तालाबंदी से खाद को भटक रहे किसान

Mirzapur Updated Sun, 02 Sep 2012 12:00 PM IST
मिर्जापुर। जिले के विभिन्न तहसील क्षेत्रों में स्थित साधन सहकारी समितियों से यूरिया खाद उपलब्ध न होने से किसानों को खाद के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है। वेतन विसंगतियों को लेकर सहकारी कर्मचारियों की हड़ताल से समितियों पर ताला बंदी होने से कृषक मजबूरी में प्राइवेट दुकानों से ऊंचे दामों पर खाद खरीदने को मजबूर हैं। साधन सहकारी समितियाें पर यूरिया खाद 301 रुपये प्रति बोरी मिलती है, जबकि प्राइवेट दुकानों से किसानों के बीच 450 से 500 रुपये तक में यूरिया की बोरी धड़ल्ले से ब्लैक में बेची जा रही है।
छानबे प्रतिनिधि के अनुसार साधन सहकारी समितियों पर ताला लटकने से किसानों को यूरिया खाद नहीं मिल पा रही है, जिससे किसानों के सामने खाद की समस्या खड़ी हो गई है। जो कृषक साधन सहकारी समिति के सदस्य हैं और उन्हें ऋण पर ही खाद लेना है, उनके लिए भारी समस्या खड़ी हो गई है। विगत सोलह अगस्त से वेतन विसंगतियों को लेकर चल रहे हड़ताल के चलते समितियों पर ताला लटक रहा है। कुल बारह समितियों में एक बंद है और ग्यारह समितियों पर ताला लटक रहा है। समितियों पर यूरिया खाद भी नदारद है। एडीओ सहकारिता द्वारिका नाथ तिवारी का कहना है कि कर्मचारियों के हड़ताल पर होने के कारण न तो खाद आ पा रही है और न ही किसानों के बीच खाद का वितरण हो पा रहा है, जबकि जिले पर पर्याप्त मात्रा में यूरिया खाद उपलब्ध है। छानबे में साधन सहकारी समिति बौड़ई, नरोईया, चितौली, नरैना, खैरा, कोलेपुर, गौरा, नौगांव, बबूरा, शिवपुर व गैपुरा समितियों पर ताला बंद है, जिससे किसान परेशान नजर आ रहे हैं। कैलहट प्रतिनिधि के अनुसार नरायनपुर ब्लाक में सहकारी संघ को लेकर कुल तेरह साधन सहकारी समितियां हैं, जिन पर समिति कर्मियों के हड़ताल के चलते ताला लटक रहा है। क्षेत्र के साधन सहकारी समिति कैलहट, कोलना, सहसपुरा, शेरपुर, जलालपुर मैदान, चंदापुर, जलालपुर माफी, अदलहाट, घाटमपुर, रामपुर, टेढूआ एवं सहकारी संघ नरायनपुर व अदलहाट पर तालाबंदी के साथ ही यूरिया खाद भी नहीं है। किसान प्राइवेट दुकानों से ऊंचे दामों पर खाद खरीदने को मजबूर है। जमालपुर प्रतिनिधि के अनुसार क्षेत्र के सभी समितियों पर ताला बंद है तथा खाद किसी भी साधन सहकारी समितियों पर उपलब्ध नहीं है। क्षेत्र के साधन सहकारी समिति भुइली, मठना, विशेषरपुर माफी, जयपत्ती, चौकियां, ओड़ी, जमालपुर, अहरौरा, बहुआर आदि समितियों पर हड़ताल के चलते तालाबंदी है। एडीओ कोआपरेटिव रामलक्षन सिंह ने बताया कि खाद जिले पर ही नहीं है, संभावना है कि एक दो दिन के अंदर जिले में रैक लग जाएगी, लेकिन हड़ताल के चलते खाद समितियों पर नहीं आ पाएगा।
वर्तमान समय में किसान प्राइवेट दुकानों से मंहगे दामों पर यूरिया खरीदने को मजबूर हैं। लालगंज प्रतिनिधि के अनुसार तहसील क्षेत्र के साधन सहकारी समिति लालगंज, रामपुर खोमर, पगार, चरकी, तेंदुहनी, थरपरसिया साधन सहकारी समितियों में से चरकी व तेंदुहनी साधन सहकारी समिति को छोड़ अन्य सभी पर ताला बंद है। चरकी व तेंदुहनी स्थित साधन सहकारी समिति पर शनिवार को किसानों के बीच खाद का वितरण कराया गया। क्षेत्र के लालगंज, रामपुर खोमर, पगार व थरपरसिया साधन सहकारी समितियों पर खाद नदारद है और समितियों पर हड़ताल के चलते ताला लटक रहा है। समितियों पर खाद उपलब्ध न होने से किसान अपने खेतों में डालने के लिए खाद प्राइवेट दुकानों से लेने को मजबूर हैं। राजगढ़ प्रतिनिधि के अनुसार क्षेत्र के साधन सहकारी समिति ददरा हिनौता, जमुई, बघौड़ा, कोटवां, भांवा, पचोखरा, पथरौर समितियों पर वर्तमान में यूरिया खाद उपलब्ध नहीं है, जबकि इन समितियों से सदस्यों का करीब पंद्रह लाख रुपया पूर्व में ही जमा कराया गया है। वर्तमान समय में धान की निराई चल रही है और यूरिया खाद की जरूरत है, जिसे किसान प्राइवेट दुकानों से ऊंचे दामों पर खाद खरीदकर पूरा कर रहे हैं। एडीओ कोआपरेटिव कर्नल अशोक सिंह ने बताया कि हड़ताल के चलते समितियों पर खाद आने में दिक्कतें हो रही है, जैसे ही खाद उपलब्ध होगी, किसानों के बीच तुरंत वितरित करवाया जाएगा।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: आपके बच्चों से स्कूल में ये काम तो नहीं कराया जाता?

मिर्जापुर के बंधवा में बने पूर्व प्राथमिक पाठशाला की एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में स्कूल के छात्रों से शौचालय साफ कराया जा रहा है।

30 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls