कैसे हो सिंचाई जब बीमार पड़े 19 राजकीय नलकूप

Mau Updated Fri, 28 Sep 2012 12:00 PM IST
मऊ। जनपद में राजकीय नलकूपों के संचालन की स्थिति बेहद खराब है। ज्यादातर नलकूपों की नालियां जर्जर हाल में है। नाली क्षतिग्रस्त होने के चलते दूर वाले खेतों में पानी ही नहीं पहुंच पाता है। अधिकारियों और कर्मचारियों की भारी कमी होने के चलते भी विपरीत असर पड़ रहा है। सरकारी आंकड़ों में मात्र 19 राजकीय नलकूप खराब दिखाए गए हैं। इसके अलावा ही कई नलकूप मामूली रूप से खराब होने के चलते अनुपयोगी साबित हो रहे हैं। महकमे के आला अधिकारी धन न होने का रोना रो रहे हैं।
सिंचाई व्यवस्था को चुस्त दरुस्त करने के लिए शासन की ओर से 298 नलकूपों की स्थापना की गई है। शासन प्रशासन की लचर कार्यप्रणाली के चलते किसानों को लाभ नहीं मिल पा रहा है। महकमे की ओर से नलकूपों की स्थिति में सुधार के लिए जिला योजना में 65.39 लाख का प्रस्ताव भेजा गया है। अधिकारियों के अनुसार प्रस्ताव तो कई बार भेजा गया, लेकिन धन नहीं मिला। किसानों के अनुसार तेज धूप होने से नमी तेजी से कम हो रही है। ऐसे में सिंचाई की सख्त जरूरत है। लेकिन तमाम नलकूपों के रख रखाव ठीक न होने तथा तथा नालियों के जर्जर हाल में रहने से किसानों को लाभ नहीं मिल पा रहा है। बिगड़े पड़े नलकूपों पर नजर डाला जाए तो फतहपुर मंडाव ब्लाक में दुबारी के लक्ष्मीपुर, नेवादा के गोपालपुर, लौवासाथ, तिघरा, दतौड़ा जगभानपुर में राजकीय नलकूप काफी समय से खराब पड़ा है। इसी तरह चकरा में मोटर चला है। इसी तरह मखना में पंप खराब पड़ा है। जबकि पहदेवाजीत मेें केबिल जल गई है। इसी तरह बड़रांव ब्लाक में अधिकांश राजकीय नलकूपों की नालियां क्षतिग्रस्त होने के चलते सभी पानी इधर उधर बह जा रहा है। यही हाल अन्य ब्लाकों का है। इस संबंध में किसान संजय सिंह, रामनवल राही, किसान नेता देव प्रकाश राय, सूर्यभान यादव ने कहा कि राजकीय नलकूपों की नालियां दशकों पूर्व बनी है। ऐसे में नालियों के पुनर्निर्माण तथा जर्जर उपकरणों को बदलने के लिए कई बार आला अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा गया लेकिन आश्वासन के सिवाय कुछ भी हासिल नहीं हो सका है।

बारह राजकीय नलकूपों का होगा कायाकल्प
मऊ। जिले के नलकूपों की स्थिति को सुधारने के लिए शासन की ओर से चलायी जा रही डा. राममनोहर लोहिया योजना के तहत छह राजकीय नलकूपोें तथा पाइप लाइन वाले छह यानि 12 नलकूपों को चयनित किया गया है। योजना के तहत नाली का पुनर्निमाण, जर्जर उपकरणों को बदल दिया जाएगा।

जिले में स्थापित होंगे नौ नए राजकीय नलकूप
मऊ। सिंचाई व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए शासन की ओर से नौ नलकूप जिले के विभिन्न क्षेत्रों में लगाए जाएंगे। बड़रांव ब्लाक के पकड़ी बेलभद्र, डाड़ी, फतहपुर मंडाव ब्लाक के मर्यादपुर मारुफपु़र, कोपागंज ब्लाक के सरवां गरीबपुर, दादनपुर अहिरौली, परदहां ब्लाक के खंडेरायपुर, रतनपुरा ब्लाक के राजनपुर तथा मुहम्मदाबादगोहना ब्लाक के अन्नूपुार में प्रस्तावित हैं।

रिक्त हैं अधिकारियों और कर्मचारियों का पद
मऊ। नलकूप विभाग में अधिकारियों और कर्मचारियों की भारी कमी होने के चलते नलकूप संचालन पर विपरीत असर पड़ रहा है। इससे खेती किसानी पर असर पड़ रहा है। 298 राजकीय नलकूपों के सापेक्ष नलकूप चालकों की संख्या आधी से भी कम है। इसी तरह अवर अभियंता का 19 पद स्वीकृत है लेकिन मात्र छह ही तैनात हैं। इसी तरह चार सहायक अभियंता के सापेक्ष एक सहायक अभियंता की तैनाती है।

क्या कहते हैं अधिकारी
नलकूप विभाग के अधिशासी अभियंता अच्युतानंद का कहना था कि सीमित संसाधनों से काम चलाया जा रहा है। सिंचाई व्यवस्था को बेहतर बनाने का प्रयास जारी है। जिला योजना में प्रस्ताव भेजा गया है।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

हरियाणाः यमुनानगर में 12वीं के छात्र ने लेडी प्रिंसिपल को मारी तीन गोलियां, मौत

हरियाणा के यमुनानगर में आज स्कूल में घुसकर प्रिंसिपल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मामले में 12वीं के एक छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper