ट्रेन में वारदातें, दहशत में घिर रहा सफर

Moradabad Updated Sun, 16 Dec 2012 05:30 AM IST
मुरादाबाद। वाकई ट्रेन का सफर असुरक्षित हो गया। स्नेचिंग, लूट और मारपीट तो आम बात थी मगर अब तो कत्ल भी होने लगे। लेकिन रेलवे की सुरक्षा एजेंसियां फिर भी पैसेंजर को सुरक्षित माहौल नहीं दे पा रही हैं। घटनाओं में लगातार इजाफा हो रहा है। ट्रेन में कौन कब और कहां लुट जाए कुछ कहा नहीं जा सकता।
ट्रेन को सुरक्षित करने की प्लानिंग तो कई दफा हुईं लेकिन हासिल कुछ नहीं हुआ। या यूं कहें कि अपराधियों के आगे हथियार डाल चुकी है जीआरपी और आरपीएफ। ट्रेनों में दस्ते चलते हैं मगर घटनाएं रुक नहीं पाती। कई बार तो खुद वर्दी वाले भी आरोपों में घिर रहे हैं। महिलाओं के साथ छेड़छाड़ के मामले लगातार प्रकाश में आ रहे हैं। लेकिन जीआरपी आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाए मामलों को दबाने में लगी रहती है। यही वजह है कि क्राइम ग्राफ आंकड़ों में तो कम हो रहा है लेकिन हकीकत में बेतहाशा वृद्धि हुई है।




दिसंबर में ही हो चुकी हैं कई घटनाएं
गरीब रथ एक्सप्रेस के एसी कोच में चार दिसंबर को युवतियों के साथ कुछ युवकों ने छेड़छाड़ की थी। उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के कुछ देर बाद ही जमानत पर छोड़ दिया गया। उसके अगले ही दिन दिल्ली फैजाबाद एक्सप्रेस में के महिला कोच में युवक की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई। छह दिसंबर को भी जीआरपी के सिपाही पर महिला कोच में छेड़छाड़ के आरोप लगे थे।

दब जाते हैं मामले
मुरादाबाद। ट्रेनों में छेड़छाड़ के अधिकांश मामले दब जाते हैं। महिलाएं लोक लाज के चलते शिकायत नहीं करती हैं। लगभग हर ट्रेन की शिकायत पुस्तिका में इस प्रकार की घटनाएं रोजाना दर्ज होती हैं। लेकिन उसमें भी उनका नाम नहीं खोलने का नोट लगा होता है। इसके अलावा अधिकारियों को एसएमएस और ईमेल के जरिए शिकायतें आती हैं। लेकिन इस प्रकार की घटनाओं पर रोक लगाने का इंतजाम नहीं किया जा रहा है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

मुरादाबाद में पानी की टंकी में मिला छात्र का शव

मुरादाबाद में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls