बेलौली विद्युत उपकेंद्र का ट्रांसफार्मर फिर फुुंका

Mau Updated Fri, 28 Sep 2012 12:00 PM IST
मधुबन/दुबारी। फतहपुर मंडाव ब्लाक अंतर्गत बेलौली विद्युत उपकेंद्र मेें पंद्रह दिनों बाद लगा नया मेन ट्रांसफार्मर गुरुवार को फिर जल गया। इससे दर्जनों गांवाें की आपूर्ति एक बार फिर ठप हो गई। यही हाल मोलनापुर स्थित विद्युत उपकेंद्र का है। उपकेंद्र से संबद्ध दर्जनों गांवों में पंद्रह दिन में सिर्फ चार घंटे ही बिजली मिल पाई है। बिजली के नहीं होने के कारण सिंचाई व्यवस्था ठप होने से धान की फसल सूख रही है। वहीं कुटीर उद्योग भी अंतिम सांस गिन रहे हैं। परेशान ग्रामीण आंदोलन करने की रणनीति तय करने में जुट गए हैं।
विद्युत उपकेंद्र बेलौली तथा मोलनापुर विद्युत उपकेंद्र से दर्जनों गांवों को विद्युत आपूर्ति की जाती है। उपकेंद्र का मेन ट्रांसफार्मर हफ्तों से फूंका पड़ा है। चारों तरफ हाहाकार मचा है। गुरुवार को ट्रांसफार्मर लगाया भी गया, लेकिन कुछ ही देर बाद धू-धू कर जल उठा। ट्रांसफार्मर के बार-बार फुंकने से लोगों का पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया है। नए ट्रांसफार्मर लगवाने के लिए लोग आंदोलन करने की रूपरेखा तय करने में जुट गए हैं। मोलनापुर विद्युत उपकेंद्र में तीन एमवीए का ट्रांसफार्मर खराब पड़ा है। पंद्रह दिन में अब तक मात्र चार घंटे ही बिजली मिल पाई है। इस संबंध में वीरेंद्र मोहन सिंह, कृष्णकांत शुक्ल, वीरबल प्रसाद, भीष्म यादव, अवधेश पांडेय, मुसाफिर यादव, सुनैना सिंह ने कहा कि उपकेंद्रों में विद्युत उपकेंद्रों में आए दिन तकनीकी खराबी आने से बिजली आपूर्ति बाधित होना आम बात हो गई है। धान की फसल में रेड़ा आने लगा है। ऐसे में धान की सिंचाई आवश्यक है, लेकिन बिजली न मिलने से खेती किसानी चौपट हो रही है। डीजल महंगा होने के चलते पंपिंगसेट से सिंचाई करना सबके वश की बात नहीं है। मिट्टी के तेल की कालाबाजारी बढ़ गई है। ऐसे में 40 रुपये लीटर की दर से खरीदना सबके लिए संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि विद्युत आपूर्ति व्यवस्था को अविलंब बहाल नहीं किया गया तो हम लोग आंदोलन को बाध्य हो जाएंगे।
जर्जर तार टूटने से ग्रामीण दहशत में
दोहरीघाट। क्षेत्र के विभिन्न इलाकों में जर्जर तार के टूटने से लोग दहशत में हैं। इससे कई दिनों तक बिजली गुल हो गई। जिससे कृषि कार्य ठप तो हो ही रहा है। कारोबारियों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। आबादी की तरफ गुजरे तारों के टूटने से लोग दहशत में हैं। लोगों ने आला अधिकारियों को अवगत कराया बावजूद जर्जर तारों को बदला नहीं जा सका है।
क्षेत्र के धनौली रामपुर, नौली, चिऊटीडांड़, कुसुम्हा, बहादुरपुर सहित विभिन्न गांवों में दशकों पूर्व विद्युतीकरण कार्य कराया गया है। तार जर्जर हो गए हैं। तेज हवा बहने पर स्पार्किगिं होने लगती है। ग्रामीणों की मानें तो तारों को बदलवाने कागज पर ही कर दिया जा रहा है। फाल्ट के चलतेकई दिनों तक बिजली गुल रहने से कृषि कार्य सहित अन्य कारोबार पर असर पड़ रहा है। इस संबंध में प्रजापति राय, विनय कुमार राय, श्रीराम यादव, श्रीनिवास प्रसाद ने कहा कि जर्जर तारों के आए दिन टूटने से कई दिनों तक विद्युत आपूर्ति बाधित हो जा रही है। इससे काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। शिकायत के बाद भी जर्जर तारों को बदला नहीं जा सका है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017