विज्ञापन
विज्ञापन

आंधी, बारिश से फसलें जमींदोज

mau Updated Wed, 17 Apr 2019 10:58 PM IST
बारिश और हवा से बेकार हुई गेहूं की फसल।
बारिश और हवा से बेकार हुई गेहूं की फसल।
ख़बर सुनें
जिले के विभिन्न इलाकों में तेज हवा के साथ कहीं बूंदाबांदी तो कहीं बारिश हुई। मौसम तो खुशनुमा हो गया, लेकिन प्रकृति ने किसानों पर कहर बरपा दिया।  बारिश से गेहूं तथा आम, अरहर की फसल को खासा नुकसान पहुंचा है। फसले जमींदोज हो गईं। खेतों में काटकर छोड़ा गया गेहूं का डंठल तेज आंधी में उड़ गया और मड़ाई के लिए रखे गए गेहूं के बोझ पूरी तरह भींग गए। ऐसे में कटाई मड़ाई बाधित हो गई है। एक पखवारे में दूसरी बार खेती किसानी पर प्रकृति ने कहर बरपाया है।
विज्ञापन
विज्ञापन
जिले में 97 हजार हेक्टेयर में गेहूं की खेती की गई है। फसल पककर तैयार है। अभी मात्र 11 प्रतिशत ही कटाई मंड़ाई हो पाई है कि प्रकृति ने किसानों पर मौसम का कहर बरपा दिया। बुधवार को सुबह से ही बदली और तेज हवा के चलने का क्रम शुरू हो गया था। दोपहर बाद तेज हवा के साथ बूंदाबांदी तो कहीं बारिश शुरू हुई। तेज हवा के साथ बारिश होने से फसलें जमीदोंज हो गई। कृषि विभाग सहित विभिन्न संस्थाओं के माध्यम से बीज की खेती कर रहे  बीज उत्पादक किसानों को फसल गुणवत्ता पर असर पड़ने का डर सताने लगा है। बारिश के बाद कटाई तथा मंड़ाई कार्य ठप होने से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें देखी जा रही है। तेज हवा चलने से आम में लगे फल झड़ गए। परदहां ब्लाक क्षेत्र के शिवकुमार यादव, हीरा प्रजापति, महेंद्र सिंह, रामसमुझ यादव का का कहना था कि खेत में मड़ाई के लिए रखे बोझ के भींग जाने से दाने के सड़ने का खतरा बढ़ सकता है।

कटाई मंडाई ठप हो गई है। ऐसे में कुछ समझ में नहीं आ रहा है। पिपरीडीह / रानीपुर  : क्षेत्र के पिपरीडीह, भार रैकवारेडीह, ओन्हाइच, खरगजेपुर, सुवराबोझ, बबुआपुर, सरेजा, मंसड़ी, उस्मानपुर, पतिला, हासपुर, रानीपुर क्षेत्र में तेज हवा के साथ बारिश हुई। इससे खेतों में खड़ी गेहूं की पकी फसल जमीदोज हो गई। वहीं आम में लगे फल झड़ गए। मधुबन: क्षेत्र के विभिन्न इलाकों में तेज हवा के साथ बूंदबांदी हुई। मौसम के रुख से किसान परेशान रहे।

कृषि विज्ञान केंद्र पिलखी के मुख्य वैज्ञानिक डॉ. वीपी सिंह का कहना है कि बारिश होने से गेहूं के दाने में नमी की मात्रा बढ़ गई है। डंठल में नमी होने से कटाई मंड़ाई कई दिनों तक नहीं हो पाएगी। मौसम साफ हो जाता है तो नुकसान नहीं होगा। लेकिन मौसम खराब होने की स्थिति में दाने में अंकुरण हो सकता है। किसानों को गेहूं को पूरी तरह सूखाकर और दवाओं को रखकर ही भंडारण करना चाहिए।

 

Recommended

देखिये लोकसभा चुनाव 2019 के LIVE परिणाम विस्तार से
Election 2019

देखिये लोकसभा चुनाव 2019 के LIVE परिणाम विस्तार से

जानिए अपने शहर के लाइव नतीजों की पल-पल की खबर
Election 2019

जानिए अपने शहर के लाइव नतीजों की पल-पल की खबर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

जीत के बाद पीएम मोदी का पहला भाषण, कहा बदनीयत से नहीं करूंगा कोई काम

जीत के बाद पीएम मोदी का पहला भाषण। हजारों कार्यकर्ताओं से भरा प्रांगण मोदी-मोदी के नारों से गूंज उठा।

24 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election