गलती किसी की खामियाजा भुगत रहे नौनिहाल

Mau Updated Sun, 09 Sep 2012 12:00 PM IST
मऊ। परिषदीय विद्यालयों में कनवर्जन मनी का लाखों रुपये का बकाया होने से नौनिहालों को भूखे पेट ही घर जाना पड़ रहा है। वहीं उधार से मिड-डे-मील का भोजन बनने से खाने की गुणवत्तापरक पर भी सवाल उठते हैं। कई ब्लाक के दर्जनों स्कूलों में भोजन बंद होने की स्थिति आ गई है।
जिले में 1042 प्राथमिक तथा 442 उच्च प्राथमिक विद्यालय हैं। बच्चों को कुपोषण से बचाने के लिए सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर मध्याह्न भोजन योजना शुरू की गई। लेकिन मानिटरिंग न होने से बच्चों को योजना का लाभ मिलता नजर नहीं आ रहा है। हर माह कनवर्जन मनी तथा खाद्यान्न न आने से बच्चों को भूखे पेट घर जाना पड़ रहा है। प्रधानों के अनुसार कनवर्जन मनी तथा खाद्यान्न हर माह न आने से दुकानों से उधार लेकर बच्चों को मिड-डे-मील का भोजन बनवाया जा रहा है। सूत्रों की माने तो महकमे की ओर से चार ब्लाकों के उच्च प्राथमिक विद्यालयों का जुलाई माह तक का कनवर्जन मनी 75 लाख 95 हजार 34 रुपये तथा प्राथमिक विद्यालयों का 96 लाख 89 हजार रुपये भेज दिया गया है। परदहां बड़रांव, रतनपुरा, कोपागंज तथा मुहम्मदाबादगोहना का जुलाई माह से ही बकाया चल रहा है। यही हाल खाद्यान्न का है। महकमे के आला अधिकारी छात्र संख्या के हिसाब से हर माह खाद्यान्न भेजने का दावा कर रहे हैं। जबकि ग्राम प्रधानों द्वारा कटौती की बात की जा रही है। महकमे के आला अधिकारी कनवर्जन मनी तथा खाद्यान्न का हिसाब हर माह न देने की बात कह रहे हैं। सूत्रों की मानें तो महकमे की ओर से भेजा गया 90 लाख का चेक बाउंस हो गया है। विद्यालयों में कनवर्जन मनी तथा खाद्यान्न हर माह दुकानों से उधार आने से बच्चों को गुणवत्तापरक भोजन नहीं मिल पा रहा है। दुकानदारों ने भी उधार देने से हाथ खड़ा कर दिया है। दर्जनों विद्यालयों में मिड-डे-मील बंद होने की स्थिति में है। गलती चाहे जिसकी हो आखिरकार खामियाजा तो नौनिहालों को ही भुगतना पड़ रहा है।

2.73 लाख का चल रहा बकाया
कोपागंज। ब्लाक के दर्जनों विद्यालयों में मिड-डे-मील का खाद्यान्न तथा कनवर्जन मनी का बकाया चल रहा है। कनवर्जन मनी बकाया रहने वाले विद्यालयों पर नजर डाला जाए तो शहरोज गांव के तीन प्राथमिक तथा तीन जूनियर हाईस्कूलों में 75 हजार रुपये, प्राथमिक तथा उच्च प्राथमिक विद्यालय जयरामगढ़ मेें 62 हजार, कोपाकोहना में दो प्राथमिक तथा एक उच्च प्राथमिक विद्यालय में अप्रैल माह से 1.36 लाख का बकाया चल रहा है। इस संबंध में संजय सिंह, रामनवल राही, रणधीर सिंह, बच्चेलाल राजभर तमाम अभिभावकों ने मामले की जांच कराने की मांग की है।

दो दर्जन विद्यालयों में बंद चल रहा एमडीएम
रतनपुरा। ब्लाक के अधिकांश परिषदीय विद्यालयों में मिड-डे-मील योजना में व्यापक अनियमितता से बच्चों को योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। प्रधानों तथा शिक्षा विभाग के आला अधिकारियों की खींचातानी से बच्चों को भूखे पेट ही घर जाना पड़ रहा है। रतनपुरा ब्लाक के लगभग 90 प्रतिशत विद्यालयों मेें पूरे महीने एमडीएम का भोजन नहीं बन पा रहा है। कारण कि खाद्यान्न कम आना और कनवर्जन मनी का बकाया रहना है। इस संबंध में दतौड़ा ग्राम प्रधान धनरजिया देवी, ग्राम प्रधान बिलौझा राजाराम राजभर, रुधनी देवी, इटौरा की श्रीमती सुनीता सिंह, रामाश्रय गुप्ता, रामजन्म राजभर, करउत ग्राम प्रधान मनोज तथा नगवा ग्राम प्रधान श्रीमती उर्मिला चौहान सहित दो दर्जन ग्राम प्रधानों का कहना था कि छात्र संख्या के हिसाब से न तो खाद्यान्न मिलता है और न ही कनवर्जन मनी। खंड शिक्षा अधिकारी का कहना था कि विद्यालयों के स्थलीय निरीक्षण के बाद कार्रवाई की जाएगी।

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी मनोहर प्रसाद का कहना था कि महकमे की ओर से भेजे गए खाद्यान्न तथा कनवर्जन मनी का ग्राम प्रधानों द्वारा हर माह हिसाब ही नहीं दिया जाता है। विद्यालयों में अधिक छात्र संख्या दिखाकर खाद्यान्न तथा कनवर्जन मनी की मांग की जाती है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

राहुल गांधी के काफिले का विरोध करने पर बवाल, भाजपाइयों को कांग्रेसियों ने पीटा

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का विरोध जताने पहुंचे भाजपाइयों की कांग्रेसियों से भिड़ंत हो गई। जिसमें कांग्रेसियों ने भाजपाइयों की पिटाई कर दी।

15 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper