विज्ञापन
विज्ञापन

दिल्ली के शूटरों की थ्योरी में उलझी हत्या की गुत्थी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मेरठ Updated Thu, 18 Apr 2019 03:59 AM IST
लईक
लईक - फोटो : लईक
ख़बर सुनें
एनएच-58 स्थित परतापुर तिराहे पर कपड़े की कढ़ाई के कारीगर लईक की हत्या के मामले में पुलिस उलझ गई है। पुलिस का दावा कि दोनों शूटरों ने हत्या करना कबूल कर लिया है। लेकिन सुपारी किस व्यापारी ने दी, उसका नाम नहीं बता रहे हैं। हत्या के कारणों को लेकर पुलिस अभी असमंजस की स्थिति में है। सुपारी देने वाले व्यापारी की जानकारी जुटाने के लिए पुलिस की टीम दिल्ली में छानबीन कर रही है।
विज्ञापन
विज्ञापन
मवाना के सठला गांव निवासी लईक की रविवार देर रात परतापुर तिराहे पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। लईक के साथ उसके चार दोस्त शोएब, अली अब्बास, बाबर, कादिर स्विफ्ट गाड़ी में साथ थे। जोकि हत्या के चश्मदीद गवाह हैं। इन दोस्तों को पुलिस हिरासत में लेकर तीन दिन से पूछताछ कर रही है। पुलिस ने दिल्ली के दो शूटरों दानिश और सलमान को गिरफ्तार किया। पुलिस का दावा कि दोनों शूटरों ने लईक की हत्या सुपारी लेकर करना कबूल किया है। लेकिन सुपारी देने वाला कौन है और उसका उद्देश्य क्या है, इसके बारे में दोनों आरोपी सही जानकारी नहीं दे पा रहे हैं। लईक की सटीक रेकी उसके कौन से साथी ने की, उसका नाम भी आरोपी नहीं बता रहे। एसपी सिटी अखिलेश नारायण सिंह का कहना है कि दोनों आरोपी हत्या करना बता रहे हैं। लेकिन हत्या के पीछे का कारण स्पष्ट नहीं है। इसको देखते पुलिस अभी जांच करने में जुटी है।
कैसे खुद आए दोनों शूटर
पुलिस के मुताबिक दोनों शूटर दानिश और सलमान आसानी से पुलिस को मिल गए है। पुलिस ने उनको एक माध्यम के जरिये फोन कराया और वह खुद ही पुलिस के पास आ गए। इसको लेकर भी पुलिस असमंजस की स्थिति में है। हाईवे पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर हत्या करने वाले शूटर आसानी से कैसे गिरफ्तार हुए है, यह बात पुलिस के गले नहीं उतर रही है।
किसी को बचाने की साजिश
पुलिस की मानें तो लईक हत्याकांड में किसी को बचाने की साजिश चल रही है। जिन दो आरोपियों ने हत्या करना बताया, उनके खिलाफ पहला कोई मुकदमा दज्र नहीं है। उनकी खुद की कोई दुश्मनी नहीं बताई गई और न ही हत्या का खास उद्देश्य। गाड़ी परतापुर तिराहे पर रुकेगी और उनको लईक को ही निशाना बनाना था, इसकी जानकारी बताने पर दोनों शूटर हिचकिचा रहे हैं।
दोस्त बताएं, किसने मारा लईक
लईक के भाई नदीम और चाचा वकील का कहना है कि गाड़ी में लईक के साथ उसके चार साथी मौजूद थे। चश्मदीद दोस्त सुहेल ने बताया कि बदमाशों ने उसको भी दो थप्पड़ मारे थे। चारों दोस्त बताएं कि लईक किसने और क्यों मारा है। हत्या का राज दोस्तों के जेहन में छुपा होने का आरोप लईक के परिजनों ने लगाया है। वे कहते हैं कि पुलिस सख्ती से चारों दोस्तों से पूछताछ करे, ताकि हत्या का खुलासा हो सके।
दूल्हे से होनी चाहिए पूछताछ
लईक के चाचा वकील का आरोप कि लईक अपने दोस्त यामीन की शादी में हापुड़ रोड पर शादी समारोह में आया था। वारदात की जानकारी दोस्तों ने यामीन और बारातियों को फोन करके दी। परिजनों का आरोप है कि पुलिस को उसके दोस्त यामीन (दूल्हे) से भी पूछताछ करनी चाहिए। वहां से भी कुछ क्लू मिल सकता है। उन्होंने पुलिस अधिकारियों से दूल्हे से पूछताछ करने की गुहार लगाई है।

कारण स्पष्ट नहीं
दो शूटर पुलिस ने पकड़े हैं, जो हत्या करना कबूल रहे हैं। लेकिन हत्या के पीछे का कारण स्पष्ट नहीं हो रहा है। पुलिस की एक टीम दिल्ली रवाना हो गई है। सर्विलांस की टीम भी लगी है। वारदात का जल्द खुलासा होगा। -नितिन तिवारी, एसएसपी

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

क्या आपकी नौकरी की तलाश ख़त्म नहीं हो रही? प्रसिद्ध करियर विशेषज्ञ से पाएं समाधान।
Astrology

क्या आपकी नौकरी की तलाश ख़त्म नहीं हो रही? प्रसिद्ध करियर विशेषज्ञ से पाएं समाधान।

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Meerut

यूपी पुलिस में जल्द होगी 52 हजार सिपाहियों की भर्ती

डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि प्रदेश में 1.30 लाख पुलिस के पद भरे जाने हैं। इसमें से 41 हजार की भर्ती प्रक्रिया चल रही है। दिसंबर माह तक प्रदेश में 52 हजार सिपाहियों की भर्ती शुरू हो जाएगी।

18 जून 2019

विज्ञापन

सांसदों का शपथ ग्रहण : कभी जय श्रीराम और राधे-राधे के नारे तो कभी लगे जय मीम, अल्लाह-हू-अकबर के नारे

सांसदों के शपथ ग्रहण के दौरान कभी लगे जय श्रीराम और राधे-राधे के नारे तो कभी लगे जय मीम, अल्लाह-हू-अकबर के नारे। देखिए ये रिपोर्ट

19 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election