रसूखवालों को तो पहले से ही है टोल फ्री

Meerut Updated Sat, 03 Nov 2012 12:00 PM IST
मेरठ। टोल पर नियमों का कोई मोल नहीं है। आम जनता एवं किसानों का जहां टोल पर शोषण हो रहा है। वहीं रसूखवालों को तो पहले से ही टोल फ्री है। यहां रसूखदार आंदोलन करने वाले या फिर दबंगई दिखाने वाले हैं। टोल प्लाजा कंपनी ने ऐसे करीब तीन हजार रसूखदार और उनके समर्थकों को पास जारी किया है। मगर इस बार किसान यूनियन के सामने टोल कंपनी की एक नहीं चल रही है।
अमर उजाला के पास ऐसे रसूखदारों की सूची उपलब्ध है। इसमें प्रदेश सरकार के मंत्री, विधायक, सांसद, सत्ताधारी दल नेता, आसपास के गांवों के प्रधान और उनके समर्थक शामिल हैं। इस सूची में करीब तीन हजार लोग हैं। यानी टोल प्लाजा पर आंदोलन करने वाले हरेक रसूखदार का मुंह पास देकर बंद करा दिया गया।
यह पहला अवसर है जब किसान यूनियन की लड़ाई के सामने एनएचएआई और टोल प्लाजा के अधिकारी बेबस हैं। दबी जुबान में टोल प्लाजा के अधिकारी यह भी स्वीकार कर रहे हैं, अभी भी कई नेताओं के सिफारिशी पत्र रखे हुए हैं। हैरत की बात यह है कि फ्री सुविधा उठाने वाले कई नेता और उनके समर्थक भी आंदोलन में टोल कंपनी के खिलाफ गरज रहे हैं। अब लंबा खींच रहे आंदोलन के कारण इन नेताओं को डर सता रहा है कि कहीं टोल अधिकारियों के मुंह न खुल जाए। हालांकि जब भाकियू के आंदोलन में यह मुद्दा उठा तो एनएचएआई के पीडी एसके मिश्रा ने यह कहकर टाल दिया कि उनके संज्ञान में ऐसा मामला नहीं है।

इन्होंने की है टोल फ्री पास की सिफारिश
प्रदेश सरकार के राज्यमंत्री चितरंजन स्वरूप, शाहिद मंजूर, राजेन्द्र सिंह राणा, सांसद राजपाल सिंह सैनी, विधायक संगीत सिंह सोम, विधायक अनिल कुमार, विधायक नवाजिश आलम खां, विधायक पंकज कुमार मलिक, दौराला प्रमुख राजन वर्मा, सपा नेता अतुल प्रधान, जिला पंचायत अध्यक्ष मनिन्द्रपाल सिंह, सांसद कादिर राणा, संयुक्त व्यापार मंडल, भारतीय किसान विकास संघर्ष मोर्चा अजय भराला सहित दर्जन भर से अधिक प्रभावशाली लोग, प्रशासनिक, पुलिस, विद्युत, रेलवे सहित कई विभागों के अफसरों के सिफारिश पर 3000 से अधिक वाहन फ्री में संचालित किए जा रहे हैं।

हर माह होती सात करोड़ की वसूली
टोल प्लाजा पर हर माह छह से सात करोड़ रुपये टैक्स की वसूली होती है। 25 अप्रैल 2011 से वसूली की जा रही है। परतापुर से मुजफ्फरनगर तक रोड निर्माण और अन्य मद में 747 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। प्रतिदिन 15 से 20 हजार गाड़ियां टोल से गुजरती हैं।

दबंगों की वजह से नहीं दे पा रहे ब्याज : रंगासाई
वेस्टर्न यूपी टोलवेज के एजीएम जीवी रंगासाई कहते हैं कि दबंगों की वजह से ब्याज भी कंपनी नहीं भर पा रही है। उन्होंने कहा कि छह करोड़ 62 लाख प्रतिमाह ब्याज दिया जा रहा है। दबंग पास के लिए दबाव बनाते हैं। नहीं देने पर आंदोलन करते हैं। जिससे क्षति होती है। उन्होंने कहा कि सर्विस रोड बनाने का परमिशन कई स्थानों पर एनएचएआई ने अभी नहीं दिया है।

क्या कहता है टोल फ्री का नियम
नियमों पर गौर करें तो राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति, राज्यपाल, उच्च पदस्थ विदेशी व्यक्ति, विधानसभा, विधान परिषद के सभापति, प्रदेश सरकार के मंत्री, सांसद, विधायक, परमवीर चक्र, अशोक चक्र, महावीर चक्र, कीर्तिचक्र, वीर चक्र और ऐसे पुरस्कार विजेता, पुलिस यान, अग्नि शमन यान, एबुंलेंस, डाक, तार विभाग के यान आदि के नि:शुल्क यात्रा का प्रावधान है।

टोल प्लाजा को ध्वस्त करा देना चाहिए: राकेश
भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश सिंह टिकैत ने कहा कि टोल फ्री सभी के लिए होना चाहिए। अवैध रूप से बनाए गए इस टोल को प्रशासन को ध्वस्त करा देना चाहिए। उन्होंने कहा इन पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज होना चाहिए।

Spotlight

Most Read

Bihar

नीतीश के काफिले पर पथराव के बाद जेड प्लस सुरक्षा देगी मोदी सरकार

बिहार के मुख्यमंत्री के काफिले पर कुछ दिनों पहले हुए हमले के मद्देनजर नीतीश कुमार को जेड प्लस श्रेणी सुरक्षा दी जाएगी।

19 जनवरी 2018

Varanasi

मऊ की खबर

20 जनवरी 2018

Related Videos

हिन्दी नहीं लिख पाते मास्टर जी, क्या पढ़ाएंगे बच्चों को

जिन शिक्षकों के भरोसे बेहतर कल का भारत है अगर वो हिंदी ही ठीक से नहीं लिख पाते तो बच्चों को क्या पढ़ाएंगे। ऐसा मामला शामली जिले से सामने आया है, जहां एक शिक्षक हिंदी के शब्द ही ठीक से नहीं लिख पाए।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper