खामियों का पुलिंदा न बन जाए जलकर

Meerut Updated Tue, 18 Dec 2012 05:30 AM IST
मेरठ। मेरठ में लागू किया जा रहा जलकर ड्राफ्ट खामियों का पुलिंदा साबित हो सकता है। सूबे के अन्य नगर निगमों की तर्ज पर जलकर और जल मूल्य बिलों में समायोजन की व्यवस्था का निश्चित खाका अब तक तैयार नहीं हो सका है। प्रस्ताव पर स्वीकृति देने के साथ ही पार्षदों ने बिल समायोजन की मांग भी रख दी है। जनता पर अब टैक्स का भार बढ़कर 23 प्रतिशत पहुंच गया है।

जलकर की शर्तें :
: मकान के छह सौ फुट अथवा दो सौ गज सर्किल में नगर निगम की पेयजल लाइन गुजरने पर जलकर देय।
: निजी स्तर पर सबमर्सिबल लगवाने वालों से भी वसूला जाएगा जलकर।
: जिन मोहल्लों में नगर निगम ने सबमर्सिबल लगवाए हैं, वहां भी कर अदा करना होगा।

ऐसे होगी गणना
जलकल विभाग प्रभारी मईनुद्दीन ने बताया कि हाउस टैक्स की गणना वार्षिक किराया मूल्य (एआरवी) के आधार पर की जाती है। इसकी गणना बिल्ट अप एरिया, विशेषता, लागत के आधार पर की जाती है। जलकर की गणना भी कुछ इसी तर्ज पर की जाएगी। यह एआरवी का आठ प्रतिशत रखा जाएगा।

जल मूल्य की मौजूदा दरें
क्षेत्रफल वार्षिक दर
50 गज तक 360 रुपये
51-100 गज तक 480 रुपये
101-150 गज तक 580 रुपये

कुछ ऐसा होगा टैक्स का नया खाका:
हाउस टैक्स : 12.5 प्रतिशत
जलकर : 8.0 प्रतिशत
ड्रेनेज : 2.5 प्रतिशत

जलकर और जल मूल्य में अंतर
जलकल प्रभारी मईनुद्दीन ने बताया कि जल मूल्य पानी के उपयोग के बदले लिया जाता है। जबकि जलकर को पानी के टैक्स के रुप में परिभाषित किया गया है।

क्या कहते हैं अधिकारी और महापौर :
: शहर के विकास के लिए सदन लगातार सकारात्मक प्रयास कर रहा है। सोमवार को हुई कार्यकारिणी बैठक भी इसी दिशा में उठाया गया कदम है- हरिकांत अहलूवालिया महापौर
: कार्यकारिणी बैठक सफल रही है। संशोधित बजट को सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया है। इससे मेरठ के विकास की नई दिशा खुल सकेगी- राजकुमार सचान नगर आयुक्त
: मेरठ के आधारभूत ढ़ांचे को मजबूत बनाकर शहर को विकसित करने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। बोर्ड बैठक में अनेक अहम प्रस्तावों पर सहमति बनी है- तनवीर जफर अली उपाध्यक्ष एमडीए

Spotlight

Most Read

National

पुरुष के वेश में करती थी लूटपाट, गिरफ्तारी के बाद सुलझे नौ मामले

महिला लड़कों के ड्रेस में लूटपाट को अंजाम देती थी। अपने चेहरे को ढंकने के लिए वह मुंह पर कपड़ा बांधती थी और फिर गॉगल्स लगा लेती थी।

20 जनवरी 2018

Related Videos

हिन्दी नहीं लिख पाते मास्टर जी, क्या पढ़ाएंगे बच्चों को

जिन शिक्षकों के भरोसे बेहतर कल का भारत है अगर वो हिंदी ही ठीक से नहीं लिख पाते तो बच्चों को क्या पढ़ाएंगे। ऐसा मामला शामली जिले से सामने आया है, जहां एक शिक्षक हिंदी के शब्द ही ठीक से नहीं लिख पाए।

19 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper