मोदी रबर मिल के मालिक समेत चार को कैद

Meerut Updated Wed, 05 Dec 2012 05:30 AM IST
मेरठ/गाजियाबाद। फर्जी कागजात पेश करके सिंडीकेट बैंक से 8 लाख रुपये लोन लेने के आरोपी मोदी रबर मिल के मालिक, सेल्स मैनेजर और दो कर्मचारियों को जेएम सीबीआई प्रीति सिंह की कोर्ट ने दोषी माना है। कोर्ट ने आरोपियों को दो-दो साल के कारावास और 22-22 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है।
सीबीआई लोक अभियोजक अमजद अली ने बताया कि मामला 5 जनवरी 1998 का है। सिंडीकेट बैंक के अधिकारियों की शिकायत पर सीबीआई ने मामले की जांच की थी। आरोप था कि मोदीपुरम स्थित मोदी रबर मिल के मालिक पीके जैन, सेल्स मैनेजर एएस मित्तल और दो कर्मचारियों खैरातीलाल और अशोक कुमार ने फर्जी कागजात के माध्यम से बैंक से 8 लाख का लोन ले लिया। जांच के बाद सीबीआई ने आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी थी। मामले की सुनवाई जेएम सीबीआई प्रीति सिंह की कोर्ट में चल रही थी। कोर्ट ने आरोपियों को दोषी मानते हुए उन्हें कारावास की सजा सुना दी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बागपत: पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ जवान गिरफ्तार

बागपत में पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ के जवान को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपी जवान की पत्नी गीता की लाश बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दी है।

23 जनवरी 2018