‘बीपीएल करोड़पति’ पर गिरी गाज

Meerut Updated Thu, 11 Oct 2012 12:00 PM IST
मेरठ। फर्जी बीपीएल प्रमाणपत्र के सहारे सरकारी आवासीय योजनाओं में धोखाधड़ी कर करोड़पति बन बैठे ‘बीपीएल करोड़पति’ पर न सिर्फ कानूनी कार्रवाई होगी, बल्कि संपत्तियां भी वापस होंगी। आधिकारिक जांच में फर्जीवाड़े का खुलासा होने पर एडीएम सिटी ने कार्रवाई का आदेश दिया है।
अगस्त में अमर उजाला ने आजाद वीर सिंह नामक व्यक्ति द्वारा फर्जी बीपीएल प्रमाणपत्र लेकर आवास विकास, डूडा द्वारा तमाम आवासीय योजनाओं का लाभ लेने की खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी। इस खबर को प्रशासन ने गंभीरता से लिया। एसडीएम, डूडा और आवास विकास ने मिलकर मामले की जांच की तो फर्जीवाड़ा सामने आया। आजाद वीर ने 2500 रुपये मासिक आय दर्शाकर तहसील से फर्जी बीपीएल प्रमाणपत्र लिया है। डूडा की जांच में गलत प्रमाणपत्र पर मकान का लाभ लेने की पुष्टि हुई। जांच रिपोर्ट के आधार पर एडीएम सिटी रामकेश सिंह ने आजाद वीर के खिलाफ एफआईआर का आदेश दिया है। डूडा, आवास विकास को संपत्तियों को नियमानुसार वापस ले कार्रवाई कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने का आदेश दिया है।
लेखपाल, कानूनगो पर भी कार्रवाई : एडीएम ने गलत तथ्यों के आधार पर बगैर जांच किए फर्जी आय प्रमाण और बीपीएल प्रमाणपत्र जारी करने वाले लेखपाल-कानूनगो पर भी कार्रवाई का आदेश दिया है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बागपत: पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ जवान गिरफ्तार

बागपत में पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ के जवान को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपी जवान की पत्नी गीता की लाश बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दी है।

23 जनवरी 2018