अधिकारियों पर जमकर बरसे पार्षद

Meerut Updated Sun, 09 Dec 2012 05:30 AM IST
मेरठ। सोमवार को होने जा रही बोर्ड बैठक से पहले पार्षदों का मन टटोलने के लिए बुलाई गई चाय मीटिंग हंगामेदार रही। बदहाल सफाई व्यवस्था और प्रस्तावों पर अमल न होने से आक्रोशित पार्षद नगर निगम अधिकारियों पर जमकर बरसे और शेम-शेम के नारे लगाए। उन्होंने महापौर से अपनी ताकत पहचानने का आह्वान किया। पार्षदों का रुख भांपकर महापौर हरिकांत अहलूवालिया ने भी अधिकारियों को जनता की समस्याओं का तेजी से निस्तारण करने का आदेश दिया।
शनिवार दोपहर चार बजे महापौर के कैंप कार्यालय पर चाय मीटिंग शुरू हुई। नगर आयुक्त राजकुमार सचान की अनुपस्थिति में मुख्य अभियंता कुलभूषण वार्ष्णेय ने उनका प्रभार संभाला। उनके अलावा नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. राजबीर सिंह, अधिशासी अभियंता आरपी जायसवाल महापौर के साथ पार्षदों से रूबरू हुए। माइक हाथ में आते ही एक-एक कर पार्षदों का गुस्सा फूटने लगा।
अपना नाम सही से न पुकारे जाने पर पार्षद जाहिद अंसारी ने कार्यकारिणी उपाध्यक्ष पंकज कतीरा को सही से बोलने की हिदायत दी। पार्षद नूर आलम, दीवान जी शरीफ, जाहिद अंसारी ने बदहाल सफाई व्यवस्था पर आक्रोश जताया। असेवित वार्डों में सफाई के विशेष इंतजाम किए जाने की मांग की। पार्षद हरिकिशन गुप्ता ने तो नगर स्वास्थ्य अधिकारी का मुंह काला करने की चेतावनी देते हुए कहा कि इसके बाद वे जेल जाने और मुकदमा लड़ने के लिए भी तैयार हैं। पार्षदों ने भी हरिकिशन का समर्थन किया। वहीं, नगर आयुक्त के बैठक में नहीं आने पर पार्षद दीवान जी शरीफ ने आरोप लगाया कि ‘नगर आयुक्त जल्द रिटायर होने वाले हैं। वह लपेटने में लगे हैं। उन्हें जनता की समस्या से कोई मतलब नहीं है।’
पार्षद विनोद ने आह्वान किया कि समस्या की सुनवाई नहीं होने पर अधिकारियों को कुर्सी पर नहीं बैठने दिया जाए। पार्षद विजय आनंद अग्रवाल ने अधिशासी अभियंता आरपी जायसवाल की ओर इशारा करते हुए कहा कि विद्युत पटल का प्रभार पाने वाले अधिकारी के अंदर वोल्टेज ही नहीं है। ऐसे में वह क्या खाक काम संभाल पाएंगे। पार्षद सुनीता प्रजापति ने कहा कि कांग्रेस से ताल्लुक होने के चलते उनके प्रस्तावों पर जेई भी कार्रवाई को तैयार नहीं है।

न एजेंडा मिला, न पुनरीक्षित बजट
बोर्ड बैठक से पहले नगर निगम में बदइंतजामी का आलम है। चाय मीटिंग में इसकी पुष्टि भी हो गई। अधिकांश पार्षदों के पास शनिवार दोपहर तक बैठक के लिए जारी किया गया एजेंडा भी नहीं पहुंच सका था। वहीं, पुनरीक्षित बजट की कॉपी भी चुनिंदा पार्षदों के पास ही उपलब्ध थी।
अवस्थापना अथवा बोर्ड फंड ?
बीस-बीस लाख रुपये के विकास कार्यों के लिए अवस्थापना निधि या बोर्ड फंड के उपयोग को लेकर पार्षदों में मतभेद की स्थिति नजर आई। इस पर मो. शाहिद ने तमाम शासनादेशों की जानकारी पटल पर रखने की मांग की।
गूंजा गुजरात का सुशासन
मेरठ। पार्षद विजय आनंद अग्रवाल ने कहा कि फिल्म हम नहीं सुधरेंगे का टाइटल मेरठ नगर निगम से ही लिया गया होगा। उन्होंने कहा कि जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र बनना हो या अन्य कोई कार्य स्थानीय नगर निगम में हर काम के लिए अंडर द टेबल पैसा देना होता है। जबकि गुजरात में मात्र एक घंटे में इस तरह के प्रमाण पत्र जारी हो जाते हैं।
क्या ये भी हैं पार्षद
चाय मीटिंग में पार्षदों और नगर निगम अधिकारियों को ही आमंत्रित किया गया था, लेकिन वहां कई अन्य लोग भी नजर आए। पार्षद पति यासीन पहलवान के अलावा सपा नेत्री संगीता राहुल भी मौजूद थीं। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर बिन बुलाए वह मीटिंग में क्यों और कैसे शामिल हुए।

Spotlight

Most Read

Lucknow

शिवपाल के जन्मदिन पर अखिलेश ने उन्हें इस अंदाज में दी बधाई, जानें- क्या बोले

शिवपाल यादव ने अपने समर्थकों संग लखनऊ स्थित आवास पर जन्मदिन मनाया। अखिलेश यादव ने उन्हें मीडिया के माध्यम से बधाई दी।

22 जनवरी 2018

Related Videos

‘आओ साइकिल चलाएं’ कार्यक्रम का आयोजन, होगा ये फायदा

बागपत में एक पेट्रोल पंप पर 'आओ साइकिल चलाएं' कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में केंद्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री डॉ सत्यपाल सिंह भी शामिल हुए।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper