विज्ञापन

तलवार की धार पर काम करना पड़ रहा पत्रकारों को

Mirzapur Updated Thu, 31 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
मिर्जापुर। हिंदी पत्रकारिता दिवस के अवसर पर नगर में विभिन्न पत्रकार संगठनाें ने गोष्ठियां आयोजित कर पत्रकारिता के महत्व पर विस्तार से प्रकाश डाला। विंध्य प्रेस क्लब मिर्जापुर की ओर से जहां वर्तमान परिदृश्य में मिर्जापुर की पत्रकारिता विषयक गोष्ठी आयोजित की गई वहीं दूसरी ओर नगर के स्मार्ट किड्स स्कूल में स्थानीय पत्रकारिता में साहित्य को स्थान विषयक गोष्ठी में वक्ताओं ने अपने विचार रखे।
विज्ञापन

विंध्य प्रेस क्लब मिर्जापुर के तत्वावधान में बुधवार को जिला पंचायत सभागार में वर्तमान परिदृश्य में मिर्जापुर की पत्रकारिता विषयक गोष्ठी में मुख्य अतिथि एमएलसी श्याम नारायन सिंह उर्फ विनीत सिंह ने कहा कि पत्रकार निष्पक्ष खबरों से कोई समझौता न करें। इलेक्ट्रानिक मीडिया के बारे में कहा कि खबरों में जल्दबाजी दिखाने के बजाय उसके तह तक जाकर तथ्यों का संकलन करें। बीएचयू साउथ कैंपस के ओएसडी प्रो. आरपी सिंह ने आज की पत्रकारिता को चुनौतीपूर्ण बताया।
कृषि वैज्ञानिक गुरु प्रताप सिंह ने कहा कि मीडिया के उद्योगपतियों के हाथों में होने की वजह से पत्रकार को तलवार की धार पर काम करना पड़ रहा है। भाजपा नेता गंगा सागर दूबे ने आज की पत्रकारिता पर विस्तृत रूप से प्रकाश डाला। अमर उजाला के ब्यूरो चीफ राहुल श्रीवास्तव एवं हिंदुस्तान के तृप्त चौबे ने पत्रकारिता के कठिन दौर की चर्चा करते हुए समाज के अन्य संगठनों से भी आगे आने का आह्वान किया। अतिथियों को अंगवस्त्रम् एवं स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता अध्यक्ष अश्वनी श्रीवास्तव व संचालन राजेंद्र तिवारी ने किया तथा आभार प्रकट अशोक सिंह मुन्ना ने किया। इस दौरान अमरेश दूबे, अंजान मिश्र, शिवशंकर सिंह, अंशुल मिश्र, फजले रसूल, अभय मिश्र, अनुपम श्रीवास्तव, संजीव गिरी, इंद्र प्रकाश, देव गुप्त, रिजवान, विजय प्रताप सिंह, संतोष देव, सुजीत वर्मा, जय प्रकाश दूबे, धीरेंद्र सिंह, नेमत खां गुड्डू, संजय निषाद, विपिन आदि मौजूद रहे।
उधर नगर के रमईपट्टी स्थित शांति बालवाड़ी एवं बाल निकेतन स्मार्ट किड्स स्कूल में स्थानीय पत्रकारिता में साहित्य को स्थान विषयक गोष्ठी में मुख्य अतिथि नारायन स्वामी आनंद ने कहा कि साहित्य हमारे जीवन को सर्वांगीण रूप से प्रभावित करती है, वह चाहे संपादकीय हो लेख या कहानी-कविता। मुख्य वक्ता भोलानाथ कुशवाहा ने कहा कि पत्रकारिता में आए बदलाव ने स्थानीयता को विशेष स्थान दिया है, लेकिन इससे अहम यह है कि अखबारों में आम पाठक की रुचि न केवल समाचारों के प्रति बनी हुई है, बल्कि बढ़ी है, इसी वजह से अखबारों में साहित्य के लिए या तो बहुत सीमित स्थान हैं या फिर नहीं है। कार्यक्रम का संचालन पीटीआई के संतोष श्रीवास्तव ने किया। संदर्भ पांडेय व देवेंद्र पांडेय ने अतिथियों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us