निगम के खजाने से करोड़ाें की लूट, अफसर तमाशबीन

Moradabad Updated Mon, 17 Sep 2012 12:00 PM IST
मुरादाबाद। एटूजेड कंपनी और नगर निगम के कुछ अफसरों की मिलीभगत से पिछले 18 महीने में निगम का करोड़ों रुपया हड़प लिया गया। कूड़ा कलेक्शन की एवज में वसूला गया यूजर चार्ज, जो नगर निगम के ज्वाइंट एकाउंट में जाना था उसे कंपनी के कारिंदे और निगम के कुछ अफसर मिल बांटकर हड़प गए। तफ्तीश में पता चला है कि 2.60 लाख का घोटाला तो जुलाई के सिर्फ चार दिन का है। बाकी 18 महीने का रिकार्ड तो अभी किसी ने छुआ तक नहीं। इसकी जांच हुई तो घोटाले की रकम करोड़ों में पहुंचेगी।
नगर निगम के आंकड़ों के मुताबिक 18 महीने के कुल कार्यकाल में एटूजेड कंपनी को 9.7 करोड़ रुपया यूजर चार्ज शहर से वसूल करना था। लेकिन कंपनी की ओर से नगर निगम और कंपनी के ज्वाइंट एकाउंट में केवल 2.15 करोड़ रुपये ही जमा किए गए। घोटाले का भंडोफोड़ कंपनी का अनुबंध खत्म होने के बाद उसी के कुछ कर्मचारियों ने किया। मामले में दर्ज एफआईआर की जांच करने पहुंची पुलिस ने रविवार को प्लांट में रिकार्ड की छानबीन की। इसमें पता चला है कि यूजर चार्ज में जिस 2.6 लाख रुपये के घोटाले की बात एटूजेड कह रही है वह तो सिर्फ जुलाई के चार दिन (1,7,8 और 9 जुलाई) का है। यदि पूरे 18 महीने का लेजर चेक किया जाए तो घोटाला करोड़ाें रुपये में होगा। लेकिन नगर निगम के अफसर घोटाला उजागर होने के बाद भी कंपनी पर मेहरबान हैं। निगम ने अपनी ओर से र्कोई जांच नहीं बैठाई, कंपनी का लेजर लेकर उसे चेक करने की जरूरत भी निगम महसूस नहीं करता।


‘मुल्जिम’ को ही बना दिया मुद्दई
मुरादाबाद। एटूजेड कंपनी के साथ मुरादाबाद नगर निगम का अनुबंध 28 अप्रैल 2010 को हुआ था। जिसमें साफ तौर पर कहा गया था कि पब्लिक से वसूला गया सौ प्रतिशत यूजर चार्ज कंपनी नगर निगम के संयुक्त खाते में जमा करेगी। लेकिन कंपनी ने इस अनुबंध का उल्लंघन किया और पब्लिक से लिए गए यूजर चार्ज के बड़े हिस्से का गबन कर लिया। बावजूद इसके अफसर खामोश हैं। मामला हाईलाइट होने पर कंपनी के ही अधिकारी ने अपने पूर्व कर्मियों पर रिपोर्ट दर्ज करा दी। जबकि यह रकम कंपनी की नहीं बल्कि नगर निगम की थी। कंपनी ने निगम को दो तरह से लूटा, पहला पूरा यूजर चार्ज निगम में जमा नहीं करके जेब में रख लिया और दूसरा यूजर चार्ज नहीं मिलने का बहाना बनाकर निगम के खजाने से करोड़ों रुपये का भुगतान ले लिया। जिसके गबन के आरोप में नगर निगम को कंपनी के खिलाफ मुकदमा लिखाया जाना चाहिए था लेकिन निगम के अफसर कंपनी पर मेहरबान हैं।



लेेजर से हो सकती है छेड़छाड़
मुरादाबाद। घोटाला खुलने के बाद भी यूजर चार्ज से संबंधित सारा लेजर कंपनी के पास है। जिसमें कभी भी छेड़छाड़ की जा सकती है। लेकिन नगर निगम इस ओर से आंखें मूंदे हैं। कमीशनखोरी को लेकर कंपनी से निगम अफसरों के लगाव की बातें पहले भी उछलती रही हैं। लेकिन अब जिस तरह निगम इस घोटाले पर लीपापोती करता नजर आ रहा है उससे निगम के अफसर भी कठघरे में खडे़ हैं। हैरत इस बात की भी है कि 18 महीने तक यह लूटखसोट चलती रही और नगर निगम के अधिकारियों ने कंपनी के कामकाज का सुपरविजन करने की जरूरत नहीं समझी।

Spotlight

Most Read

Lucknow

डीजीपी ने हनुमान सेतु मंदिर में मांगी प्रदेश के लिए कामना तो 'भगवान' ने दिया आशीर्वाद

लंबे इंतजार के बाद प्रदेश के नवनियुक्त डीजीपी ओपी सिंह मंगलवार सुबह राजधानी पहुंचे। एअरपोर्ट से निकलने के बाद सबसे पहले वह राजधानी के सबसे वीवीआईपी मंदिर हनुमान सेतु मंदिर पहुंचे।

23 जनवरी 2018

Related Videos

मुरादाबाद में पानी की टंकी में मिला छात्र का शव

मुरादाबाद में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई।

22 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper