विज्ञापन
विज्ञापन

किसानों का बकाया डेढ़ करोड़, खाते में दिखाया शून्य

Mau Updated Mon, 17 Sep 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
मऊ। शासन की ओर से चलायी जा रही कल्याणकारी योजनाओं का लाभ विभागीय लापरवाही के चलते किसानों को मिलता नजर नहीं आ रहा है। सरकार जहां धान खरीद की योजना बना रही है। वहीं किसानों को अभी तक उधार बेचे गए गेहूं का भुगतान पाने के लिए अधिकारियों के कार्यालय का चक्कर काटना पड़ रहा है। जिले के विभिन्न इलाकोें में उप्र कर्मचारी कल्याण निगम के गेहूं क्रय केंद्रों पर गेहूं बेचने वाले किसानों का डेढ़ करोड़ से अधिक का बकाया चल रहा है, लेकिन महकमे की ओर से सरकारी अभिलेख में किसानों का बकाया शून्य दिखा दिया गया है।
विज्ञापन
विज्ञापन
शासन की ओर से जनपद में उप्र कर्मचारी कल्याण निगम के कैथौली, बबुआपुर, ब्राह्मणपुरा, कुर्थीजाफरपुर, पीउवाताल सहित छह केंद्र खोले गए थे। किसानों को फसल का उचित मूल्य दिलाने के लिए गेहूं खरीद योजना के तहत त्वरित भुगतान करने के लिए शासन की ओर से फरमान जारी किया गया था, लेकिन विभागीय लापरवाही के चलते किसानों का भुगतान अभी तक नहीं किया जा सका है। अधिकारियों की मानें तो छह केंद्रों पर किसानों से खरीदे गए 4634.40 एमटी गेहूं 594.24 लाख की खरीद की गई थी। जिसमेें किसानों का डेढ़ करोड़ का बकाया चल रहा है। महकमे के अधिकारियों ने तो सभी किसानों को चेक काट दिया गया है, लेकिन जब किसानों ने बैंक में जमा किया तो निगम के खाते में पैसा ही नहीं था। उल्टे किसानों के खाते से ही पैसा ही कट गया। रानीपुर ब्लाक के दीमा मौर्य का 76.500 लाख, संतोष सिंह का 60 लाख का बकाया चल रहा है। इसी तरह बड़रांव ब्लाक के 104 किसानों का 60 लाख से अधिक का बकाया चल रहा है। इसी तरह रतनपुरा ब्लाक तथा कोपागंज ब्लाक के क्रय केंद्रों पर लाखों का बकाया चल रहा है। यही हाल अन्य केंद्रों का भी है। किसान जहां अपना गेहूं 1285 रुपया प्रति कुंतल गेहूं बेचकर भुगतान पाने के लिए चक्कर काट रहे हैं। जबकि आढ़तिये इस समय गेहूं बेचने वाले किसानों के घर जाकर 1400 रुपया प्रति कुंतल की दर से भुगतान कर रहे हैं। परेशान किसानों ने मामले की जांच कराकर लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की है। इस बाबत जिला विपणन अधिकारी डीएन सिंह का कहना था कि उप्र कर्मचारी कल्याण निगम ने जो रिपोर्ट भेजी है उसमें किसानों के बकाया को शून्य दिखाया गया है।
इनसेट
बकाया चल रहा है 104 किसानों का 60.36 लाख
संवाददाता
बोझी बाजार। बड़रांव ब्लाक के पीउवाताल स्थित गेहूं क्रय केंद्र से संबद्ध गांवों के सैकड़ों किसानों का बकाया भुगतान नहीं किया जा सका है। केंद्र पर नौ हजार नौ सौ 85 कुंतल गेहूं की खरीद की गई थी। किसानों को एक करोड़ 28 लाख 30 हजार 725 रुपये के सापेक्ष 67 लाख 94 हजार 337 रुपये का ही भुगतान किया जा सका है। 104 किसानों का 60 लाख 36 हजार 352 रुपये बकाया चल रहा है। परेशान किसान चेक लेकर क्रय केंद्र प्रभारी को ढूंढते फिर रहे हैं।
प्रशासन की ओर से किसानों को गेहूं का उचित मूल्य दिलाने के लिए उप्र कर्मचारी कल्याण निगम का गेहूं क्रय केंद्र बड़रांव ब्लाक के पीउवाताल गांव में खोला गया था। सितंबर माह बीतने को है, लेकिन किसानों को बकाया भुगतान नहीं किया जा सका है। इस संबंध में शांति देवी, चंद्रभान, कालिका यादव, वीरेंद्र सिंह, राजन चौबे, उमेश सिंह, सूर्यभान, रामशरीख, रविंद्र नाथ, रामनाथ, हरिहर, महेंद्र यादव, लीलावती आदि ने कहा कि खेती से घर का काम चलता है। ऐसे में गेहूं बेचने के कई माह बाद चेक भी मिला तो निगम के खाते में पैसा नहीं था। उल्टे हम लोगों का ही पैसा कट गया। शिकायत के बाद भी महकमे के अधिकारी कुछ सुनने के लिए तैयार नहीं हैं। गेहूं के बकाया का अविलंब भुगतान नहीं किया गया तो हम लोग चुप नहीं बैठेंगे।
इनसेट
क्या कहते हैं अधिकारी
जिला गेहूं खरीद अधिकारी व अपर जिलाधिकारी पीपी सिंह का कहना था कि किसानों को बकाया का भुगतान दिलाया जाएगा। मामले की जांच की जाएगी। जांच में दोषी पाए गए अधिकारी व कर्मचारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

लोकसभा चुनाव में आजम खान से हारीं जया प्रदा करेंगी BJP में 'गद्दारी' की शिकायत

लोकसभा चुनाव 2019 में हाई प्रोफाइल सीट रामपुर से भाजपा प्रत्याशी जया प्रदा का बयान सामने आया है। जया प्रदा ने भाजपा के भीतरघात को अपनी हार का कारण बताया है।

24 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree