नीली बत्ती की गाड़ी से छात्राओं का अपहरण

Meerut Updated Wed, 17 Oct 2012 12:00 PM IST
मेरठ/परतापुर। नीली बत्ती लगी बोलेरो गाड़ी में सवार बदमाशों ने मंगलवार तड़के दो छात्राओं का जानी थाना क्षेत्र से अपहरण कर लिया। बदमाश दोनों को परतापुर के जंगल ले गए और दुष्कर्म का प्रयास किया। एक साहसी छात्रा ने किसी तरह छूटकर बदमाश के सिर में ईंट दे मारी और शोर मचाती हुई खेतों की तरफ दौड़ी। बचाव में आए ग्रामीणों को देख बदमाश फरार हो गए। ग्राम प्रधान की सूचना पर परिजन पहुंचे और दोनों छात्राओं को घर ले गए। परिजनों ने रिपोर्ट लिखाने से इंकार कर दिया है।
जानी थाना क्षेत्र के एक गांव की दसवीं में पढ़ने वाली दो छात्राएं मंगलवार तड़के पौने छह बजे गांव से जानी ट्यूशन पढ़ने निकली थीं। दोनों अन्य सहेलियों के साथ ट्यूशन पढ़ने जाती थीं। दोनों गांव से निकलकर मुख्य मार्ग पर सहेलियों का इंतजार कर रहीं थीं। इसी दौरान वहां नीली बत्ती लगी सफेद बोलेरो उनके पास आकर रुकी। गाड़ी में पांच युवक सवार थे। युवकों ने गांव का रास्ता पूछने के बहाने दोनों को गाड़ी में खींच लिया और हरिद्वार बाईपास की तरफ गाड़ी दौड़ा दी। परतापुर फ्लाईओवर के पास गाड़ी रोककर इन्होंने गाड़ी पर लगी नीली बत्ती उतार ली और गाड़ी खेड़ा बलरामपुर के पास वन विभाग के सुनसान जंगल में ले गए।
छात्राओं ने बताया कि युवकों ने उनके हाथ, पैर और मुंह कपडे़ से बांध दिया था। उनके पास हथियार थे। गन प्वाइंट पर लेकर उनके साथ बदसलूकी करने लगे। मौका पाकर एक छात्रा ने पास पड़ी ईंट से युवक के सिर पर प्रहार किया और शोर मचाते हुए जंगल से बाहर आकर गांव की तरफ भाग निकली। किसान शोर सुनकर खेतों से निकल आए। छात्रा ने ग्रामीणों को सारा घटनाक्रम बताया तो ग्रामीण दूसरी छात्रा को बचाने जंगल की तरफ दौड़े। घेराबंदी से घबराकर बदमाश छात्रा को वहीं छोड़कर गाड़ी से फरार हो गए। ग्राम प्रधान दोनों छात्राओं को अपने घर ले गए और उनके परिजनों को सूचना दी। छात्राओं ने रोते हुए बताया कि बदमाश कह रहे थे कि बाद में दोनों को मारकर फेंक देंगे।
‘आखिर किस इंतजार में थी पुलिस’
पीड़ित छात्राओं ने बताया कि शोर मचने पर जानी थाने की फैंटम पुलिस ने बोलेरो का पीछा भी किया था लेकिन अपने थाने की सीमा पर आने के बाद फैंटम सुभारतीपुरम पुलिस चौकी के पास रुक गई थी। उधर परतापुर थाना प्रभारी नेत्रपाल सिंह का कहना है कि छात्राओं को उनके परिजनों को सुपुर्द करने के बाद ग्रामीणों ने उन्हें सूचना दी थी। सवेरे लगभग साढे़ सात बजे उन्हें सूचना मिली थी कि सफेद रंग की बोलेरो संदिग्ध है, जिसे पुलिसकर्मियों द्वारा गगोल रोड पर रोककर चेक भी किया गया था। इसमें पांच युवक थे। वहीं गांव के लोगों का आरोप है कि सूचना देने के बाद भी पुलिस नहीं पहुंची। इसकी शिकायत बुधवार को एसएसपी से की जाएगी। उधर जानी में पीड़ित परिवार से संपर्क किया गया तो उन्होंने कोई रिपोर्ट कराने से इंकार कर दिया।
कहना इनका
मामला मेरे संज्ञान में नहीं आया है। परतापुर और जानी थानाध्यक्ष से रिपोर्ट ली जा रही है।
- के. सत्यनारायणा, एसएसपी

Spotlight

Most Read

Chandigarh

Report: पंजाब में टूटने लगी है ड्रग माफिया की कमर, जानिए कैसे और क्यों?

पंजाब में अब ड्रग माफिया की कमर टूटने लगी है, मतलब सरकार ने प्रदेश में नशा खत्म करने के लिए जो वादा किया था, वह पूरा होता दिख रहा है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

हिन्दी नहीं लिख पाते मास्टर जी, क्या पढ़ाएंगे बच्चों को

जिन शिक्षकों के भरोसे बेहतर कल का भारत है अगर वो हिंदी ही ठीक से नहीं लिख पाते तो बच्चों को क्या पढ़ाएंगे। ऐसा मामला शामली जिले से सामने आया है, जहां एक शिक्षक हिंदी के शब्द ही ठीक से नहीं लिख पाए।

19 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper