मारुति वैन के पहिए में फंसा मासूम घिसटता रहा

Mau Updated Fri, 28 Sep 2012 12:00 PM IST
कोपागंज (मऊ)। थाने के सहरोज गांव में गुरुवार की सुबह घर से स्कूल जा रहे मासूम की मारुति वैन के धक्के से पिछले पहिए में फंसकर मौत हो गई। कुछ दूरी तक घसीटने के बाद चालक वैन लेकर भाग निकला। घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने मतलूपुर-डांड़ी बाईपास पर शव रखकर जाम लगा दिया। लगभग तीन घंटे तक चला जाम एसडीएम के आश्वासन पर खत्म हुआ।
आदर्श अंबेडकर प्राथमिक पाठशाला की कक्षा एक का छात्र आठ वर्षीय सुमित कुमार पंक्चर बनाने वाले श्यामसुंदर का पुत्र था। गुरुवार सुबह घर से स्कूल के लिए चला सुमित अंबेडकर प्रतिमा के समीप सड़क पार कर रहा था तभी मतलूपुर की ओर तेजी से जा रही वैन की चपेट में आ गया। आसपास मौजूद लोग जब तक मौके पर पहुंचते, सुमित की मौत हो चुकी थी। जानकारी पाकर श्यामसुंदर और उसकी पत्नी मां मीना भागे-भागे आए। बेटे का शव देख दोनों बेसुध से हो गए। ग्रामीणोें की भीड़ भी उत्तेजित हो गई। गुस्साए लोगों ने मतलूपुर-डांड़ी बाईपास पर शव रख कर जाम लगा दिया। ये सभी मुआवजे और सड़क पर चौबीस घंटे के भीतर गति अवरोधक लगाए जाने की मांग कर रहे थे। सूचना पाकर थानाध्यक्ष आ गए लेकिन प्रदर्शनकारियों ने उनकी एक न सुनी। इसके बाद क्षेत्राधिकारी घोसी और एसओ दक्षिणटोला भी पहुंचे। ग्रामीणों के अड़े रहने पर उप जिलाधिकारी सदर मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों को उन्होंने चौबीस घंटे के भीतर स्पीड ब्रेकर लगवाने और मुआवजे की मांग पर भी विचार करने का आश्वासन दिया। तब जाकर प्रदर्शनकारी माने और पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए कब्जे में लिया। जाम लगाने वालों में प्रधानपति योगेंद्र प्रजापति, अरुण राय, धर्मेंद्र भारती, संतोष, रामाधार, हलचल राम आदि रहे। उधर, दुर्घटना की जानकारी पाकर सपा जिलाध्यक्ष शैलेंद्र यादव साधू, सांसद दारा चौहान के प्रतिनिधि देवेंद्र चौहान भी गांव में पहुंचे और परिजनों को सांत्वना दी। उधर, सुमित की मौत की सूचना पर विद्यालय बंद कर दिया गया।

महीने भर में हुए पांच हादसे
कोपागंज (मऊ)। कभी-कभी सड़क का अच्छा होना भी राहगीरों के लिए खतरे का सबब बन जाता है। मतलूपुर-डांड़ी बाईपास रोड पर एक महीने में पांच हादसे हो चुके हैं हालांकि सुमित का दुर्भाग्य रहा और उसकी मौत हो गई। गांव के बीच से गुजर रहे इस बाईपास रोड पर ग्रामीणों ने अविलंब गति अवरोधक न लगाए जाने पर पुन: प्रदर्शन और जाम करने की चेतावनी दी है।

बडे़ बेटे की मौत से परिजनों पर टूटा वज्रपात
कोपागंज (मऊ)। गांव में ही साइकिल का पंक्चर बनाने वाले श्यामसुंदर के छह सदस्यीय परिवार के बड़े बेटे सुमित ने जब गांव के ही विद्यालय में पहली कक्षा में दाखिला लिया तो श्यामसुंदर की बाछें खिल उठी थीं। वह सुमित को पढ़ा-लिखाकर बड़ा आदमी बनाने के सपने देख रहा था। लेकिन अब सुमित की मौत ने उसे बुरी तरह तोड़ दिया है। पत्नी मीना की हालत रो-रोकर खराब हो गई है। दोनों बेटियां और छोटा बेटा भी रोते ही जा रहे थे। श्यामसुंदर बार-बार यही कह रहा था कि बेटा स्कूल जाने लगा था। यह देख कर मन में कई सपने पाल लिए थे। मैंने क्या बिगाड़ा था जो भगवान ने मुझे यह दिन दिखाया।

Spotlight

Most Read

Shimla

वन भूमि से 416 पेड़ काटने के मामले में आरोपी गिरफ्तार

वन भूमि से 416 पेड़ काटने के मामले में आरोपी गिरफ्तार

20 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper