संबंध में जानकारी दी। डीजीपी ने बताया कि ट्रेनिंग सही तरीके से पूरी करें, ताकि नौकरी के दौरान आने वाली चुनौतियों से आसानी से निपटा जा सके। इस दौरान डीजी ट्रेनिंग सुजान वीर सिंह, एडीजी पुलिस अकादमी राजीव कृष्णा, एडीजी पीटीसी बृजराज मीणा, एडीजी बरेली जोन अविनाश चंद्र, आईजी पीएसी अमित चंद्रा, आईजी रमित शर्मा, एसएसपी अमित पाठक, एसपी रामपुर अजय पाल शर्मा, एसपी अमरोहा विपिन ताड़ा, एसपी संभल यमुना प्रसाद, एसपी बिजनौर संजीव त्यागी, एसपी सिटी अंकित मित्तल सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।
बेहतर काम करने वाले पुलिसकर्मियों को किया सम्मानित
मुरादाबाद। डीजीपी ने बेहतर काम करने वाले पुलिसकर्मियों को शुक्रवार को पुलिस लाइन में प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। परिवार परामर्श केंद्र की प्रभारी महिला उपनिरीक्षक संध्या रावत को 1385 प्रकरणों में आपसी समझौता कराकर बिखरे परिवार को पुन: बसाने के लिए सम्मानित किया गया। नारी उत्थान केंद्र के अंतर्गत पैरवी सेल के प्रभारी नीरज तोमर को महिला उत्पीड़न से संबंधित मामलों में पैरवी कर आरोपियों को न्यायालय से सजा दिलाने के लिए सम्मानित किया। सीसीटीएनएस सेेल के कंप्यूटर आपरेटर मनीष उपाध्याय को विभिन्न रैंक के पुलिसकर्मियों को ट्रेनिंग देने और आनलाइन केस डायरी काटे जाने में प्रदेश में जनपद मुरादाबाद को प्रथम स्थान दिलाने में सम्मानित किया गया। कंप्यूटर आपरेटर अमित सिंह द्वारा आईजीआरएस पोर्टल पर मिलने वाली शिकायतों का समय पर निस्तारण करने और जन शिकायत प्रकोष्ठ में तैनात आरक्षी राहुल उपाध्याय द्वारा जनता की समस्याओं के निस्तारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने पर सम्मानित किया गया।
एडवांस ट्रेनिंग, वर्चुअल क्लासरूम से दे रहे प्रशिक्षण
मुरादाबाद। डीजीपी ने कहा कि प्रशिक्षण हमारी प्राथमिकता है। हमने प्रशिक्षण को एडवांस किया है। वर्चुअल क्लास रूम के जरिए प्रशिक्षण पूरे देश में हमने शुरू किया। पिछले साल प्रशिक्षण मुख्यालय में जाकर पिछले साल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वर्चुअल क्लासरूम का उद्घाटन किया। जिससे 28 हजार रिक्रूट को संबोधित किया गया है। फोरेंसिक लैबोरेट्रीज में संसाधन बढ़ाए गए हैं। 75 हजार जवानों को इस साल रिक्रूट किया है। 23 हजार रिक्रूट दिसंबर में ट्रेनिंग खत्म कर लेंगे, 18 हजार पीएसी को प्रशिक्षण देंगे। डीजी ट्रेनिंग सुजान वीर सिंह, एडीजी राजीव कृष्णा ने व्यापक कार्य योजना तैयार है। प्रशिक्षण को सार्थक, सकारात्मक, परस्पर संवादात्मक बनाया जाएगा। प्रशिक्षण का हर पुलिसकर्मी के जीवन में बहुत महत्व है। दो नए प्रशिक्षण संस्थान जालौन और सुल्तानपुर में इस साल खोले गए हैं।
डीएनए को लेकर चिंतित
मुरादाबाद। कई मामलों में डीएनए की जांच रिपोर्ट आने में काफी लंबा वक्त लगता है। जिसको लेकर डीजीपी ने भी चिंता जाहिर की है। उनका कहना है कि जांच रिपोर्ट जल्दी आए, इसको लेकर प्रयास करेंगे।
... और पढ़ें

नई यादें लेकर पुलिस अकादमी से विदा हुए पुलिस अफसर

DGP
मुरादाबाद। डा. भीमराव आंबेडकर पुलिस अकादमी (पुलिस अधिकारियों के लिए गुरुकुल) में आयोजित द्वितीय रियूनियन सेमीनार का शुक्रवार को समापन हो गया। सेमीनार में आए पुलिस अफसरों ने गुरुकुल की पुरानी यादें ताजा की। पुराने साथियों से मिले तो लगा कि एक बार फिर से वह प्रशिक्षण के दौर में ही पहुंच गए हैं। शुक्रवार को डीजीपी से मुलाकात के बाद देर शाम को पुलिस अफसरों ने अपने गंतव्य को प्रस्थान किया।
सेमीनार के बारे में जानकारी देते हुए डीजी ट्रेनिंग सुजान वीर सिंह ने बताया कि लंबे समय से विभाग में कार्यरत रहे पुलिस अधिकारियों ने अपने अनुभव शेयर किए। ड्यूटी के दौरान आने वाली चुनौतियों के बारे में प्रशिक्षु पुलिस उपाधीक्षकों को बताया, जिसका उनको प्रशिक्षण के दौरान लाभ मिलेगा। पुलिस अकादमी के निदेशक ने बताया कि सोशल मीडिया की चुनौतियों के विषय पर भी पुलिस अधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया गया और उसके समाधान के बारे में प्रशिक्षु पुलिस अधिकारियों को जानकारियां प्राप्त हुई है। प्रशिक्षु पुलिस अधिकारियों ने उनसे काफी कुछ सीखा है। बृहस्पतिवार से शुरू हुआ ये दो दिवसीय सेमीनार शुक्रवार को शांत को खत्म हुआ। इस दौरान कुछ पुलिस अधिकारियों के साथ उनकी पत्नियां भी मौजूद रहीं। सेमीनार में आए पुलिस अधिकारियों ने बताया कि रियूनियन कार्यक्रम शानदार रहा। हर साल ये होना चाहिए। बता दें कि कार्यक्रम में यूपी और उत्तराखंड से वरिष्ठ पुलिस अधिकारी आए थे। जो शुक्रवार को वापस लौट गए।
ये अधिकारी रहे सेमिनार में मौजूद
मुरादाबाद। द्वितीय रियूनियन सेमीनार में उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के अलग अलग जनपदों से आए वरिष्ठ पुलिस अधिकारी आईजी उत्तराखंड पुष्पक ज्योति, आईजी उत्तराखंड अजय रौतेला, डीआईजी उत्तराखंड विमला गंजियाल, सेनानायक उत्तराखंड ददन पाल, डीआईजी पीएसी सेक्टर अयोध्या अनिल कुमार सिंह, डीआईजी पीटीसी सीतापुर दिलीप कुमार, डीआईजी पुलिस अकादमी पूनम श्रीवास्तव, डीआईजी कृष्ण बहादुर सिंह, डीआईजी पीटीएस गोरखपुर हरीश कुमार, पुलिस अधीक्षक सीबीसीआईडी अशोक कुमार पांडेय, पुलिस अधीक्षक व्यापार कर शिव प्रसाद उपाध्याय, पुलिस अधीक्षक एससीआरबी अनिल कुमार सिंह, एसपी रेलवे लखनऊ सौमित्र यादव, पीएसी सीतापुर के सेनानायक राहुल यादवेंदु, अपर पुलिस अधीक्षक मानवाधिकार आयोग अमित मिश्रा, पुलिस अधीक्षक क्षेत्रीय लखनऊ नागेश्वर सिंह, पुलिस अधीक्षक एसीआईटी कानपुर बालेंदु भूषण सिंह, 25वीं वाहिनी पीएसी रायबरेली के सेनानायक अरविंद भूषण पांडेय, पुलिस अधीक्षक एसीओ लखनऊ राजीव मल्होत्रा, 15वीं वाहिनी पीएसी आगरा के सेनानायक प्रमोद कुमार प्रथम, एसपी अशोक कुमार, पुलिस अधीक्षक इंटेलीजेंस लखनऊ लल्लन सिंह, पुलिस अधीक्षक प्रशिक्षण निदेशालय महेंद्र यादव, पुलिस अधीक्षक विजिलेंस अखिलेश कुमार निगम, पुलिस अधीक्षक अभिसूचना जुगल किशोर, सेवानिवृत्त डीआईजी अतुल कुमार सक्सेना, सेवानिवृत्त एसपी रामप्रताप सिंह और सेवानिवृत्त एसपी राम बौद्ध शामिल रहे।
... और पढ़ें

अब आजम खां की दिवंगत मां के खिलाफ भी धोखाधड़ी का मुकदमा

लोकसभा सांसद आजम खां के साथ-साथ अब उनके परिजनों के खिलाफ भी एक के बाद एक मुकदमे दर्ज हो रहे हैं। जिला कारागार की जमीन की खरीद-बिक्री करने के आरोप में गंज थाना पुलिस ने सांसद आजम खां की दिवंगत मां अमीर जहां बेगम, बेटे मोहम्मद अदीब खां और बहन नसरीन सहित 37 लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। 

पुलिस ने यह कार्यवाही नायब तहसीलदार कृष्ण गोपाल मिश्रा की तहरीर के आधार पर की है। भाजपा नेता आकाश सक्सेना ने जिलाधिकारी से शिकायत की थी कि जिला जेल में जिस स्थान पर एक समय में फांसी घर हुआ करता था। यह जमीन अब सांसद आजम खां के रिश्तेदारों और करीबियों के कब्जे में है। 

जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने इस मामले में जांच के आदेश दिए थे। इसके बाद राजस्व विभाग की टीम ने जमीन की पैमाइश की थी। जांच में यह साबित हुआ कि यह जमीन श्रेणी सात (सरकारी) है। जमीन वाहिद और खुर्शीद के नाम पर चढ़ गई। इसके बाद वाहिद और खुर्शीद ने अन्य लोगों को यह जमीन बेच दी। 

जमीन के बैनामों पर शाजेब खां, मोहम्मद इकबाल और फारुख आदि के नाम गवाह के रूप में अंकित हैं। पुलिस ने जमीन की खरीद, बिक्री करने वालों के साथ-साथ बैनामों के गवाहों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। मामले में आजम खां की दिवंगत मां अमीर जहां बेगम का नाम भी रिपोर्ट में शामिल है, अमीर जहां बेगम का निधन साल 2013 में हो गया है। 

जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने बताया कि जेल कारागार की जमीन खरीदने-बेचने वालों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है।  इस मामले में शामिल अन्य लोगों की पहचान की जा रही है। ताकि पता चला सके कि जमीन किसके दबाव में खरीदी-बेची गई थी।

इन लोगों के खिलाफ दर्ज हुई रिपोर्ट:

मोहम्मद अदीब खां, जाने आलम, सलीम खां, फरीद बी, शहाना बी, अमीर जहां बेगम, केसर जहां, सईद अहमद, परवीज जहां, रहब्बर खां, तूबा खान, रूमा बी, मंसूर अली, मोहम्मद आरिफ, शहाना, शगुफ्ता अंजुम, मोहम्मद इरफान, मोहम्मद रिजवान, नसरीन, मेहरून निशा, शहदाव, श्रीमति हुसैन, साबरी बेगम, नूर जहां, मोहम्मद मोईन, शादाब अहमद, दानिश, फैसल अहमद, रजिया अहमद, हाजरा बेगम, बाबू खां, अकरम खां, नसीम, वाहिद, खुर्शीद मियां, शाजेव खां, मोहम्मद इकबाल फारुख।

वहीं इस पर रामपुर जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने कहा कि जेल की जमीन खरीद-बेचने के मामले में दर्ज हुए मुकदमे में सांसद आजम खां की दिवंगत मां के नाम पर भी मुकदमा दर्ज हो गया है। पुलिस को सूचित कर दिया गया है कि मुकदमे से उनका नाम हटा दे।
... और पढ़ें

सलेम सराय में पागल कुत्ते ने नौ बच्चों को काटा

मुरादाबाद। डिलारी थाना क्षेत्र के सलेम सराय गांव में पागल कुत्ते ने नौ बच्चों को काट लिया। इनमें तीन बच्चों को बुरी तरह नोच डाला। आक्रोशित ग्रामीणों ने कुत्ते को मार डाला। तीन बच्चों की हालत खराब होने पर शुक्रवार को जिला अस्पताल रेफर किया गया।
सलेम सराय निवासी समर पाल के मुताबिक गुरुवार दोपहर गांव में एक कुत्ता घुस आया। कुत्ता सड़क चलते पैदल लोगों और दोपहिया वाहन चालकों पर झपटने लगा। लोग जैसे तैसे उससे बच गए। कुत्ते ने गांव में बच्चों पर हमला करना शुरू कर दिया। घर के बाहर जो बच्चे मिले उन्हें काट लिया। ग्रामीण धन सिंह ने बताया कि करीब आधे घंटे में कुत्ते ने गांव के नौ बच्चों को काट लिया। इससे गांव में हड़कंप मच गया। तीन बच्चों को गंभीर रूप से नोच डाला। ग्रामीणों ने कुत्ते की घेराबंदी कर उसे लाठी डंडों से मार डाला। धन सिंह ने बताया कि कुत्ता मढै़या गांव से आया था और पागल था। उसने मढै़या गांव में भी कई लोगों को काटा था। ग्रामीणों ने जब उसे मारने का प्रयास किया वह भागकर सलेम सराय पहुंच गया।
ग्रामीण मो. रिजवान ने बताया कि कुत्ते के हमले के शिकार सभी बच्चों को अस्पताल में एंटी रैबीज वैक्सीन दी गई। तीन बच्चों की हालत बिगड़ने पर शुक्रवार को जिला अस्पताल रेफर किया गया। जिला अस्पताल के चिकित्सक डा. शकील अहमद ने बताया कि शुक्रवार को सेलम सराय गांव से दिपांशु (8), कुलदीप (5) और अरबाज (4) ओपीडी आए। तीनों बच्चों को आवारा कुत्ते ने बुरी तरह से काटा है। बच्चों को एंटी रैबीज वैक्सीन देने के साथ इलाज शुरू करवा दिया है। डा. शकील अहमद ने बताया कि ओपीडी में प्रतिदिन 60 से 70 लोगों को एंटी रैबीज वैक्सीन दी जा रही है।
... और पढ़ें

पति को छोड़कर लिए प्रेमी के संग फेरे

पाकबड़ा (मुरादाबाद)। पाकबड़ा थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाली एक युवती ने शादी के चार माह बाद ही पति का साथ छोड़कर प्रेमी के साथ मंदिर में फेरे लेकर दूसरी शादी कर ली।
गांव निवासी एक युवती का प्रेम संबंध गांव के ही युवक के साथ था। दोनों शादी करना चाहते थे लेकिन युवती के परिजन शादी को तैयार नही हुये। युवती के परिजनों ने उसकी शादी जून माह में महानगर के लाइनपार निवासी एक युवक के साथ कर दी। शादी के बाद भी युवती अपने प्रेमी के साथ रहने की जिद पर अड़ी रही और पति का घर छोड़ कर अपने पिता के घर आ गई। युवती को काफी समझाने के प्रयास किये गये लेकिन युवती अपने पति के घर नही गई। शुक्रवार सुबह युवती अपना घर छोड़ कर सीधे महिला थाने जा पहुंची और वहां पर अपने परिजनों से अपनी जान को खतरा बता दिया। पुलिस मामले की जांच में जुटी तो सभी को मौके पर बुला लिया गया। युवती ने अपने पति के साथ रहने से इंकार कर दिया। वह अपने प्रेमी से अपनी शादी करने की मांग करती रही। परिवार को उसकी जिद के आगे झुकना पड़ा और युवती और उसके पति को अलग अलग कर दिया। युवती की शादी उसकी प्रेमी से महिला थाने के पास बने मंदिर में करा दी गई। मामला क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ। एसओ महिला थाना ज्योति सिंह ने बताया कि युवती की दूसरी शादी के संबंध में जानकारी नहीं है।
... और पढ़ें

विकास में मुरादाबाद को ले जाएंगे नंवर वन पर

मुरादाबाद। प्रभारी मंत्री डा. महेंद्र सिंह ने शुक्रवार को जिले के विकास के आंकड़े मीडिया के सामने रखकर दावा किया कि बहुत जल्द मुरादाबाद विकास के मामले में प्रदेश में नंबर एक पर होगा। मुरादाबाद में सरकारी विश्वविद्यालय नहीं होने के मुद्दे पर प्रभारी मंत्री ने कहा कि वह इसके लिए प्रयास कर रहे हैं। आने वाले दिनों में मुरादाबाद को सरकारी विवि जरूर मिलेगा। भ्रष्टाचार के तीन - तीन मुकदमे झेल रहे मुरादाबाद के पूर्व डीएम जुहैर बिन सगीर पर कार्रवाई के मामले में मंत्री ने कहा कि मामला अभी तक उनकी जानकारी में नहीं है।
सर्किट हाउस में पत्रकार वार्ता में प्रभारी मंत्री डा. महेंद्र सिंह ने आजम खां और स्वामी चिन्मयानंद की बाबत पूछे गए सवालों को टाल गए। मुरादाबाद के हस्तशिल्प उद्योग पर पड़ी मंदी की मार पर भी उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। जिले में विकास के आंकड़े गिनाते हुए मंत्री ने कहा कि मुरादाबाद में 59756 किसानों का 322 करोड़ रुपये का ऋण माफ किया गया है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का लाभ जिले के 201497 किसानों को दिया गया है। मंत्री ने कहा कि जिले में किसानों का पिछले साल का 1003 करोड़ रुपये का गन्ना बकाया भुगतान करने के साथ ही मिलों से वर्तमान पेराई सत्र का 800 करोड़ रुपये का गन्ना मूल्य भुगतान कराया जा चुका है। जो बाकी बचा है उसे 30 सितंबर तक करा दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि गौवंश की रक्षा के लिए छह कांजी हाउस बनाए गए हैं, जिनमें 400 गायों को रखा गया है। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत 2123 जोड़ों का विवाह कराया गया है और जिले के 37338 लाभार्थियों को वृद्धावस्था पेंशन दी जा रही है। इस दौरान जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह, महापौर विनोद अग्रवाल, शहर विधायक रितेश गुप्ता, कांठ विधायक राजेश सिंह उर्फ चुन्नू, एमएलसी डा. जयपाल सिंह व्यस्त, बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष डा. विशेष गुप्ता, भाजपा जिलाध्यक्ष हरिओम शर्मा आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

ताउम्र सलाखों में रहेगी हत्यारी चाची

मुरादाबाद। दो साल पहले सिविल लाइंस के नया गांव मऊ गांव में क्रूरता की सारी हदें पार कर दो साल के मासूम अल्फेज की निर्मम हत्या करने वाली चाची राहिल ताउम्र सलाखों के पीछे रहेगी। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश नौ मित्रपाल सिंह की अदालत ने शुक्रवार को चर्चित अल्फेज हत्याकांड में फैसला सुनाया। अदालत ने मुलजिम चाची राहिल को दोषी ठहराते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई और बीस हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया।
यह सनसनीखेज घटना सिविल लाइंस के नया गांव मऊ में हुई थी। इस गांव में रहने वाले मो. असलम का दो साल का बेटा अल्फेज 27 अक्तूबर 2017 को घर से खेलते समय अचानक गायब हो गया था। काफी तलाश के बाद भी मासूम का पता नहीं चल पाया था। एक नवंबर 2017 को मो. असलम के बेटे भाई मो. राजा की पत्नी राहिल एक बोरी घर से बाहर फेंक रही थी। जिससे मो. असलम की बहन अफसाना ने देख लिया था। बोरी को खोलकर देखा गया तो उसमें अल्फेज का शव कई टुकड़ों में मिला। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने राहिल को गिरफ्तार कर लिया। राहिल ने पूछताछ में कबूला था कि उसने रंजिश और तांत्रिक क्रिया में मासूम की हत्या कर लाश घर में ही दफना ली थी, लेकिन शव पुराना होने के कारण घर से बदबू आने लगी थी। इसी वजह से उसने शव को बाहर फेंकने की योजना बनाई। क्रूर चाची ने मासूम के हाथ पैर और अन्य अंगोें को भी काट दिया था। पुलिस ने इस केस में तफ्तीश पूरी करने के बाद अदालत में चार्जशीट दाखिल की थी। इस केस की सुनवाई अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश मित्रपाल सिंह की अदालत में चली। जिसमें सरकार की ओर से सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता अनिल कुमार चौहान ने पक्ष रखा और मुलजिम को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने को दलीलें दीं। मो. असलम, अफसाना, विवेचक, डाक्टर समेत आठ लोगों की गवाही हुई। अदालत ने दोनों पक्षों को सुना और साक्ष्य, गवाह, पोस्टमार्टम रिपोर्ट फोरेंसिक रिपोर्ट के आधार पर मुलजिम राहिल को हत्या में दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई। इसके अलावा बीस हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है।
दीवार पर सिर पटक कर की थी हत्या, काट दिए थे हाथ पैर और गुप्तांग
मुरादाबाद। क्रूर चाची बहाने से बच्चे को अपने घर ले गई थी। उसने बच्चे को सिर के बल दीवार में पटका और उसकी हत्या कर दी। इसके बाद बच्चे के पैर, हाथ की उंगलियां व गुप्तांग काट दिया था। इसके बाद शव बोरी में बंद कर रेत में दबा दिया था। पांच दिन तक शव घर में रखा होने की वजह से बदबू आने लगी थी। राहिल से जब उसे पति ने बदबू के बारे में पूछा तो उसने बता दिया था कि घर में चूहे मार दवा रखी है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree