सीधे किसानों से खरीदा जाए गेहूं : आयुक्त

Mirzapur Updated Thu, 07 Jun 2012 12:00 PM IST
मिर्जापुर। गेहूं सीधे किसानों से क्रय किया जाए, उसे रखने की व्यवस्था आसपास में यदि कहीं हाल या छायादार टीनशेड हो तो उसमें की जाए ताकि गेहूं खराब न होने पाए। ये बातें बुधवार को विकास भवन के सभागार में आयोजित मंडलीय समीक्षा बैठक में मंडलायुक्त प्रज्ञान राम मिश्र ने कहीं।
उन्होंने कार्यदायी संस्थाओं से निर्माण कार्यों को गुणवत्ता और पारदर्शिता पूर्ण बनाए रखने की हिदायत दी। सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के निर्माणाधीन भवनों की समीक्षा के दौरान श्री मिश्र ने संयुक्त निदेशक स्वास्थ्य को निर्देशित किया कि वे निर्माण इकाईयों की बैठक जिलाधिकारी की अध्यक्षता में कराएं तथा इस आशय की रिपोर्ट प्रस्तुत करें कि पिछले पांच वर्षों में किस प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के लिए कब और कितनी धनराशि अवमुक्त की गई थी तथा किस केंद्र पर कितने प्रतिशत कार्य हुआ है। मंडलायुक्त ने कहा कि अधीक्षण अभियंता विद्युत अपने सूत्रों से पता लगाएं कि कहां के ट्रांसफार्मर खराब हैं और उसे 72 घंटे के अंदर ठीक कराएं। कहा कि गांव तभी संतृप्त माना जाएगा जब विद्युतीकरण होने के बाद कम से कम दस प्रतिशत बीपीएल परिवारों के घरों में विद्युत कनेक्शन लग जाएं। पेयजल समस्या को गंभीरता से लेते हुए श्री मिश्र ने कहा कि खराब हैंडपंपों की मरम्मत प्राथमिकता के आधार पर की जाए । कहा कि जिन गांवों में टैंकरों से पानी भेजने की आवश्यकता हो जल निगम उसे प्राथमिकता पर लेते हुए पानी मुहैया कराए। उन्होंने कहा कि तहसील दिवस का रजिस्टर बनाया जाए और उसमें फरियादियों का नाम व मोबाइल नंबर आदि लिखे जाए ताकि निस्तारण के बाद उन्हें अवगत कराया जा सके। समीक्षा बैठक में ग्रामीण आवास, आवासहीनों को आवासीय पट्टा, कृषि पट्टा, पेंशन, छात्रवृत्ति, आदि की समीक्षा की गई। इस दौरान जिलाधिकारी मिर्जापुर गोविंद राजू एसएन, जिलाधिकारी सोनभद्र सुहास एलवाई, अपर आयुक्त प्रशासन सरोज, मुख्य विकास अधिकारी मिर्जापुर डा. सुरेंद्र कुमार पांडेय, सीडीओ भदोही व सोनभद्र के अलावा अन्य मंडलीय अधिकारी उपस्थित रहे।

गेहूं का भुगतान अब किसानों के खाते में होगा ट्रांसफर
मिर्जापुर। किसानों से क्रय किए गए गेहूं का भुगतान अब सीधे उनके खाते में भेजा जाएगा। आरटीजीएस के माध्यम से विक्रय मूल्य की धनराशि को किसानों के खाते में ट्रांसफर करने की व्यवस्था लागू कर दी गई है। संभागीय खाद्य विपणन अधिकारी ने एक विज्ञप्ति में कहा है कि अब किसानों को गेहूं के भुगतान के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि अब बिक्री मूल्य का भुगतान अब सीधे किसानों के खाते में ट्रांसफर कर दिया जाएगा। किसानों से कहा कि किसान गेहूं विक्रय के लिए ले जाते समय किसान बही के साथ ही अपनी पासबुक अपने साथ अवश्य ले जाएं, जिससे उन्हें गेहूं का भुगतान प्राप्त करने में कोई कठिनाई न हो।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: आपके बच्चों से स्कूल में ये काम तो नहीं कराया जाता?

मिर्जापुर के बंधवा में बने पूर्व प्राथमिक पाठशाला की एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में स्कूल के छात्रों से शौचालय साफ कराया जा रहा है।

30 दिसंबर 2017