ऑटम में बहेगी उम्मीदों की बयार

Moradabad Updated Sat, 13 Oct 2012 12:00 PM IST
मुरादाबाद। एशिया का सबसे बड़े हस्तशिल्प एवं उपहार मेले (आटम) का 34 वां संस्करण पंद्रह अक्टूबर से ग्रेटर नोएडा में शुरू होने जा रहा है। आटम पहुंच रहे पांच हजार विदेशी बायरों की वजह से निर्यातक उत्साहित हैं। निर्यातकों को आटम से अच्छे आर्डर मिलने की उम्मीद हैं। उम्मीदों की इसी बयार के बीच निर्यातकों ने ग्रेटर नोएडा में विश्व स्तरीय एक्सपो सेंटर एवं मार्ट में अपने स्टाल सजाने शुरू कर दिए हैं।
ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक राकेश कुमार ने बताया कि मुरादाबाद के लोकसभा सांसद अजहरउद्दीन हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद/ ईपीसीएच की ओर से आयोजित चार दिवसीय मेले के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि होंगे। विकास आयुक्त एसएस गुप्ता सम्मानित अतिथि हाेंगे। उन्होंने बताया कि मेले में चालीस से अधिक देशों के पांच हजार से अधिक बायर हिस्सा लेंगे जो 2400 से अधिक भारतीय निर्यातकों द्वारा विभिन्न रेंज, डिजाइन, स्टाइल एवं कच्चा माल वाले 950 उत्पादों की खरीददारी करेंगे। ईपीसीएच को उम्मीद है कि चालू वित्तीय वर्ष के दौरान हस्त शिल्प निर्यात के 15,500 करोड़ रुपये के लक्ष्य को हासिल कर लिया जाएगा।


ये होंगे विशेष आकर्षण
ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक राकेश कुमार बताते हैं कि इस बार आईएचजीएफ में व्यापक रेंज वाले ऐसे हस्तशिल्प उत्पाद प्रदर्शित किए जाएंगे जो पहले भी नहीं किए गए। मेले में गिफ्टवेयर, किचनवेयर, सजावटी सामग्रियां, फर्नीचर, टेबलवेयर, गार्डन, आर्टिकल्स, हाउसवेयर, एवं फोन एक्सेसरीज आदि उत्पाद प्रदर्शित किए जाएंगे। मेले में प्रदर्शित उत्पाद मुख्यत: लकड़ी, धातू, बेंत, बांस, जैसे कच्चे मालों प्राकृतिक रेशों से निर्मित कपड़ों, ऊन, सिल्क, जूट, कॉयर, पत्थर, चमड़े और वनस्पति रंगों के इस्तेमाल से बने होंगे। मेले में प्रदर्शित सभी उत्पाद हाथ के बने हुए हैं और इनमें मीनों का इस्तेमाल केवल फिनिसिंग के लिए किया गया है।

Spotlight

Most Read

Shimla

वीरभद्र मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सुप्रीम कोर्ट ने ईडी से पूछा ये सवाल

वीरभद्र सिंह से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि ईडी अन्य आरोपियों के खिलाफ पूरक आरोप पत्र कब दाखिल करेगा।

19 जनवरी 2018

Related Videos

रामपुर में मोटरसाईकिल के लिए पत्नी को दिया तीन तलाक

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सरकार ने तीन तलाक पर कानून बनाने का फैसला तो जरूर कर लिया लेकिन इसका असर दिखाई नहीं दे रहा है।

19 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper