बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

अधिवक्ताओं के मऊ बंद के आह्वान का व्यापारियों का भी समर्थन

Mau Updated Sat, 13 Oct 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
मऊ। दीवानी कचहरी के अधिवक्ता अफजाल अली के हत्यारोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर अधिवक्ताओं के मऊ बंद के आह्वान पर व्यापारियों ने शुक्रवार को अपनी दुकानें बंद रखीं। इससे गुलजार रहने वाले इलाकों में सियापा पसरा रहा है। अधिवक्ताओं ने कचहरी परिसर से बाइक जुलूस निकाल कर पूरे शहर का भ्रमण किया। व्यापार मंडल भी जुलूस में शामिल होकर अधिवक्ताओं के आंदोलन का समर्थन किया।
विज्ञापन

सिविल कोर्ट सेंट्रल बार की संघर्ष समिति ने बैठक कर शुक्रवार को मऊ बंद का निर्णय लिया था। साथ ही बंदी को सफल बनाने के लिए व्यापार मंडल के लोगों से भी सहयोग मांगा था। व्यापार मंडल के पदाधिकारियों ने व्यापारियाें से अपने प्रतिष्ठान बंद रखने की अपील किया। शुक्रवार को नगर क्षेत्र के प्रमुख बाजारों की ज्यादातर दुकानें बंद रहीं। अधिवक्ता बार अध्यक्ष राजेंद्र राय और महामंत्री रामकृत यादव के नेतृत्व में दीवानी कचहरी से जुलूस निकाल कर पूरे शहर का भ्रमण किया साथ ही जमकर नारेबाजी भी की। अधिवक्ताओं ने नारा दिया मऊ शहर में गुंडागर्दी नहीं चलेगी, नहीं चलेगी। जुलूस दीवानी कचहरी से चलकर जैसे आजमगढ़ मोड़ के पास पहुंचा वहां व्यापार मंडल के लोग भी जुलूस में शामिल हो गए। जूलूस रोडवेज, बाल निकेतन, सिंधी कालोनी होते हुए सदर चौक पहुंचा। बीच बीच में जो दुकानें खुली थीं, अधिवक्ताओं ने अनुरोध कर उसे बंद करा दिया। सदर चौक पहुंच कर बार अध्यक्ष राजेंद्र राय और महामंत्री रामकृत यादव ने कहा कि शहर में अपराध बढ़ रहा है। दिनदहाड़े अधिवक्ता की गोली मारकर हत्या कर दी गई। व्यापारियों पर भी हमला कर लूटपाट की जा रही है। कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज जिले में नहीं रह गई है। ऐसे में सभी को आगे आकर शहर में बढ़ रहे अपराध रोकने में सहयोग करना होगा। व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष उमाशंकर ओमर ने कहा कि मृतक अधिवक्ता का परिवार भी व्यापारी है ऐसे में हम लोग भी घटना का पर्दाफाश और सही हत्यारोपियों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग करते है। उन्होंने अधिवक्ताओं की लड़ाई में पूरा सहयोग देने का वादा किया। इसके अधिवक्ताओं का जुलूस संस्कृत पाठशाला होते हुए मिर्जाहादीपुर पहुंचा जहां अधिवक्ताओं ने प्रशासन के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। वहां से अधिवक्ता जुलूस लेकर मुंशीपुरा होते हुए दीवानी कचहरी वापस चले गए।


जुलूस से शहर का माहौल रहा गर्म
मऊ। अधिवक्ताओं का जुलूस जैसे ही दीवानी कचहरी से शहर के सहादतपुरा मुहल्ला पहुंचा पूरे शहर का माहौल गरमा गया। जो जहां था वहीं से अधिवक्ताओं के साथ हो लिया। सभी ने शहर में बढ़ रही आपराधिक घटनाओं पर चिंता व्यक्त किया। सब का कहना था कि जब कचहरी में अधिवक्ता सुरक्षित नहीं है तो वादकारियों का क्या हस्र होगा।


चौथे दिन भी न्यायिक कार्य से विरत रहे
मऊ। अधिवक्ता अफजाल अली की हत्या के आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर अधिवक्ताओं की मंगलवार से चल रही हड़ताल शुक्रवार को चौथे दिन भी जारी रही। अधिवक्ताओं के हड़ताल के चलते जिले में पूरी न्यायिक प्रक्रिया ठप हो गई है। कचहरी परिसर में पूरे दिन सन्नाटा छाया रह रहा है। हर ओर बस यही चर्चा चल रही है कि आखिर इतना समय बीतने के बाद पुलिस अब तक क्या कर रही है। लोग पुलिस की कार्य प्रणाली एवं मामले के खुलासे में हो रहे विलंब को लेकर काफी चिंतित दिखे।


तय करेंगे आंदोलन की रूपरेखा
मऊ। सिविल कोर्ट सेंट्रल बार एसोसिएशन के संघर्ष समिति की बैठक शुक्रवार को अपराह्न तीन बजे पुस्तकालय भवन स्थित महामंत्री के कक्ष में हुई। अधिवक्ताओं ने कहा कि शनिवार, रविवार और सोमवार को कचहरी में अवकाश है। ऐसे में मंगलवार को आमसभा की बैठक कर आंदोलन में बल प्रदान करने के लिए रूपरेखा तय की जाएगी। बैठक में पुलिस की कार्यप्रणाली पर नाराजगी जाहिर करते हुए घटना के चार दिन बाद भी हत्यारोपियों की गिरफ्तारी न होने पर रोष व्यक्त किया गया। बैठक में बार के अध्यक्ष राजेंद्र राय, महामंत्री रामकृत यादव, सदानंद राय, लालजी पांडेय, प्रभुनाथ सिंह, विनोद पांडेय, परवेज अहमद, देवेंद्र प्रताप सिंह, घनश्याम सिंह, हरिद्वार राय आदि लोग शामिल रहे।

अंधेरे में तीर चला रही है पुलिस
मऊ। दीवानी कचहरी के अधिवक्ता अफजाल अली की गोली मार की गई हत्या के चार दिन बीतने के बाद भी अपराधी अब तक पुलिस की गिरफ्त में नहीं आ सके। पुलिस कुछ लोगों को पूछताछ के लिए उठाई तो जरूर लेकिन उनसे अधिवक्ता की हत्या के संबंध में कुछ हासिल नहीं कर सकी। सूत्रों की माने तो अब तक पुलिस अपराधियों तक नहीं पहुंच सकी है। सारे आधुनिक तरीके पूरी तरह से विफल हो चुके हैं। पुलिस को विवेचना अभी शून्य से शुुरू करना है। जो भी टीमें हत्यारोपियों की गिरफ्तारी के लिए लगी है उनके लाख प्रयास के बाद भी अधिवक्ता के हत्यारोें तक पुलिस नहीं पहुंच सकी है।

कचहरी में रही पूरी सुरक्षा
फोटो
मऊ। सिविल कोर्ट सेंट्रल बार एसोसिएशन के प्रस्ताव पर जिला जज विजय प्रताप सिंह की पुलिस अधीक्षक जोगेंद्र कुमार व जिलाधिकारी भूपेंद्र एस चौधरी के साथ हुई वार्ता में कचहरी परिसर के सुरक्षा में लिए गए निर्णय के क्रम में शुक्रवार कोे पुलिस कचहरी के मुख्य द्वार पर मेटल डिटेक्टर लगा कर हर आने जाने वालों की जांच की गई। सुरक्षा की दृष्टि से चार सिपाहियों को कचहरी के मुख्य द्वार पर तैनात किया गया था। जो हर आने जाने वालों पर नजर रखे थे। वही प्रभारी जिला जज पीयूषचंद श्रीवास्तव ने न्यायिक अधिकारियों के साथ कचहरी परिसर का भ्रमण कर सुरक्षा का जायजा लिया। इस दौरान प्रभारी जिला जज ने उन स्थानों को भी देखा जहां पर सुरक्षा की दृष्टि से सीसी कैमरा लगाया जाना है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X