बढ़ी दरें वापिस नहीं हुईं तो उद्योग होंगे विस्थापित

Meerut Updated Tue, 27 Nov 2012 12:00 PM IST
मेरठ। विद्युत नियामक आयोग द्वारा विद्युत दरों में की गई अप्रत्याशित भारी वृद्धि का इंडियन इंडस्ट्री एसोसिएशन (आईआईए) ने गहरा रोष जताया है। एसोसिएशन ने चेतावनी दी है कि यदि यह बढ़ोत्तरी वापिस नहीं हुई तो उनके सामने उद्योगों को बंद करने या फिर दूसरे राज्यों में विस्थापित करने के अतिरिक्त कोई विकल्प नहीं रह जाएगा।
आईआईए से संबद्ध विद्युत उपभोक्ता संयुक्त संघर्ष समिति के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल के अनुसार उत्तर प्रदेश विद्युत नियामक आयोग ने विगत 19 अक्तूबर को जारी आदेशों में विद्युत की विभिन्न श्रेणियों के विद्युत दरों में भारी वृद्धि की है। इस आदेश को पिछली तिथि एक अक्तूबर 2012 से ही लागू करने के आदेश किए गए हैं। आईआईए ने इन दरों का बारीकी से विश्लेषण किया तो पाया कि उद्योग इस वृद्धि से अत्यधिक प्रभावित हैं। इनमें एलएमवी-6 श्रेणी में 38.5 प्रतिशत और एचवी-2 श्रेणी में 29.9 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी की गई है। जिससे उद्योगों की कमर टूट गई है। मंगलवार को एसोसिएशन ने इस संबंध में एलेक्जेंडर क्लब में बैठक बुलाई है। जिस पर आगामी रणनीति पर विचार किया जाएगा।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बागपत: पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ जवान गिरफ्तार

बागपत में पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ के जवान को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपी जवान की पत्नी गीता की लाश बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दी है।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls