सर्राफा कारीगर की अपहरण के बाद हत्या

Meerut Updated Wed, 21 Nov 2012 12:00 PM IST
मेरठ। सराय लालदास मोहल्ला निवासी सर्राफा कारीगर की अपहरण के बाद हत्या कर दी गई। हत्या को आत्महत्या दर्शाने के लिए आरोपियों ने लाश को रेलवे ट्रैक पर फेंक दिया। मामले की रिपोर्ट दर्ज न करने से गुस्साए लोगों ने एसपी सिटी ऑफिस के सामने सड़क पर शव को रखकर जाम लगा दिया। इसके बाद पुलिस ने सात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की। हत्या का कारण एक कुंतल चांदी का विवाद बताया गया है।
सराय लालदास मोहल्ला निवासी सर्राफा कारीगर रियाजुद्दीन उर्फ राजू (28) का शव मंगलवार सुबह सात बजे मलियाना में रेल की पटरी पर मिला। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के हवाले कर दिया। परिजनों ने देहली गेट पुलिस को अपहरण के बाद हत्या किए जाने की तहरीर दी, लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करने से इनकार कर दिया। इसके विरोध में परिजन और मोहल्ले के लोग शव को एसपी सिटी ऑफिस के सामने रखकर हंगामा करने लगे। हालत बेकाबू देख सीओ समेत शहर के सभी थाने की पुलिस फोर्स घंटाघर पहुंच गई। करीब आधा घंटे बाद एसपी सिटी भी पहुंचे और केस दर्ज कराकर आरोपियों को रात में गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया। इसके बाद पुलिस की मौजूदगी में लोगों ने शव को सुपुर्द ए खाक कर दिया। देहली गेट इंस्पेक्टर गजेंद्र पाल सिंह ने बताया कि राजू के पिता निजामूद्दीन की तहरीर पर फारूक, हाऊन, अशरफ, अकबर, शहजाद, अबरार, अरशद व जरीनी पत्नी मरहूम मुन्ना के खिलाफ अपहरण, हत्या की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

थर्ड डिग्री देने पर भड़के लोग
सुबह राजू की हत्या पता चलते ही उसके चचेरे भाई जहीरूद्दीन ने कंट्रोल रूम को सूचना दी। इसके बाद देहली गेट थाने की फैंटम सराय लालदास पहुंची। यहां परिजनों से कहासुनी होने पर फैंटम पुलिस जहीरूद्दीन को थाने ले आई। आरोप है कि पुलिस ने जहीरूद्दीन को थर्ड डिग्री दी। इसके विरोध में परिजन और मोहल्ले के लोगों ने थाने पर हंगामा किया। पुलिस ने लाठी फटकार कर भीड़ को खदेड़ा, इसके बावजूद वे जहीरूद्दीन को पुलिस कस्टडी से छुड़ा ले गए।

तीन दिन पहले भी हुआ था हमला
तीन दिन पहले भी आरोपी राजू की हत्या करने उसके घर पर आए थे। इसकी शिकायत परिजनों ने देहलीगेट थाने में की थी। पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया। राजू के भाई सलाउद्दीन ने बताया कि सोमवार रात तीन बजे फारूक, हाऊन, अशरफ अकबर समेत सात लोग उनके घर आए थे। आरोपियों ने राजू की जमकर पिटाई की और उसे उठाकर ले गए थे।

एक कुंतल चांदी का था विवाद
पुलिस के मुताबिक चार साल पहले पड़ोसी फारूक ने राजू को करीब एक कुंतल चांदी दी थी। दो साल तक राजू ने फारूक को चांदी का पैसा दिया। कुछ दिनों से राजू की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं चल रही थी, जिसके चलते वह फारूक को पैसा नहीं दे सका। इस बात को लेकर दोनों में काफी दिनों से विवाद चल रहा था।

झूठी है पुलिस
राजू के परिजनों ने पुलिस पर झूठा होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सुबह सवा सात बजे पुलिस ने राजू के ट्रेन से कटने की सूचना दी थी। पर, राजू के शरीर पर ट्रेन से कटने का कोई निशान नहीं है। आरोपियों ने हत्या कर आत्महत्या दर्शाने के लिए यह योजना बनाई थी।

---
चांदी के लेनदेन के विवाद में राजू की मौत हुई है। आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस दबिश दे रही है। इस मामले की पुलिस गहनता से जांच कर रही है।
ओमप्रकाश, एसपी सिटी

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बागपत: पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ जवान गिरफ्तार

बागपत में पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ के जवान को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपी जवान की पत्नी गीता की लाश बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दी है।

23 जनवरी 2018