तप व साधना के द्वारा कर रहे हैं राष्ट्र सेवा

Meerut Updated Sat, 22 Dec 2012 05:30 AM IST
मेरठ। शताब्दीनगर स्थित माधवकुंज में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत के तीन दिवसीय प्रवास के दौरान मेरठ प्रांत के स्वयं सेवकों की आयोजित कार्यशाला और शिविर का शुक्रवार देर शाम औपचारिक उद्घाटन सत्र के साथ शुभारंभ हो गया। उद्घाटन सत्र में क्षेत्र संघ चालक डा. दर्शन लाल अरोड़ा ने स्वयं सेवकों से कहा कि हम तप व साधना के द्वारा भारत मां की सेवा कर रहे है।
डा. दर्शन लाल अरोड़ा ने कहा कि समूह में रहकर व्यवस्थित रहना व कठिनाई में भी कार्य करने की सिद्धता ही अच्छा स्वयं सेवक बनाती है। इसलिए यहां आए हुए सभी स्वयं सेवक चाहे वह किसी भी उम्र के हो, किसी भी जाति या धर्म के हों सभी भाई है। हमें अनुशासन और संस्कार की अपनी मिसाल को बनाए रखना है। इससे पूर्व उन्होंने भारत माता के चित्र पर दीप प्रज्जवलित करके कार्यक्रम का विधिवत् उद्घाटन किया। इस दौरान प्रांत संघ चालक सूर्य प्रकाश टॉंक, अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य डा. दिनेश, फूल सिंह, कन्हैयालाल, अजय मित्तल आदि विशेष रुप से मौजूद रहे।
24 जनपदों से 1200 स्वयं सेवक
कार्यक्रम के मीडिया प्रवक्ता डा. नीरज सिंघल ने बताया कि प्रशासनिक दृष्टि से 12 और संघ की दृष्टि से 24 जनपदों से 1200 स्वयं सेवकों ने इस शिविर के लिए पंजीकरण कराया है। सभी स्वयं सेवक देर रात शिविर स्थल तक पहुंच जाएंगे। सभी स्वयं सेवकों की उनके जनपदवार रहने और खाने की अलग-अलग व्यवस्था की है।
देर रात तक आए स्वयं सेवक
शिविर स्थल माधवकुंज में स्वयं सेवकों के पहुंचने का सिलसिला देर रात तक चलता रहा। स्वयं सेवकों से भरी बसें शिविर स्थल तक पहुंचती रही। जहां पहले आने वाले स्वयं सेवक ही बाद में आने वालों का स्वागत कर उनके ठहरने की व्यवस्था कराते नजर आए। रामपुर के स्वयं सेवक रात में करीब 10 बजे पहुंचे।
पॉलीथिन प्रयोग वर्जित
शिविर स्थल पर पर्यावरण के प्रति पूरी जागरूकता बरती गई है। सभी स्वयं सेवकों को पॉलीथिन का प्रयोग वर्जित कर दिया गया है। ऐसे में सभी कपड़े और रेक्सिन के बैग लेकर आए है।
लाल और सफेद थैले
अनुशासन और एकरूपता प्रदान करने के उद्देश्य से शिविर में आए स्वयं सेवकों को बौद्धिक वर्ग के दौरान जूते चोरी न हो इससे बचने के लिए अपना जूता अपने पास रखने के लिए सफेद रंग के कपड़े के थैले उपलब्ध कराए गए है। वहीं स्वयं सेवक भोजन के लिए अपने बर्तन भी साथ लाए है। उन्हें रखने के लिए लाल रंग का थैला दिया गया है।
घरों से आ रहा भोजन
भोजन की व्यवस्था में भी सामूहिक सहयोग लिया गया है। शिविर स्थल पर सिर्फ जलपान और भोजन की दाल सब्जी ही तैयार कराई जा रही है। रोटियां, पूरी और परांठे घरों से आ रहे है। शहर के आरआरएस से जुड़े कार्यकर्त्ता अपने घरों से इस शिविर में आने वाले स्वयं सेवकों के लिए रोटी, पूरी और परांठे लेकर आ रहे है।




आज का कार्यक्रम
सुबह पांच बजे जागरण और चाय के बाद सवेरे 6.15 बजे जिलानुसार बैठक होगी, सुबह 7.30 बजे जिलानुसार ही जलपान और सवेरे 8 बजे स्नान होगा। सुबह 9.15 बजे से 10.30 बजे तक सामुहिक बैठक होगी। इसके बाद सुबह 11 बजे से 12.15 बजे तक तीन स्थानों पर बैठक होगी। जिसमें मंडल कार्यवाह, खंड व नगर कार्यवाह के साथ ही जिला, विभाग व प्रांत स्तरीय पदाधिकारियों की अलग-अलग बैठकें होंगी।
दोपहर 12.45 बजे भोजन और दोपहर में 2.30 बजे से 3.45 बजे तक फिर तीन स्थानों पर बैठकें होंगी। अपराह्न 4.30 बजे से 5.30 बजे तक शाखा, इसके बाद चाय होगी। शाम को 6.45 से 8 बजे तक बौद्धिक वर्ग होगा।
रविवार का कार्यक्रम
इस दिन भी शनिवार की ही तरह कार्यक्रम होंगे, लेकिन सुबह 10.45 से 12.15 बजे तक सामूहिक बैठक होगी। जिसमें स्वयं सेवकों की जिज्ञासा का समाधान किया जाएगा। वहीं दोपहर के भोजन के बाद सामूहिक सम्पत समापन होगा, जिसमें सरसंघचालक मोहन भागवत उदबोधन करेंगे।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

RLA चंडीगढ़ में फिर गलने लगी दलालों की दाल, ऐसे फांस रहे शिकार

रजिस्टरिंग एंड लाइसेंसिंग अथॉरिटी (आरएलए) सेक्टर-17 में एक बार फिर दलाल सक्रिय हो गए हैं, जो तरह-तरह के तरीकों से शिकार को फांस रहे हैं।

21 जनवरी 2018

Related Videos

तो अब होगी हिमाचल प्रदेश में प्राकृतिक खेती

बागपत के इंटरमीडिएट कॉलेज धनौरा सिल्वरनगर के वार्षिक समारोह में हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत की।

21 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper