विज्ञापन
विज्ञापन

विभागीय उपेक्षा से दम तोड़ रही संचयिका

Mau Updated Mon, 17 Sep 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
मऊ। बचत के महत्व को बताने और अल्प बचत के उद्देश्य से शुरू की गई संचयिका जैसी महत्वपूर्ण योजनाएं विभागीय उपेक्षा के चलते दम तोड़ती नजर आ रही हैं। संचयिका दिवस पर जब पड़ताल करने की कोशिश की गई तो अधिकांश लोगों को इसके बारे में पता भी नहीं है कि संचयिका होती क्या है। जबकि जिले में एक बाकायदा महकमा बनाया गया है, जो लोगों को छोटी-से छोटी बचत के लिए उकसाए व जागरुक करे। लेकिन वर्षों से संचयिका खाते का संचालन बंद चल रहा है। विभागीय अधिकारी हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
बच्चोें में बचपन से बच्चों से छोटी बचत करने की आदत डालने के लिए 15 सितंबर को संचयिका दिवस के रूप में पूरे विश्व में मनाया जाता है। एक रुपया बचाना एक रुपये कमाने के बराबर है। यह धारणा व्यक्ति में विकसित होती है, तो देश में किसी भी भावी संकट को आसानी से निपटा जा सकता है। सरकार ने कक्षा छह से 12 वीं तक के छात्रों में बचत को कानूनी रूप देते हुए बाकायदा स्कूलों में संचयिका बैंक की व्यवस्था की थी। जिसमेें बकायदा बच्चे अपने पाकेटमनी से महीने में 10 रुपये से अधिक की बचत कर सकते थे। शिक्षा समाप्ति के बाद जब उन्हें इसकी जरूरत महसूस होती थी वे अपने संचयिका खाते से साधारण प्रार्थना पत्र पर अपने कक्षाध्यापक से नोड्यूज कराकर अपना पूरा पैसा संचयिका प्रभारी से ले सकते थे। इसका संचालन जिला अल्प बचत अधिकारी के निर्देशन में डाकघरों में खाता खोल कर किया जाता था, लेकिन दुर्भाग्य से न तो इसमें विद्यालयों की रुचि रही और न ही डाक विभाग और न ही अल्प बचत विभाग ने इस पचड़े में पड़ना उचित समझा। जबकि जनपद में कक्षा छह से बारहवीं में लगभग छह लाख से अधिक छात्र पढ़ते हैं। हालत यह है कि इस योजना के तहत वर्ष 2005 से संचयिका खाते का संचालन ही नहीं हो रहा है। आला अधिकारी सरकार से टेबुलेशन चार्ट न आने का रोना रो रहे हैं। काफी समय से संचयिका खाते का संचालन न होने से अब शायद ही किसी स्कूल में संचयिका का मतलब किसी को मालूम होगा और शायद ही गुरुजी कभी किसी छात्र को यह समझाते होंगे कि अपने बुरे दिनों के लिए हर व्यक्ति को कुछ न कुछ बचाकर रखना चाहिए।

इनसेट
क्या कहते हैं अर्थ शास्त्री
रामबचन सिंह राजकीय महिला महाविद्यालय बगली पिजड़ा के प्राचार्य व अर्थशास्त्री डा.नंदलाल मौर्या कहते हैं कि बचत व कर्ज एक दूसरे के पूरक हैं। अगर किसी समाज में बचत करने से ज्यादा कर्ज लेने की प्रवृत्ति बढ़ जाए तो वह अपने आप पराश्रित हो जाएगा और छोटी बचत का महत्व बड़ी बचत से कहीं ज्यादा होता है, क्योंकि इससे सहभागिता और भी बढ़ जाती है। ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी छोटी बचत का महत्व बरकरार है। किंतु शहरों के अंधानुकरण में नया समाज बचत को भूलता जा रहा है। भारत में सोने के गहनों का महत्व शायद इसी बचत का प्रतीक है। अगर किसी देश में संचय की भावना न हो तो उसका विकास भी अवरुद्ध हो जाएगा।

इनसेट
क्या कहते हैं अधिकारी
सहायक निदेशक बचत कमला प्रसाद का कहना था कि सरकार से संचयिका का प्रपत्र व टेबुलेशन चार्ट ही नहीं आया है। ब्याज दर का पता ही नहीं है।

Recommended

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
Astrology

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
Astrology

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Mau

चंदा मांगने को लेकर भिड़े दो पक्ष, एक की मौत

चंदा मांगने को लेकर भिड़े दो पक्ष, एक की मौत

25 मई 2019

विज्ञापन

संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी का संबोधन, लोकसभा चुनाव को बताया समाज को एक करने का जरिया

कैबिनेट गठन के लिए एनडीए की बैठक में पीएम मोदी का संबोधन। मोदी ने सहयोगी दलों से एकता से कार्य करने की अपील की।

25 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree