विद्यालय परिसर में चपरासी की गोली मारकर हत्या

Mau Updated Sat, 22 Dec 2012 05:30 AM IST
कोपागंज। क्षेत्र के धनवती बालिका विद्यालय के प्रांगण में गुरुवार रात एक चपरासी की गोली मारकर हत्या कर दी गई। पुत्र ने गांव के ही दो लोगों को नामजद सहित चार के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने शव को रात में ही अपने कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। हत्या का कारण पुरानी रंजिश मानी जा रही है।
धवरियासाथ गांव निवासी उदल और उसका पुत्र बिंदा राजभर गुरुवार रात धनावती बालिका विद्यालय के प्रांगण में स्थित शिव मंदिर पर भजन-कीर्तन सुनने गया था। उदल इस विद्यालय के प्रबंधक के दूसरे विद्यालय गंगादास उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में बतौर चपरासी था। मंदिर के समीप भजन कीर्तन के दौरान उदल अलाव के पास बैठकर आग ताप रहा था। इसी दौरान बाइक सवार चार बदमाश आए और उसके पैर और सीने में गोली मार दी। बदमाश अपनी गाड़ी लेकर फरार हो गए। स्थानीय लोग उसे अस्पताल लेकर गए। लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। सूचना पाकर पुलिस ने रात में ही शव को अपने कब्जे में लिया। इस घटना में उदल के पुत्र बिंद्रा ने पुरानी रंजिश में गांव के ही राहुल पुत्र शिवप्रकाश सिंह, राजा सिंह पुत्र विनोद सिंह सहित दो अज्ञात के विरुद्ध पुरानी रंजिश को लेकर मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस राहुल को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

बयान के चलते तो नहीं हुई हत्या?
मऊ। कोपागंज थाना क्षेत्र के धनावती बालिका विद्यालय के प्रांगण में हुई चपरासी की हत्या को लेकर जितनी मुंह उतनी बातें सामने आ रही हैं। लेकिन हत्या में आरोपी बनाया गया एक आरोपी जो पूर्व में हुए एक बलात्कार मामले में गवाह है, का नाम आने से कई सवाल खड़े हो गए हैं। डेढ़ वर्ष पूर्व अपहरण और बलात्कार के मामले में मृतक उदल के आरोपी पुत्र मथुरा सहित प्रबंधक बांकेलाल भी मुजरिम हैं। इसमें लड़की का बयान भी हो चुका है। बयान के बाद दो जनवरी 2013 को ही गवाही के बाद अंतिम फैसला सुनाया जाना था। ऐसे में उदल की मौत ने न सिर्फ पुलिस को उलझा दिया है। बल्कि मामले के गवाह को इस हत्या में नामजद होने के बाद हत्या को संदेश की नजर से भी देखा जा रहा है। इससे यह भी संभावना जताई जा रही है कि कहीं नाबालिग लड़की की बयान में फंस रहे आरोपियों ने ही तो नहीं साजिश रचकर गवाह सहित मुकदमे के पैरवीकारों को फंसाने की साजिश रची है।
वर्ष 2011 में जून माह में उदल के पुत्र मथुरा और विद्यालय प्रबंधक बांके सिंह सहित तीन के विरुद्ध गांव के ही एक लड़की को बहला फुसलाकर भगा ले जाने का मुकदमा दर्ज कराया गया था। इस मामले में अपहरण का मुकदमा दर्ज होने के बाद नाबालिग छात्रा के शारीरिक उत्पीड़न के बाद यह मामला बलात्कार में तरमीम हो गया था। तीनों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज होने के बाद हालांकि दो आरोपी बाहर हैं। लेकिन मुख्य आरोपी मथुरा जेल में है। गत 12 दिसंबर को बलात्कार पीडि़ता के बयान पर तीनों आरोपियों का फंसना तय माना जा रहा था। इस मामले के गवाह राजा सिंह की दो जनवरी 2013 को गवाही के बाद न्यायालय से फैसला आने की भी पूरी उम्मीद जताई जा रही है। ऐसे में इसी बीच मथुरा के पिता उदल राजभर की हत्या और उसके आरोपी बनाए गए गवाह राजा सिंह, लड़की के भाई राहुल सिंह से किसको फायदा और नुकसान मिल सकता है। पुलिस इस बिंदु को भी लेकर जांच पड़ताल कर रही है। मुकदमे की गवाही के अंतिम समय में क्यों हत्या हुई और मथुरा के पिता के मारे जाने से किसे और क्यों लाभ होगा। एक विद्यालय प्रांगण में आखिर एक चपरासी के मारने से किसको लाभ मिलेगा। हकीकत चाहे जो भी हो लेकर संदिग्ध परिस्थितियों में हुई हत्या ने सभी को सोचने पर विवश कर दिया है। पुलिस भी दर्ज मुकदमे के अलावा पुराने रंजिश और मुकदमे की पेंचदगी के बिंदु पर भी कार्य रही है। इस संबंध में क्षेत्राधिकारी अशोक यादव का कहना है कि मामले में दर्ज मुकदमे के अलावा भी कई बिंदुओं पर पड़ताल चल रही है।

पीडि़त लड़की की मां ने एसपी से लगाई गुहार
मऊ। कोपागंज थाना क्षेत्र के धवरियासाथ में हुई उदल राजभर की हत्या में नामजद आरोपी राहुल सिंह पुत्र स्व. श्रीप्रकाश को पुलिस द्वारा हिरासत में लेने के बाद बलात्कार पीडि़ता की विधवा मां ने एसपी से गुहार लगाई कि मामले में उच्चस्तरीय जांच कराई जाए। पीडि़त बेटी के साथ पहुंची रीता देवी ने बताया कि उसके पुत्र को पुरानी रंजिश के चलते फंसाया गया है। बताया कि बलात्कारियों द्वारा उसे पहले ही काफी यातनाएं दी जा चुकी हैं अब एक हत्या कर न सिर्फ उसके गवाह बल्कि उसके पुत्र को भी फंसाकर उन्हें मुकदमे से हटने के लिए विवश किया जा रहा है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी में नौकरियों का रास्ता खुला, अधीनस्‍थ सेवा चयन आयोग का हुआ गठन

सीएम योगी की मंजूरी के बाद सोमवार को मुख्यसचिव राजीव कुमार ने अधीनस्‍थ सेवा चयन बोर्ड का गठन कर दिया।

22 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper