विज्ञापन

डाक्टरों की हड़ताल

Moradabad Bureau Updated Wed, 07 Jun 2017 01:16 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
डाक्टरों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी, सौंपा ज्ञापन
विज्ञापन
आईएमए के नेतृत्व में उप जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन, बाइक रैली निकालकर जताई नाराजगी
अमर उजाला ब्यूरो
चंदौसी।
आइएमए के तत्वावधान में केंद्र सरकार की नई नीतियों का मंगलवार को विरोध किया गया। चिकित्सकों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर विरोध जताया। बाइक रैली निकालकर सरकार के फैसले पर नाराजगी जताई। उप जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर समस्याओं से अवगत कराया है।
इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के तत्वावधान में मंगलवार को चिकित्सकों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। स्टेशन रोड स्थित पंजाबी धर्मशाला में बैठक कर रणनीति बनाई। बाइक रैली निकालकर केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया। अध्यक्ष डा. श्याम गोआनी सक्सेना की अगुवाई में बाइक रैली के माध्यम से नारेबाजी करते हुए तहसील में पहुंचे। तहसील दिवस के दौरान उप जिलाधिकारी अमित कुमार को ज्ञापन सौंपा। इसके बाद वापस आकर पंजाबी धर्मशाला में प्रेसवार्ता कर महत्वपूर्ण जानकारी दी। डा. अनुविंद, डा. मनोज आहूजा, डा. सर्वेश सक्सेना, डा. सलिल दीक्षित, डा. संजीव, डा. विदुषी, डा. विनीता सिंह, डा. राजीव, डा. सविता, डा. हिमांशु वार्ष्णेय, डा. पंकज, डा. कमलकिशोर, डा. आशुतोष अग्रवाल, डा. हरीप्रकाश अग्रवाल, डा. अक्षय कुमार, डा. मनीष मल्होत्रा, डा. मोना मल्होत्रा, डा. वीआर मल्होत्रा, डा. अतुल्य कुमार, डा. जितेंद्र कुमार, डा. मीनू अग्रवाल मौजूद रहे। अध्यक्षता डा. श्याम गोआनी सक्सेना ने की। डा. रजनीश वार्ष्णेय ने बंद की सफलता पर आभार जताया।

यह हैं आइएमए की मांगें
-चिकित्सकों के खिलाफ हिंसा रोकने के लिए केंद्र स्तर पर कानून बनाया जाए।
-एमसीआई की जगह नेशनल मेडिकल कमीशन को नहीं बनाया जाए। एमसीआई में संशोधन किया जाए।
-मेडिकल कॉलेज के छात्र-छात्राओं को पंजीकरण से पूर्व एक ओर परीक्षा नेक्स्ट कराने का प्रस्ताव वापस लिया जाए।
-एमबीबीएस और बीडीएस चिकित्सकों को एलोपैथी दवाएं लिखने का अधिकार हो।
-चिकित्सकों को अपने पर्चे लिखने की आजादी हो।
-क्लिनिकल इस्टेवलिशमेंट एक्ट में संशोधन किया जाए।
-इंटरमिनिस्ट्रियल कमेटी की संस्तुति तत्काल लागू हो।
-चिकित्सीय व्यवसाय में अपराधीकरण खत्म हो।

सरकारी अस्पताल में मरीजों की उमड़ी भीड़
चंदौसी। निजी अस्पतालों की हड़ताल के बाद मरीजों ने सरकारी अस्पताल की ओर रुख किया। अस्पताल में ओर दिन की अपेक्षा दोगुने से अधिक मरीज पहुंचे। चिकित्सकों ने ओपीडी में मरीजों के परीक्षण की औपचारिकताएं पूरी की। अव्यवस्थाओं के बीच मरीजों का उपचार किया गया। मंगलवार को अस्पताल में मरीजों केे इलाज के लिए कड़ी मशक्कत का सामना करना पड़ा।
संयुक्त चिकित्सालय में मंगलवार को ओपीडी में करीब सात सौ मरीज पहुंचे। इनके अलावा करीब पांच मरीजों को भर्ती किया गया। संयुक्त चिकित्सालय में आकस्मिक चिकित्सकीय सेवाओं, ओपीडी समेत अन्य कार्यों के लिए डा. संतोष गंगवार, डा. विपिन सागर और डा. दिग्विजय सिंह मौजूद रहे। महिला चिकित्सक डा.सारिका अवकाश पर रहीं। मरीजों को इलाज के लिए मशक्कत का सामना करना पड़ा। इलाज के नाम पर औपचारिकताएं हावी रहीं। सुबह आठ से दो बजे तक चलने वाली ओपीडी में सात सौ मरीजों के स्वास्थ्य परीक्षण के लिए चुनौती का सामना करना पड़ा। एक मरीज को स्वास्थ्य परीक्षण के लिए दो मिनट से भी कम समय मिला। ऐसे में बीमारी को परखने और इलाज के लिए विश्लेषण की स्थिति बेहद चिंताजनक नजर आ रही है। चिकित्साधीक्षक डा.संतोष ने बताया कि मरीजों के इलाज के लिए गंभीरता बरती जा रही है। मरीजों के बेहतर इलाज के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Jammu

J&K: शोपियां से अगवा 3 एसपीओ की आंतकियों ने की हत्या, 1 को किया रिहा

जम्मू कश्मीर के शोपियां से शुक्रवार सुबह 4 पुलिसवालों के अपहरण की खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि जिन पुलिसवालों का अपहरण हुआ है उनमें 3 एसपीओ यानी स्पेशल पुलिस अफसर थे।

21 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

VIDEO: दर्दनाक हादसा, ट्रैक्टर ट्रॉली से टकराई बस, तीन की मौत

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में गुरुवार को दर्दनाक हादसा हो गया। ट्रैक्टर ट्रॉली और बस के बीच हुई जबरदस्त टक्कर में तीन लोगों की मौत हो गई जबकि आठ लोग गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं।

13 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree