छेड़छाड़ के विरोध पर दरोगा के बेटे पर चाकू से हमला

Meerut Updated Mon, 05 May 2014 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
मेरठ। आबूलेन पर निशात सिनेमा में युवती से छेड़छाड़ का विरोध करने पर दरोगा के बेटे को चाकुओं से गोदकर घायल कर दिया। आरोपियों ने ज्यादा वार लड़के के चेहरे पर किए हैं। शोर शराबा हुआ तो हमलावर भाग गए। आरोपियों की दो मोटरसाइकिल पुलिस ने कब्जे में ली हैं, इन पर पुलिस का निशान है।
विज्ञापन

दिल्ली के राजौरी गार्डन निवासी एचएस सहरावत यूपी पुलिस में दरोगा हैं और इन दिनों नोएडा में तैनात हैं। उनका बेटा विपुल चौधरी बाईपास स्थित एक कॉलेज से एमबीए कर रहा है। रविवार शाम को वह अपनी दोस्त के साथ बेगमपुल के पास आबूलेन पर निशात सिनेमा में फिल्म देखने पहुंचा। सकौती की रहने वाली यह छात्रा डीएन कॉलेज से बीकॉम कर रही है। इंटरवल के दौरान करीब पौने पांच बजे जब विपुल और छात्रा बाहर निकले, तो तीन चार युवकों ने उन्हें घेर लिया। छात्रा के साथ छेड़छाड़ की। विपुल ने विरोध किया, तो युवकों ने विपुल पर हमला बोल दिया। विपुल की गर्दन, सिर और चेहरे पर चाकू के जख्म हो गए। शोर मचने पर भीड़ ने एक युवक को पकड़ लिया, जो हमलावरों का साथी बताया गया है। सूचना पर सदर बाजार थाना भी पहुंची। मौके से पकड़े प्रविंद्र निवासी सकौती को थाने ले आई और घायल विपुल को कचहरी नाला पटरी स्थित दयानंद हास्पिटल में भर्ती कराया। उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। विपुल के परिजन भी अस्पताल पहुंच गए। देर रात सदर बाजार थाने में घायल विपुल के मौसा बलराज सिंह निवासी मोड़खुर्द थाना बहसूमा ने तहरीर दी। इस पर दीपक, दूसरा भी दीपक और कालू निवासी सकौती के खिलाफ कातिलाना हमले की रिपोर्ट दर्ज की गई। इंस्पेक्टर सदर बाजार गजेंद्र पाल सिंह का कहना है कि मौके से पकड़े गए युवक का हमले में कोई हाथ नहीं है। फिलहाल उससे पूछताछ की जा रही है। एफआईआर में भी उसे नामजद नहीं किया गया है। उधर, एसएसपी ओंकार सिंह और एसपी सिटी ओमप्रकाश ने भी पकड़े गए युवक से पूछताछ की तथा नामजद आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार करने का निर्देश दिया। पार्किंग ठेकेदार ने ले ली थी बाइकों की चाबी
निशात सिनेमा पहुंचे हमलावरों ने अपनी दोनों मोटरसाइकिल पार्किंग में खड़ी की। पार्किंग शुल्क न देने पर ठेकेदार से भी उनका विवाद हुआ। युवकों ने उसके साथ भी गालीगलौज की। तब ठेकेदार ने दोनों मोटरसाइकिलों की चाबी ले ली थी। इसी वजह से हमला करने के बाद आरोपी पैदल ही फरार हो गए।
पुलिस से जुड़े हैं हमलावर
निशात सिनेमा में मिली हमलावरों की मोटरसाइकिल पल्सर और डिस्कवर हैं। दोनों ही मेरठ नंबर की हैं और इन पर पुलिस का निशान बना है। जाहिर है कि हमलावर भी पुलिस वालों से जुड़े हैं। उनका भाई या पिता पुलिस में है। सदर बाजार थाना पुलिस भी इसकी जानकारी कर रही है कि आरोपियों का पुलिस से क्या ताल्लुक है।

चाकू हाथ में लेकर पैदल ही भागे हमलावर
- चंद कदम पर बेगमपुल चौकी, फिर भी नहीं पकड़ पाई पुलिस
मेरठ। इस बार भी पुलिस की लापरवाही से हमलावर आसानी से फरार हो गए। निशात सिनेमा और बेगमपुल चौकी के बीच चंद कदमों का फैसला है। फिर भी पुलिस वारदात के दस मिनट बाद मौके पर पहुंच पाई। इतना ही नहीं हमलावर चाकू हाथ में लेकर ही सिनेमा से बेगमपुल तक पैदल भागे। शोर शराबा भी हुआ, मगर पुलिस किसी आरोपी को पकड़ नहीं पाई।
पुलिस की इस नाकामी और लापरवाही पर लोगों में गुस्सा भी है। लोगों का कहना है यदि पुलिस समय से पहुंच जाती, तो आरोपी पकड़े जा सकते थे। क्योंकि सिनेमाघर में आरोपियों ने पार्किंग ठेकेदार के साथ विवाद के बाद छात्रा से छेड़छाड़ की, फिर विपुल से कहासुनी और मारपीट हुई। इसके बाद चाकू से हमला कर आरोपी फरार हो गए। निशात सिनेमा परिसर में हुए हमले से आसपास के दुकानदारों में भी रोष रहा। उधर, पुलिस का कहना है कि आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए एक टीम सकौती भेजी गई, आरोपी घर से भी भाग गए हैं।
चेहरा बिगाड़ने के लिए हमला
पुलिस की प्रारंभिक पड़ताल में यह बात सामने आई है कि जिस ढंग से विपुल के चेहरे पर चाकू से प्रहार किए, उससे लगता है कि आरोपियों का मकसद विपुल का चेहरा बिगाड़ना था। एसपी सिटी ओमप्रकाश का कहना है कि आरोपियों की गिरफ्तारी होने पर सही कारण पता चल पाएगा।
कई दिन से लगे थे पीछे
आरोपियों की विपुल से पहले से पहचान है। चूंकि छात्रा सकौती की है और आरोपी भी सकौती के। इस कारण छात्रा भी उन्हें जानती है। दूसरा कारण यह भी है कि विपुल की छात्रा से रिश्तेदारी है। पुलिस के मुताबिक छात्रा विपुल की बुआ की ननद है। कहा जा रहा कि हमलावरों में से एक युवक छात्रा को एकतरफा प्यार करता है, जबकि छात्रा की दोस्ती विपुल से है। पुलिस के मुताबिक हमलावर कई दिन से छात्रा का पीछा कर रहे थे कि यह विपुल से कहां और कब मिलने जाती है।
चेकिंग की खुली, पोल चाकू लेकर पहुंचे युवक
हर वारदात के बाद पुलिस के दावों की पोल खुल जाती है। निशात सिनेमा में हमला करने पहुंचे युवकों के पास पहले से चाकू था। वो बाइक से सिनेमा हाल तक पहुंचे, मगर कहीं भी चेकिंग में पकड़े नहीं गए। बता दें रुड़की रोड से बेगमपुल की ओर आने पर जीरो माइल और फिर बेगमपुल पर भी पुलिस चेकिंग करती है।
लड़की को परिजनों के सुपुर्द किया
छात्रा को सदर बाजार पुलिस थाने ले गई। आरोपियों के बारे में पूछताछ करने के बाद पुलिस ने छात्रा के परिजनों को बुलाया। छात्रा को हिदायत देने के बाद परिजनों के सुपुर्द कर दिया।
छेड़छाड़ के विरोध पर फिर वारदात
जिले में छेड़छाड़ के विरोध पर हत्या और हमले थम नहीं रहे हैं। फिर चाहे गंगानगर में डॉ. इंद्रेश की हत्या का मामला हो या पल्लवपुरम में अपहृत किशोरी के भाई को कुचलने की कोशिश हो। गंगानगर में गैंगरेप पीड़िता की हत्या की कोशिश, मवाना के मीवा गांव में छात्रा पर तेजाब फेंकने की भी वारदात हो चुकी है।
सिनेमाघर और मॉल्स पर सुरक्षा के इंतजाम नाकाफी
सिनेमा प्रदर्शक संघ के जिलाध्यक्ष अजय गुप्ता का कहना है कि सिनेमा घर और मॉल्स के आसपास आए दिन वारदात हो रही हैं। इनकी रोकथाम के लिए पुलिस को प्रभावी इंतजाम करने चाहिए।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us